एडवांस्ड सर्च

बेगूसराय: CPI का गढ़ है यह संसदीय क्षेत्र लेकिन कांग्रेस, JDU का रहा दबदबा

कन्हैया कुमार आरजेडी और कांग्रेस के समर्थन से जेडीयू-बीजेपी के खिलाफ सीपीआई के टिकट पर अपना भाग्य आजमा सकते हैं. हालांकि इस पर अंतिम फैसला होना बाकी है.

Advertisement
रविकांत सिंहनई दिल्ली, 22 February 2019
बेगूसराय: CPI का गढ़ है यह संसदीय क्षेत्र लेकिन कांग्रेस, JDU का रहा दबदबा सीपीआई का चुनाव चिन्ह (रॉयटर्स)

बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र बिहार के 40 संसदीय इलाकों में एक है. बेगूसराय पूर्वी बिहार में पड़ता है. इस संसदीय क्षेत्र में सात विधानसभा क्षेत्र आते हैं. 2014 में डॉ. भोला सिंह  बीजेपी के टिकट पर यहां से विजयी हुए थे जिनका इसी साल अक्टूबर में निधन हो गया. उनसे पहले जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के डॉ. मोनाजिर हसन सांसद थे.  2004 में भी जदयू जीती थी और राजीव रंजन सिंह सांसद बने थे.

2014 चुनाव का आंकड़ा

इस चुनाव में डॉ. भोला सिंह ने आरजेडी के प्रत्याशी तनवीर हसन को हराया था. डॉ. सिंह को 4,28,227 वोट मिले जबकि हसन को 3,69,892 वोट हासिल हुए. डॉ. सिंह को 39.72 प्रतिशत और हसन को 34.31 प्रतिशत वोट मिले. इस इलाके में भाकपा की अच्छी पकड़ है. 2014 के चुनाव में भाकपा प्रत्याशी राजेंद्र प्रसाद सिंह तीसरे स्थान पर रहे थे. उन्हें 1,92,639 वोट मिले थे. वोट प्रतिशत की बात करें तो भाकपा को 17.87 प्रतिशत मत हासिल हुए थे. इस चुनाव में चौथे और पांचवें स्थान पर निर्दलीय रहे. छठे स्थान पर नोटा रहा जिसके तहत 26,335 वोट पड़े. कुल वोटों का 2.47 प्रतिशत नोटा के हिस्से में आया. इस चुनाव में कुल 60.60 प्रतिशत वोटिंग हुई थी जिसमें जेडीयू के वोट बीजेपी के पाले गए थे और बीजेपी के डॉ. सिंह आसानी से जीत गए थे.

2009 चुनाव का ब्योरा

इस चुनाव में जेडीयू के प्रत्याशी डॉ. मोनाजिर हसन विजयी हुए. उन्होंने सीपीआई के शत्रुघ्न प्रसाद सिंह को हराया था. डॉ. हसन को कुल 2,05,680 वोट मिले थे जबकि शत्रुघ्न प्रसाद सिंह को 1,64,843 वोट मिले. डॉ. हसन को 28.64 प्रतिशत और शत्रुघ्न प्रसाद सिंह को 22.95 प्रतिशत वोट मिले. तीसरे स्थान पर एलजेपी के अनिल चौधरी और चौथे स्थान पर निर्दलीय उम्मीदवार अमिता भूषण रहीं. पांचवें और छठे स्थान पर निर्दलीय उम्मीदवार रहे. इस चुनाव में कुल 48.75 प्रतिशत वोट पड़े थे.

बेगूसराय में कितने मतदाता

चुनाव आयोग के 2009 के आंकड़ों के मुताबिक इस संसदीय क्षेत्र में कुल 1,473,263 मतदाता हैं जिनमें 687,910 महिला और 785,353 पुरुष मतदाता हैं. बेगूसराय सिटी में इस जिले का मुख्यालय है.  इस संसदीय क्षेत्र का नाम इसलिए भी मशहूर है क्योंकि हिंदी के प्रख्यात कवि और राष्ट्रकवि से सम्मानित रामधारी सिंह दिनकर का यह जन्मस्थान है. 2011 की जनगणना के मुताबिक बेगूसराय की कुल आबादी 29,70,541 है.

कन्हैया कुमार लड़ सकते हैं चुनाव

जवाहर लाल यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार बेगूसराय से संसदीय चुनाव लड़ सकते हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कन्हैया कुमार आरजेडी और कांग्रेस के समर्थन से जेडीयू-बीजेपी के खिलाफ सीपीआई के टिकट पर अपना भाग्य आजमा सकते हैं. हालांकि इस पर अंतिम फैसला होना बाकी है लेकिन कन्हैया कुमार खुद न्यूज एजेंसी पीटीआई को बता चुके हैं कि पार्टी (सीपीआई) अगर उन्हें महागठबंधन की सीट पर चुनाव लड़ाती है तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं. कन्हैया कुमार यह भी बता चुके हैं कि उनकी पार्टी बिहार में अकेले चुनाव नहीं लड़ेगी और वह महागठबंधन का हिस्सा होगी. जानकारों की मानें तो आरजेडी की ओर से लालू यादव ने महागठबंधन पर अपनी हामी भी भर दी है.

नामी राजनेता थे डॉ. भोला सिंह

डॉ. भोला सिंह का जन्म 3 जनवरी 1939 को हुआ और निधन 19 अक्टूबर 2018 को. बीजेपी ज्वॉइन करने से पहले डॉ. सिंह बिहार में लगभग सभी दलों से जुड़े रहे. कम्युनिस्ट पार्टी, कांग्रेस और आरजेडी में भी उन्होंने अपनी सेवाएं दीं. सन् 2000 से 2005 तक वे बिहार विधानसभा के डिप्टी स्पीकर थे. बेगूसराय से साल 1967 में निर्दलीय टिकट पर विधायक चुने जाने से पहले वे इतिहास के प्रोफेसर थे.  डॉ. सिंह ने 60 के दशक में राजनीति शुरू की और 8 बार बेगूसराय से विधायक रहे. 2009 में उन्होंने नवादा संसदीय सीट पर बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा था. बिहार में एनडीए सरकार के दौरान डॉ. सिंह 2008 में शहरी राज्यमंत्री बनाए गए थे.

डॉ. भोला सिंह की संसदीय गतिविधियां

बीजेपी सांसद भोला सिंह ने सदन के 67 डिबेट में हिस्सा लिया और 8 प्राइवेट मेंबर बिल पास कराए. अपने करीब साढ़े चार साल के कार्यकाल में उन्होंने बहस के दौरान 121 सवाल पूछे. उनकी हाजिरी का ब्योरा उपलब्ध नहीं है.

भोला सिंह का सांसद निधि खर्च

बेगूसराय संसदीय क्षेत्र के लिए 25 करोड़ रुपए की राशि निर्धारित है. भारत सरकार ने कुल 25 करोड़ रुपए जारी किए. ब्याज के साथ यह राशि 28.13 करोड़ रुपए हुई. सांसद पासवान ने अपने क्षेत्र के लिए 26.53 करोड़ रुपए का प्रावधान रखा जिसमें 26.53 करोड़ रुपए पास हुए. इसमें 24.86 करोड़ रुपए खर्च हुए. कुल राशि का 97.44 प्रतिशत हिस्सा खर्च हुआ और 3.26 प्रतिशत बचा रह गया.

बेगूसराय संसदीय क्षेत्र की विधानसभा सीटें

इस संसदीय क्षेत्र में कुल 7 विधानभा सीटें हैं. इनके नाम हैं-छेरिया बरियारपुर, मटिहानी, बखरी, बछवाड़ा, साहेबपुर कमल, तेघरा और बेगूसराय. इस सात सीटों में बखरी अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है.

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay