एडवांस्ड सर्च

कांग्रेस ने दिल्ली में फाइनल किए नाम, चांदनी चौक से लड़ सकती हैं शीला दीक्षित

सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक नई दिल्ली से अजय माकन, पूर्वी दिल्ली से अरविंदर सिंह लवली, चांदनी चौक से दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित, नॉर्थ वेस्ट की आरक्षित सीट से राजेश लिलोठिया या राजकुमार चौहान, नॉर्थ ईस्ट से जेपी अग्रवाल, साउथ दिल्ली से रमेश कुमार और वेस्ट दिल्ली से सुशील कुमार को कांग्रेस लोकसभा चुनाव में उतार सकती है.

Advertisement
aajtak.in
मणिदीप शर्मा नई दिल्ली, 20 April 2019
कांग्रेस ने दिल्ली में फाइनल किए नाम, चांदनी चौक से लड़ सकती हैं शीला दीक्षित (फाइल फोटो- शीला दीक्षित)

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (AAP) के बीच लंबे समय से चली आ रही अटकलों पर विराम लगता नजर आ रहा है. कांग्रेस और AAP के बीच गंठबंधन को लेकर सहमति नहीं बन सकी. अब सूत्रों के मुताबिक दिल्ली की सभी 7 सीटों पर कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार खड़े करने का फैसला कर लिया है. इन सभी सीटों के लिए नाम फाइनल किए जा चुके हैं.

बताया जा रहा है कि शीला दीक्षित चांदनी चौक से चुनावी मैदान में उतर सकती हैं. इससे पहले उनका नाम पूर्वी दिल्ली सीट से चल रहा था लेकिन सूत्रों के मुताबिक अब उनका नाम चांदनी चौक के लिए लगभग तय कर दिया गया है. कांग्रेस पार्टी ने दिल्ली के सभी संसदीय सीटों पर प्रत्याशियों के नामों का फैसला कर लिया है. कांग्रेस इस संबंध में रविवार को औपचारिक घोषणा कर सकती है.

सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक नई दिल्ली से अजय माकन, चांदनी चौक से दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित, नॉर्थ वेस्ट की आरक्षित सीट से राजेश लिलोठिया या राजकुमार चौहान, नॉर्थ ईस्ट से जेपी अग्रवाल, साउथ दिल्ली से रमेश कुमार और वेस्ट दिल्ली से सुशील कुमार को कांग्रेस लोकसभा चुनाव में उतार सकती है.

बता दें इससे पहले ऐसी खबरें आई थीं कि सीटों में आम सहमित न बन पाने के कारण आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन के लिए कांग्रेस तैयार नहीं हुई.

सीट शेयरिंग पर नहीं बन पा रही सहमति

इस संबध में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने कहा कि दिल्ली में लोकसभा की सात सीटों पर 4-3 फॉर्मूला पर आम आदमी पार्टी से बात चल रही थी. अगर आम आदमी पार्टी इस फॉर्मूला से तैयार है तो कांग्रेस भी तैयार है. लेकिन अब ऐसी खबर आ रही है कि कांग्रेस और आप बिना गठबंधन के चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं.

बीजेपी को रोकने के लिए गठबंधन जरूरी

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री  मनीष सिसोदिया ने कहा कि आम आदमी पार्टी का जन्म कांग्रेस के भ्रष्टाचार से लड़ते हुआ था, लेकिन नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी जिस तरह लोकतंत्र के लिए खतरा बनी हुई है, उसको देखते हुए आम आदमी पार्टी ने गठबंधन पर विचार किया है.

मनीष सिसोदिया ने कहा कि जैसे कर्नाटक, उत्तर प्रदेश में गठबंधन हुआ उसी तरह दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और गोवा की 33 सीट पर मोदी और अमित शाह को हराने के लिए गठबंधन हो. हालांकि गोवा का समय बर्बाद हो गया, फिर पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह नहीं माने. उन्होंने कहा कि दिल्ली में कांग्रेस का एक विधायक नहीं है और कांग्रेस दिल्ली में 3 सीट मांग रही है. इस लोकसभा, हरियाणा में कांग्रेस सभी सीट हार रही है. कांग्रेस से गठबंधन हो जाए तो हम 10 सीट पर बीजेपी को हरा सकते हैं.

कांग्रेस ने ठुकराया गठबंधन प्रस्ताव

आम आदमी पार्टी ने शनिवार को होने वाले उम्मीदवारों के नामांकन को भी स्थगित कर दिया है. शनिवार को पूर्वी दिल्ली, चांदनी चौक और उत्तर-पश्चिम दिल्ली के उम्मीदवारों को नामांकन करना था, लेकिन अब ये शनिवार को नहीं होगा. गोपाल राय के मुताबिक आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार 22 अप्रैल को नामांकन करेंगे.

गठबंधन पर जारी सस्पेंस खत्म होता नजर आ रहा है, हालांकि इस संबंध में अभी पूरी तरह औपचारिक ऐलान नहीं हुआ है.

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay