एडवांस्ड सर्च

गांधी-सरदार की धरती से मोदी-शाह की जोड़ी के खिलाफ कांग्रेस ने फूंका बिगुल

पिछले लोकसभा चुनाव में गुजरात की सभी 26 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत का परचम लहराया था. लेकिन विधानसभा चुनाव में कांग्रेस एक मजबूत विकल्प बनकर उभरी. पार्टी नेता इस बार राज्य की कम से कम 16 लोकसभा सीटें जीतने के लक्ष्य पर काम कर रहे हैं.

Advertisement
विवेक पाठकनई दिल्ली, 13 March 2019
गांधी-सरदार की धरती से मोदी-शाह की जोड़ी के खिलाफ कांग्रेस ने फूंका बिगुल गुजरात में हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक (फोटो-Twitter/@kcvenugopalmp)

गुजरात में कांग्रेस कार्य समिति की बैठक के बाद गांधीनगर में हुई जन संकल्प रैली को कांग्रेस के लोकसभा चुनाव के अभियान के आगाज के तौर पर देखा जा रहा है. इस रैली से प्रियंका गांधी वाड्रा ने बतौर महासचिव पहली बार कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित किया और बीजेपी के राष्ट्रवाद के समक्ष देशभक्ति की नई परिभाषा गढ़ने की कोशिश की. तो वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्लॉग के जरिए देश की जनता को याद दिलाया कि महात्मा गांधी आजादी के बाद कांग्रेस को भंग करना चाहते थें.

आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की रणनीति गांधी-सरदार की धरती से मोदी-शाह की जोड़ी को चुनौती देने की है. गुजरात में पार्टी में निर्णय लेने वाली सबसे ताकतवर बॉडी यानी कांग्रेस कार्य समिति (CWC) की बैठक का दिन 12 मार्च को चुना गया क्योंकि इसी दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने डांडी मार्च के जरिए सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरूआत की थी. इससे पहले यह बैठक 28 फरवरी को होनी थी, लेकिन पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना की जवाबी कार्रवाई को देखते हुए  कांग्रेस ने इस बैठक को स्थगित करना ही मुनासिब समझा.

गांधी-सरदार की धरती से मोदी-शाह को चुनौती

एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को उनके घर अमेठी-रायबरेली में चुनौती देने के लिए पूरा जोर लगाई हुई है. तो वहीं कांग्रेस पार्टी भी पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को उनके गढ़ गुजरात में घेरने की कवायद में जुटी है. कांग्रेस सेवादल के मुखिया और मुख्य संघटक लालजी देसाई ने aajtak.in से बातचीत में कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में ही पार्टी ने तय कर लिया था कि गुजरात में कांग्रेस को और मजबूत करना है. कुछ हद तक हम कामयाब भी हुए क्योंकि विधानसभा चुनाव में हम लगभग बीजेपी के बराबर पहुंच गए. इसी के साथ पार्टी ने नरेंद्र मोदी के गांव वडनगर की विधानसभा में भी जीत हासिल की.

लालजी देसाई ने कहा कि गुजरात महात्मा गांधी और सरदार पटेल की भूमि है जिनका संदेश प्रेम, सद्भावना और त्याग पर टिका है. जबकि नरेंद्र मोदी और शाह की जोड़ी पर सत्ता का नशा सिर चढ़कर बोल रहा है. देसाई ने कहा कि बीजेपी संसाधन, पैसा और चुनाव प्रबंधन में माहिर है, लेकिन आम जनता इनकी नीतियों से त्रस्त है. पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने गुजरात की सभी 26 सीटों पर कब्जा जमाया था, लालजी देसाई का कहना है कि कांग्रेस पार्टी इस बार 16 लोकसभा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है.

'कांग्रेस को भंग करना चाहते थे गांधी'

एक तरफ जहां कांग्रेस पार्टी गुजरात की धरती से अपने चुनावी अभियान की शुरूआत कर रही थी तो वहीं दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ब्लॉग के जरिए देश को बताया कि महात्मा गांधी कांग्रेस को भंग करना चाहते थे. पीएम मोदी ने महात्मा गांधी के विचारों और कांग्रेस की संस्कृति के विरोधाभास का उल्लेख करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि सबसे भयानक जातिगत दंगे और दलित-विरोधी नरसंहार कांग्रेस के शासन में हुए. प्रधानमंत्री ने कहा कि गांधी जी कांग्रेस की संस्कृति को बहुत अच्छे से समझते थे, और इसीलिए वे कांग्रेस को भंग करना चाहते थे, विशेष रूप से 1947 के बाद.

राष्ट्रवाद बनाम देशभक्ति

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद गांधीनगर में हुई जन संकल्प रैली में प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव आजादी की लड़ाई से कम नहीं है. प्रियंका ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि जागरुकता ही असली देशभक्ति है. प्रियंका ने कहा कि जहां से गांधी जी ने प्रेम और सद्भावना और अहिंसा की आवाज उठाई थी, मैं सोचती हूं कि यहीं से आवाज उठनी चाहिए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिए बगैर प्रियंका गांधी ने कहा कि जो आपके सामने अपनी फितरत की बात करते हैं, उन्हें आप बताइए कि इस देश की फ़ितरत क्या है. देश की फितरत है कि जर्रे-जर्रे में सच्चाई ढूंढकर निकालेगी. इस देश की फितरत है कि नफरत की आवाज को प्रेम और करुणा में बदलेगी. ये आवाज आप यहां से उठाइए.

...लोग आज भी पहचानते हैं हाथ का निशान

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 14 फरवरी को गुजरात के वलसाड जिले में जनसभा संबोधित कर चुके हैं. लेकिन दुर्भाग्यवश राहुल की यह रैली पुलवामा हमले के दिन  हुई. कांग्रेस पार्टी के लिए वलसाड जिले का लालडुंगरी गांव विशेष महत्व रखता है. क्योंकि इसी गांव से 1980 में इंदिरा गांधी, 1984 में राजीव गांधी और 2004 में सोनिया गांधी ने चुनाव प्रचार की शुरुआत कर सत्ता हासिल की थी. कांग्रेस पार्टी का मानना है कि यहां की जनता आज भी हाथ के निशान को पहचानते हैं और इंदिरा गांधी को याद करते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay