एडवांस्ड सर्च

जीतू वाघाणी: लेउवा पाटीदार समुदाय से आने वाला वह नेता, जिसके हाथ में है गुजरात बीजेपी की कमान

लेउवा पाटीदार समुदाय से आने वाले वाघाणी ने अपने राजनीति सफर की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और बीजेपी युवा मोर्चा से की. मौजूदा समय में भावनगर (पश्चिम) से विधायक जितेंद्र सावजी वाघाणी यानि जीतू वाघाणी गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष हैं.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: विशाल कसौधन]अहमदाबाद, 15 March 2019
जीतू वाघाणी: लेउवा पाटीदार समुदाय से आने वाला वह नेता, जिसके हाथ में है गुजरात बीजेपी की कमान नरेंद्र मोदी के साथ जीतू वाघाणी (फाइल फोटो)

बीजेपी एक तरीके से गुजरात की पहचान हो गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात से ही आते हैं. ऐसे में लोकसभा चुनाव के दौरान गुजरात बीजेपी अध्यक्ष का दायित्व काफी बढ़ जाता है. मौजूदा समय में भावनगर (पश्चिम) से विधायक जितेंद्र सावजी वाघाणी यानि जीतू वाघाणी गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष हैं.

लेउवा पाटीदार समुदाय से आने वाले वाघाणी ने अपने राजनीति सफर की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और बीजेपी युवा मोर्चा से की. वह युवा मोर्चा के गुजरात प्रदेश अध्यक्ष भी रहे. 2007 के गुजरात विधानसभा चुनाव में वो भावनगर शहर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र लड़े थे. वाघाणी को वरिष्ठ कांग्रेस नेता शक्तिसिंह गोहिल ने करीब सात हजार से अधिक मतों से हरा दिया था.

इसके बाद 2012 में वाघाणी ने भावनगर (पश्चिम) विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और इस बार उन्होंने पूरे सौराष्ट्र क्षेत्र में सबसे अधिक अंतर से अपनी सीट जीती. 2016 में विजय रुपाणी के मुख्यमंत्री बनने के बाद वाघाणी को गुजरात बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया था. 2017 के विधानसभा में जीतू वाघाणी एक बार फिर भावनगर पश्चिम सीट से विधायक बने हैं.

गुजरात में जब नरेंद्र मोदी गैर-पाटीदार मुख्यमंत्री थे, तो पार्टी ने लउवा पाटीदार समुदाय के आरसी फालडू को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष चुना था. फालडू के जरिए भाजपा ने राज्य में जातीय समीकरणों का संतुलन बरकरार रखा था. ठीक उसी तरह भाजपा ने वाघाणी को अध्यक्ष बनाकर जातीय समीकरण को संतुलित रखा. खासतौर पर पाटीदार आंदोलन के दौरान लेउवा पाटीदारों को अपने पक्ष में लाने के लिए वाघाणी को ट्रम्प कॉर्ड की तरह बीजेपी ने इस्तेमाल किया.

जीतू वाघाणी का जन्म 27 अक्टूबर 1970 को भावनगर जिले के वरतेज में हुआ था. वाघाणी की प्राथमिक शिक्षा सनातन धर्म सरकारी हाईस्कूल में हुई. इसके बाद उन्होंने एमजे कॉलेज ऑफ कॉमर्स भावनगर से स्नातक की. कॉलेज के दिनों से ही शाखा से जुड़े वाघाणी के दो बच्चे है. बेटे का नाम मीत वाघाणी और बेटी का नाम भक्ति वाघाणी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay