एडवांस्ड सर्च

लालू यादव: वक्त की मार और गुमनामी में 'किंगमेकर'

लालू यादव का चिर परिचित अंदाज देश-दुनिया में मशहूर है. लालू यादव ऐसे नेता हैं जिन्होंने बिहार से लेकर केंद्र तक में सरकारें बनवाने में अहम भूमिका निभाई है लेकिन शायद यह पहला चुनाव है जिसमें कोई 'किंगमेकर' सियासत में अलग-थलग पड़ा है. उनका चुटीला अंदाज और नेताओं विपक्षियों पर बेलौस टिप्पणी उन्हें दूसरों से अलग करती थीं. लेकिन इस बार के चुनाव में लोग लालू को मिस कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 24 March 2019
लालू यादव: वक्त की मार और गुमनामी में 'किंगमेकर' कभी बिहार से लेकर केंद्र तक की राजनीति में धाक जमाने वाले लालू यादव आज गुमनामी में हैं. (फोटो-रॉयटर

लालू प्रसाद यादव राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष हैं और 1990 से 1997 तक बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. 11 जून 1948 को गोपालगंज जिले के फुलवरिया में जन्मे लालू यादव फिलहाल चारा घोटाले में रांची की एक जेल में बंद हैं. उनके मुख्यमंत्रित्व काल में बिहार में चारा घोटाला हुआ. इसमें दिखाया गया है कि पशुओं को चारा खरीदने के लिए इतने पैसे निकाले गए. बाद में सीबीआई जांच में पता चला कि चारा के नाम पर घोटाला किया गया है. यह आरोप सिद्द हो जाने के बाद लालू प्रसाद यादव को सजा हुई और वो फिलहाल रांची की एक जेल में वे बंद हैं.

लालू यादव का राजनीतिक सफर

लालू यादव का जन्म एक गरीब यादव परिवार में हुआ. उन्होंने पटना यूनिवर्सिटी से बैचलर और लॉ की डिग्री हासिल की. यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान ही उनका राजनीतिक सफर शुरू हो गया. इस दौरान वे जय प्रकाश नारायण के आंदोलन के प्रभाव में आए और इसमें कूद गए. 1970 में शुरू हुआ यह आंदोलन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी सरकार और उनकी ओर से लगाए गए आपातकाल के खिलाफ शुरू हुआ था. सन् 1975 में  लालू प्रसाद यादव को गिरफ्तार किया गया और 77 तक वे जेल में बंद रहे.

मीसा कानून के तहत बंद लालू यादव जेल से रिहा होने के बाद लोकसभा चुनाव लड़े और जीत गए. तब उनकी पार्टी का नाम जनता पार्टी (जेपी) था जिसने इंदिरा गांधी के खिलाफ चुनावी बिगूल फूंका था. 1980 में लालू यादव ने बिहार में विधानसभा की सीट पर चुनाव लड़ा और कांग्रेस प्रत्याशी को शिकस्त दी. 1985 में वे फिर विधायक बने. साल 1989 तक बिहार विधानसभा में वे नेता प्रतिपक्ष रहे. बाद में जनता दल के टिकट पर वे सांसद चुने गए.

लालू यादव का एमवाई समीकरण

लालू यादव की पूरी राजनीति मुस्लिम और यादव समीकरण के इर्द-गिर्द घूमती रही. हालांकि उन्हें कई पिछड़ी जातियों का समर्थन मिलता रहा लेकिन यादव जाति के वे एकतरफा नेता रहे. बिहार में एमवाई समीकरण और इससे पनपी सोशल इंजीनियरिंग ने उन्हें 'गरीबों का मसीहा' बनाया और इसी के बूते उन्होंने कभी बिहार में तो कभी संसद में कुर्सी संभाली.   

चारा घोटाला और राजनीतिक पतन

लालू यादव की राजनीति के औंधे मुंह गिरने के पीछे चारा घोटाला सबसे बड़ा कारण है. बिहार में 27 जनवरी 1996 को पशुओं के चारा घोटाले के रूप में सरकारी खजाने से करोड़ों रुपए की लूट सामने आई. चाईबासा ट्रेजरी से अवैध तरीके से 37.6 करोड़ रुपए निकाले गए थे. 11 मार्च 1996 को पटना हाई कोर्ट ने इस घोटाले की जांच के लिए सीबीआई को निर्देश दिए. एक साल बाद 1997 में लालू यादव ने सीबीआई के समक्ष सरेंडर कर दिया. 1998 में सीबीआई ने लालू यादव और उनकी पत्नी राबड़ी देवी के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज कराया. पिछले साल 6 जनवरी को स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने लालू प्रसाद को चारा घोटाला मामले में साढ़े तीन साल की सजा और पांच लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई. इस सजा के बाद लालू यादव चुनाव के लिए अयोग्य करार दिए गए. चुनाव के नियमों के मुताबिक लालू यादव अब 11 साल तक कोई चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. इसी के साथ संसद की सदस्यता गंवाने वाले नेताओं में लालू यादव का नाम भारतीय राजनीति के इतिहास में दर्ज हो गया.

लालू यादव के कुछ दिलचस्प पहलू

लालू यादव न धूम्रपान करते हैं और न शराब पीते हैं. उन्हें अपनी असली जन्म तारीख का पता नहीं है. स्कूली कागजात में दर्ज 11 जून 1948 को ही वे अपना जन्मदिन बताते हैं. उनकी पहली नौकरी बिहार वेटनरी कॉलेज, पटना में लगी थी जिसे छोड़कर वे जेपी आंदोलन में शामिल हो गए. सन 1990 में वे बिहार के मुख्यमंत्री बने. 1970 में 22 साल की उम्र में लालू यादव पहली बार राजनीति में आए और पटना यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन के महासचिव बनाए गए.

लालू यादव की बेटी का नाम मीसा भारती इसलिए पड़ा क्योंकि आपातकाल के दौरान लालू यादव को मीसा कानून के तहत जेल में डाला गया था. इसी कालखंड में मीसा भारती का जन्म हुआ था. 1977 में 29 साल की उम्र में लालू यादव सांसद बने और सबसे कम उम्र के नेता का रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज कराया. साल 2004 में आई फिल्म पद्मश्री लालू प्रसाद यादव में उन्होंने गेस्ट अभिनेता के तौर पर काम किया.   

कटाक्ष करने के लिए मशहूर हैं लालू

लालू यादव गहरे कटाक्ष के लिए जाने जाते हैं. उनकी भाषण शैली और चुटीले अंदाज के कई लोग दिवाने हैं. पिछले दिनों पटना में एनडीए की रैली पर कटाक्ष करते हुए लालू ने कहा था कि इतनी भीड़ तो वहां जुट जाती है जहां वह पान खाने रुकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay