एडवांस्ड सर्च

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को इस वजह से ट्विटर पर मांगनी पड़ी माफी

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सरकार के उन मंत्रियों में शामिल हैं जो सोशल मीडिया पर काफी सक्रीय रहते हैं. सुषमा न सिर्फ नागरिकों से जुड़ी अहम सूचनाओं को सोशल मीडिया के जरिए साझा करती हैं बल्कि देश से बाहर रहने वाले भारतीयों की मदद के लिए भी ट्विटर का सहारा लेती हैं.

Advertisement
aajtak.in
अनुग्रह मिश्र नई दिल्ली, 29 May 2018
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को इस वजह से ट्विटर पर मांगनी पड़ी माफी प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सुषमा स्वराज

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपनी उस टिप्पणी को लेकर माफी मांगी है जिसमें उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेपाल के जनकपुर के दौरे पर लाखों भारतीयों को संबोधित किया. ट्विटर पर जब यूजर्स ने सुषमा को गलती के बारे में बताया तो विदेश मंत्री ने इसे स्वीकार करते हुए अपनी गलती के लिए माफी मांगी है.

नेपाल के एक सांसद समेत ट्विटर के अन्य यूजर्स द्वारा जब उन्हें ध्यान दिलाया गया कि प्रधानमंत्री के हालिया दौरे पर जनकपुर में उन्होंने नेपाली लोगों को संबोधित किया था न कि भारतीयों को, इसके बाद सुषमा ने ट्वीट कर माफी मांगी. उन्होंने ट्वीट किया, 'यह मेरी तरफ से हुई गलती थी, मैं पूरी गंभीरता से इसके लिए माफी मांगती हूं.'

सुषमा ने एनडीए सरकार की चौथी वर्षगांठ के मौके पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी से पहले किसी भी प्रधानमंत्री ने इतने बड़े स्तर पर भारतीय प्रवासियों तक पहुंचने का प्रयास नहीं किया.

बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सरकार के उन मंत्रियों में शामिल हैं जो सोशल मीडिया पर काफी सक्रीय रहते हैं. सुषमा न सिर्फ नागरिकों से जुड़ी अहम सूचनाओं को सोशल मीडिया के जरिए साझा करती हैं बल्कि देश से बाहर रहने वाले भारतीयों की मदद के लिए भी ट्विटर का सहारा लेती हैं. देश-विदेश से कई भारतीय पासपोर्ट और विदेश मामलों से जुड़ी समस्याओं के लिए मंत्री से मदद भी मांगते हैं और सुषमा भी इसी प्लेटफॉर्म के जरिए उनकी मदद को तत्पर रहती हैं.

'ट्विटर मंत्री' के आरोप का जवाब

कांग्रेस ने कई बार सुषमा स्वराज पर आरोप लगाते हुए विदेश मंत्रालय के पीएमओ में शिफ्ट होनी की बात कही है. साथ ही सुषमा पर ट्विटर संभालने के आरोप भी लगाए गए हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस पर जवाब देते हुए विदेश मंत्री ने कांग्रेस पर पलटवार किया है.

सुषमा ने कहा कि कांग्रेस के वक्त में विदेश मंत्रालय संभ्रांत मंत्रालय बना हुआ था, जिसका लोगों से कोई वास्ता नहीं था. हमने अब उसे ट्विटर के जरिए लोगों से जोड़ दिया है. उन्होंने कहा कि मैं 41 साल से राजनीति में हूं, 11 चुनाव लड़े हैं और मुझे लोगों की समस्याएं पता हैं. उन्होंने कहा कि हमने विदेश नीति में ये नया रूप डाला है और विदेश नीति को लोकनीति से जोड़ा है.

विदेश मंत्री ने कहा कि अगर आप देशवासियों और जो लोग फंसे थे उनसे पूछोगे तो आपको पता चलेगा. ये लोग हमारा मज़ाक उड़ा रहे हैं लेकिन जिस दिन कोई इनके घर का फंसेगा उस दिन पता चलेगा कि ट्विटर का महत्व क्या है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay