एडवांस्ड सर्च

पीएम मोदी की रैली से नदारद रहे पूर्व मंत्री पर कार्रवाई करेगी भाजपा

चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा उम्मीदवार और मौजूदा सांसद राम स्वरूप शर्मा के समर्थन में पीएम मोदी ने 10 मई को रैली की थी. मंडी के पड्डल मैदान में हुई इस चुनावी रैली से स्थानीय विधायक अनिल शर्मा नदारद रहे थे. तब से ही प्रदेश के राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा आम हो गई थी कि क्या भाजपा शर्मा के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करेगी.

Advertisement
Aajtak.in [Edited By: बिकेश तिवारी]शिमला, 21 May 2019
पीएम मोदी की रैली से नदारद रहे पूर्व मंत्री पर कार्रवाई करेगी भाजपा Satpal Singh Satti

लोकसभा चुनाव के लिए मतदान के बाद राजनीतिक दलों में समीक्षा का दौर शुरू हो गया है. प्रचार अभियान में कौन कितना सक्रिय रहा और किसने दूरी बनाई, राजनीतिक पार्टियों का नेतृत्व इसका हिसाब-किताब करने लगा है. भाजपा की हिमाचल प्रदेश इकाई ने मंडी से विधायक और पूर्व मंत्री अनिल शर्मा के खिलाफ कार्रवाई के संकेत दिए हैं.

शर्मा के पुत्र आश्रय कांग्रेस के टिकट पर मंडी लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में थे. चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा उम्मीदवार और मौजूदा सांसद राम स्वरूप शर्मा के समर्थन में पीएम मोदी ने 10 मई को रैली की थी. मंडी के पड्डल मैदान में हुई इस चुनावी रैली से स्थानीय विधायक अनिल शर्मा नदारद रहे थे. तब से ही प्रदेश के राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा आम हो गई थी कि क्या भाजपा शर्मा के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करेगी.

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि पार्टी आला कमान से बात कर निश्चित रूप से अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी. कार्रवाई कैसी होगी, यह सदन के नेता के तौर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर तय करेंगे. शर्मा की विधानसभा सदस्यता के संबंध में उन्होंने कहा कि इस पर कानूनी राय ली जाएगी. सत्ती ने कहा कि विधायक राज्य कार्यकारिणी के पदेन सदस्य होते हैं. शर्मा को राज्य कार्यकारिणी से हटाने के लिए अनुशासनात्मक समिति से बात करेंगे.

गौरतलब है कि प्रदेश सरकार में ऊर्जा मंत्री रहे अनिल शर्मा ने निवर्तमान सांसद राम स्वरूप शर्मा को ही फिर से उम्मीदवार बनाए जाने के बाद मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. भाजपा से टिकट की आस टूटने के बाद आश्रय कांग्रेस में शामिल हो गए और देश की सबसे पुरानी पार्टी के टिकट पर ताल ठोक दी थी. आश्रय के पिता अनिल शर्मा ने मंत्री पद से इस्तीफा जरूर दे दिया, लेकिन पार्टी नेतृत्व से कहा था कि वह न तो पार्टी के लिए प्रचार करेंगे और न ही अपने बेटे के लिए.

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का गृह जिला होने के कारण मंडी लोकसभा सीट पार्टी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है. इस सीट पर पूरे प्रदेश की निगाहें टिकीं हैं. मंडी में 19 मई को हुए मतदान में 73.39 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay