एडवांस्ड सर्च

INLD से अलग हुई बसपा, अब लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी से हुआ गठबंधन

हरियाणा में बहुजन समाज पार्टी(बसपा) ने इंडियन नेशनल लोकदल के साथ करीब 10 महीने पुराना गठबंधन तोड़ दिया है. अब बसपा ने बीजेपी के बागी सांसद राजकुमार सैनी की लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के साथ नए गठबंधन का ऐलान किया है.

Advertisement
सतेंदर चौहान [Edited by: देवांग दुबे]नई दिल्ली, 09 February 2019
INLD से अलग हुई बसपा, अब लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी से हुआ गठबंधन बसपा सुप्रीमो मायावती(फाइल फोटो)

हरियाणा में बहुजन समाज पार्टी(बसपा) ने इंडियन नेशनल लोकदल के साथ करीब 10 महीने पुराना गठबंधन तोड़ दिया है. अब बसपा ने बीजेपी के बागी सांसद राजकुमार सैनी की लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के साथ नए गठबंधन का ऐलान किया है.

शनिवार को चंडीगढ़ में दोनों पार्टियों के नेताओं ने गठबंधन की घोषणा की. इस नए गठबंधन ने सीटों के बंटवारे का फार्मूला भी तय कर लिया है. लोकसभा चुनाव में बसपा 10 में से 8 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के हिस्से 2 सीटें आई हैं.

इसी तरह से विधानसभा चुनाव में लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी 55 और बसपा 35 सीटों पर लड़ेगी. हालांकि कौन सी सीट किसके हिस्से आएगी, यह बंटवारा बाद में तय होगा. शनिवार को चंडीगढ़ में बसपा के हरियाणा प्रभारी डॉक्टर मेघराज सिंह और लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के अध्यक्ष राजकुमार सैनी ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नए गठबंधन का ऐलान किया.

गठबंधन को लेकर दोनों पार्टियां पिछले कई दिन से सियासी कसरत में लगी हुई थीं. इसी का नतीजा है कि गठबंधन के ऐलान के साथ दोनों पार्टियों ने सीटों के बंटवारे पर भी लगे हाथ घोषणा कर दी.  

डॉक्टर मेघराज सिंह ने कहा कि सीटों के बंटवारे पर फैसला हो चुका है और दोनों ही पार्टियां इस पर सहमत हैं. जल्दी ही यह भी फैसला कर लिया जाएगा कि कौन सी सीटें किस पार्टी के खाते में होंगी. साथ ही उन्होंने इनेलो के साथ गठबंधन तोड़ने की दलील पर कहा कि चौटाला परिवार दो फाड़ हो चुका है. इस विघटन से उनकी सियासी ताकत कमजोर हुई है और इसके अलावा जींद चुनाव में पार्टी को मिली करारी शिकस्त ने भी बसपा को अपना हाथ झटकने का बहाना दे दिया है.

दरअसल बसपा सुप्रीमो मायावती प्रधानमंत्री पद की दौड़ में अपने हाथी पर ज्यादा से ज्यादा सांसदों को सवार करना चाहती हैं. इसी कवायद के चलते मायावती ने लोकसभा की 8 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है. बीजेपी से बगावत कर अपनी अलग पार्टी खड़ी करने वाले कुरुक्षेत्र के सांसद राजकुमार सैनी मुख्यमंत्री बने के लिए महत्वाकांक्षी बने हुए हैं. लिहाजा उन्होंने विधानसभा की 90 में से 55 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है, जबकि बहुजन समाज पार्टी 35 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े करेगी.

ऐसे में दोनों पार्टियों के बीच का एजेंडा साफ हो गया है. बहुजन समाज पार्टी संसद में हरियाणा से अपनी संख्या में इजाफा चाहती है और राजकुमार सैनी मुख्यमंत्री बनने के लिए अपना जोड़-तोड़ लगाने में जुटे हैं. राजकुमार सैनी ने कहा कि यह दिलों का गठबंधन है. दोनों पार्टियों की विचारधारा मेल खाती है और हमारे बीच गठबंधन की मांग लंबे समय से चली आ रही थी. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay