एडवांस्ड सर्च

लोकसभा चुनाव: यहां कांग्रेस को मिले थे 1 फीसद वोट, वापसी के लिए लगा रही जोर

1982 में तेलुगू देशम पार्टी की स्थापना के बाद भी इस सीट पर कांग्रेस का दबदबा कायम रहा और उसने 6 बार जीत हासिल की वहीं टीडीपी को महज 2 बार ही जीत का स्वाद चखने का मौका मिला.

Advertisement
aajtak.in
अजीत तिवारी नई दिल्ली, 22 February 2019
लोकसभा चुनाव: यहां कांग्रेस को मिले थे 1 फीसद वोट, वापसी के लिए लगा रही जोर वाईवी सुब्बा रेड्डी

आंध्र प्रदेश के ओंगोल लोकसभा सीट पर कांग्रेस का दबदबा रहा है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कांग्रेस ने यहां से सबसे ज्यादा 11 बार जीत हासिल की है. दिलचस्प यह है कि 1982 में तेलुगू देशम पार्टी की स्थापना के बाद भी इस सीट पर कांग्रेस का दबदबा कायम रहा और उसने 6 बार जीत हासिल की वहीं टीडीपी को महज 2 बार ही जीत का स्वाद चखने का मौका मिला. हालांकि, 2014 में वाईएसआर कांग्रेस ने इस सीट अपना खाता खोला और वाईवी सुब्बा रेड्डी ने टीडीपी को हराया.

राजनीतिक पृष्ठभूमि

इस सीट पर शुरुआत में 2 बार निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत हासिल की. इसके बाद 1957 में कांग्रेस ने इस सीट को अपने खेमे में कर लिया. 1962 में हुए आम चुनाव में कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया ने इस पर जीत दर्ज की. दो बार टीडीपी, दो बार निर्दलीय और एक बार कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है. इसके बाद हुए आम चुनावों (1967, 1971, 1977, 1980) में कांग्रेस ने लगातार 4 बार जीत हासिल की.

इस बीच एनटी रामा राव ने कांग्रेस से अलग होकर एक नई पार्टी तेलुगू देशम पार्टी की स्थापना की और 1984 के आम चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार को हराया. इसके बाद कांग्रेस और टीडीपी के बीच उठा-पटक चलता रहा. 1989 में हुए आम चुनावों में कांग्रेस ने वापसी की और फिर 1998 तक हुए चार चुनावों लगातार चार बार जीत हासिल की. इसके बाद 1999 में टीडीपी ने एक बार फिर कांग्रेस से यह सीट छीन लिया. लेकिन वो अपने जीत को एक सिलसिलें तबदील करने में नाकाम रही और 2004 व 2009 में कांग्रेस ने लगातार दो बार इस सीट पर कब्जा करने में सफलता हासिल की. हालांकि, 2014 में वाईएसआर कांग्रेस के उम्मीदवार ने जीत की.

सामाजिक ताना-बाना

इस सीट पर करीब 15 लाख मतदाता हैं, जिनमें पुरुषों की संख्या 7,36,216 है और महिला मतदाताओं की संख्या 7,33,891 है. 2014 के आम चुनाव में इस सीट पर 82.23 फीसदी लोगों ने वोट डाला. यह इस सीट पर अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा वोटिंग परसेंटेज रहा. सात विधानसभा वाले इस लोकसभा में टीडीपी का पलड़ा भारी नजर आता है. यहां की चार विधानसभा (दारसी, ओंगोल, कोंडपी और कनीगिरी) में टीडीपी और तीन विधानसभा (येरागोंडापलेम, मरकापुरम और गिड्डालूर) में वाईएसआर कांग्रेस के विधायक हैं. इस लोकसभा में दो विधानसभा (येरागोंडापलेम और कोंडपी) अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं.

2014 का जनादेश

2014 के आम चुनाव में ओंगोल लोकसभा सीट पर मौजूदा सांसद वाईवी सुब्बा रेड्डी ने जीत दर्ज की और टीडीपी के उम्मदीवार श्रीनिवासुलु रेड्डी को 15,658 वोटों के करीबी अंतर से हराया. इस चुनाव में वाईएसआर नेता और वर्तमान सांसद वाईवी सुब्बा रेड्डी को 48.79 फीसदी वोट मिले. वहीं टीडीपी को 47.51 फीसदी और कांग्रेस को मजह 1.10 फीसद वोट ही हासिल हो सके. इस प्रकार 10 बार इस सीट पर विजयी पताखा लहराने वाली कांग्रेस तीसरे नंबर पर खिसक गई.

इस सीट के उम्मीदवारों ने कई बार पार्टियां बदलीं लेकिन कामयाबी हासिल नहीं हुई. कभी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतने वाले एमआर रेड्डी ने टीडीपी का दामन थामा और फिर उन्हें दो बार हार का सामना करना पड़ा. वैसे ही एमएस रेड्डी ने पहले कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीते लेकिन इसके बाद उन्होंने टीडीपी का दामन थामा और फिर उन्हें हार मिली.

सांसद का रिपोर्ट कार्ड

सांसद वाईवी सुब्बा रेड्डी ने सदन में 76 फीसदी उपस्थिति दर्ज कराई है. इस दौरान उन्होंने कुल 388 सवाल पूछे और सदन की 54 बहसों में हिस्सा लिया. यही नहीं उन्होंने दो प्राइवेट मेंबर बिल भी पेश किया. जानकारी के मुताबिक उन्होंने सांसद निधि में से 14.86 करोड़ की राशि अपने क्षेत्र में विकास कार्यों पर खर्च की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay