एडवांस्ड सर्च

यूपी में बुआ-भतीजा के जातीय समीकरण को मोदी-शाह ने कैसे किया ध्वस्त, पढ़ें पूरी खबर

कहा जाता है कि दिल्ली का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर जाता है. मतलब ये कि अगर किसी पार्टी को सरकार बनानी है तो उत्तर प्रदेश में बड़ी जीत हासिल करनी होती है. मोदी-शाह की जोड़ी ने 2014 और 2019 दोनों लोकसभा चुनावों में यूपी पर विशेष ध्यान दिया और नतीजा आपके सामने है.

Advertisement
नीलांशु शुक्ला [Edited by : सुजीत कुमार ]लखनऊ, 04 June 2019
यूपी में बुआ-भतीजा के जातीय समीकरण को मोदी-शाह ने कैसे किया ध्वस्त, पढ़ें पूरी खबर पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश में मोदी की सुनामी ने बुआ-भतीजे की जोड़ी के जातीय समीकरण को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया. 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को कुल 303 सीटें मिलीं. इनमें से सबसे ज्यादा 62 सीटें उत्तर प्रदेश से मिलीं. जब बुआ यानी बसपा सुप्रीमो मायावती और भतीजे यानी समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने हाथ मिलाया था तो ऐसी संभावना जताई जा रही थी कि भाजपा को भारी नुकसान हो सकता है. लेकिन मोदी-शाह की जोड़ी ने ऐसी चाल चली कि दोनों चारों खाने चित हो गए.

लोकसभा चुनाव के दौरान कहा जा रहा था कि देशभर में मोदी की लहर है. लेकिन जब नतीजे आए तो पता चला कि लहर नहीं सुनामी चल रही थी. इसी सुनामी में बुआ-भतीजे का जातीय समीकरण बह गया. इतना ही नहीं देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस की डूबती नैया को पार लगाने के लिए प्रियंका को उतारा गया था. प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश में काफी जोर लगाया लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात. विश्लेषक प्रियंका को ट्रंप कार्ड बता रहे थे, जो फेल साबित हुआ.

यूपी की लोकसभा की 80 सीटों में से भाजपा और अपना दल के गठबंधन को 64 सीटें मिलीं, जबकि बसपा-सपा के गठबंधन को 15 सीटें मिलीं. कांग्रेस को एक मात्र सीट रायबरेली पर जीत मिली, जहां से सोनिया गांधी ने जीत हासिल की. सबसे हॉट अमेठी सीट पर स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को करारी शिकस्त दी.

क्यों मिली भाजपा को जीत

माया-अखिलेश ने जातीय समीकरण को साधते हुए गठबंधन किया. इसके जवाब में मोदी-शाह की जोड़ी ने सभी जातियों को साधा. इसके लिए भाजपा ने ग्रामीण इलाकों में प्रधानमंत्री आवास योजना, गांवों में शौचालय निर्माण यानी ओडीएफ स्कीम के साथ-साथ बिजली और गैस कनेक्शन वितरित किए. साथ ही मोदी सरकार ने जनधन, किसान पेंशन स्कीम और मुद्रा जैसी योजनाओं का लाभ भी सभी वर्गों को दिया. साथ ही भाजपा ने चुनाव प्रचार के दौरान इसे जन-जन तक पहुंचाने में भी कामयाबी हासिल की. यही भाजपा के लिए गेम चेंजर साबित हुआ.

जाट वोटरों ने बदला पाला

उत्तर प्रदेश में जाट वोट परंपरागत रूप से आरएलडी के पक्ष में जाता था. लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने इसमें सेंध मार दिया. इस बार 57 फीसदी जाट वोट भाजपा को मिला. 35 फीसदी वोट गठबंधन को मिली जबकि 8 फीसदी वोट कांग्रेस और बाकी क्षेत्रिय पार्टियों को मिली. जाट वोटर भाजपा की ओर चले गए. यही कारण रहा कि आरएलडी सपा और बसपा का साथ मिलने के बावजूद खाता भी नहीं खोल पाया.

जाटव माया-अखिलेश के साथ

जाटव को छोड़कर बाकी दलितों का 60 फीसदी वोट भाजपा के पक्ष में गए. 30 फीसदी वोट महागठबंधन को मिला, जबकि कांग्रेस और अन्य क्षेत्रिय दलों को मात्र 10 प्रतिशत वोट मिले. जबकि जाटव का वोट पूरे प्रदेश में सपा-बसपा-आरएलडी के गठबंधन को मिला. गठबंधन को कुल 74 फीसदी जाटव वोट मिले. एनडीए को 21 फीसदी वोट मिले और यूपीए को 3 फीसदी और बाकियों को 2 फीसदी वोट मिले.

जनरल कैटेगरी और अन्य जातियो का वोट

अगड़ी जातियों ने एक बार फिर भाजपा पर अपना भरोसा जताया. इनका 77 फीसदी वोट बीजेपी के पक्ष में गया. गठबंधन को 12 फीसदी वोट मिले जबकि 11 फीसदी वोट यूपीए और अऩ्य पार्टियों को मिले. यादवों ने एक बार फिर अखिलेश का साथ दिया और 72 फीसदी वोट सपा-बसपा गठबंधन को मिले. एनडीए को 20 प्रतिशत यादवों का वोट मिला जबकि 8 फीसदी वोट यूपीए और अन्य पार्टियों को मिले, जबकि यादवों के अलावा बाकी ओबीसी का 76 फीसदी वोट एनडीए को मिले जबकि महागठबंधन को 14 प्रतिशत मिले और यूपीए को सिर्फ 4 प्रतिशत वोट मिले.

प्रियंका ट्रंप कार्ड हुआ फेल

उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी ने जोरदार तरीके से प्रचार-प्रसार किया. उनकी रैलियों में भीड़ तो जुटी लेकिन ये वोट में परिवर्तित नहीं हो सकी. कांग्रेस पार्टी को कुल वोट का मात्र 6 फीसदी मिला. इससे यह साफ जाहिर होता है कि भारत की सबसे पुरानी पार्टी को उत्तर प्रदेश की जनता ने पूरी तरीके से नकार दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay