एडवांस्ड सर्च

औरंगाबाद लोकसभा सीट: शिवसेना का गढ़, क्या मराठा आंदोलन डालेगा असर?

मराठा आंदोलन का सबसे ज्यादा असर इसी लोकसभा सीट पर दिखाई दिया. अब देखना यह होगा कि क्या यह मुद्दा शिवसेना को फायदा पहुंचाने में सफल हो पाएगा या नहीं. वर्तमान में औरंगाबाद लोकसभा सीट से चंद्रकांत खैरे सांसद हैं. वो यहां से लगातार चार बार लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं. सबसे पहले वो 1999 में पहली बार सांसद बने. इसके बाद 2004, 2009 और 2014 में वो लगातार जीते. 

Advertisement
आदित्य बिड़वईनई दिल्ली, 22 February 2019
औरंगाबाद लोकसभा सीट: शिवसेना का गढ़, क्या मराठा आंदोलन डालेगा असर? औरंगाबाद लोकसभा सीट.

महाराष्ट्र के मराठवाड़ा की औरंगाबाद लोकसभा सीट शिवसेना का गढ़ बन चुकी है. 1998 के लोकसभा चुनाव को छोड़ दिया जाए तो 1989 से 2014 तक शिवसेना यहां लगातार चुनाव जीतने में सफल रही है. वैसे पहले यह सीट कांग्रेस का गढ़ हुआ करती थी, लेकिन 1989 से यहां समीकरण पूरी तरह बदल गए.

हाल ही में हुए मराठा आंदोलन का सबसे ज्यादा असर इसी लोकसभा सीट पर दिखाई दिया. अब देखना यह होगा कि क्या यह मुद्दा शिवसेना को फायदा पहुंचाने में सफल हो पाएगा या नहीं.

वर्तमान में औरंगाबाद लोकसभा सीट से चंद्रकांत खैरे सांसद हैं. वो यहां से लगातार चार बार लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं. सबसे पहले वो 1999 में पहली बार सांसद बने. इसके बाद 2004, 2009 और 2014 में वो लगातार जीते.  

क्या रहा है औरंगाबाद लोकसभा सीट का इतिहास...

औरंगाबाद लोकसभा सीट पर कांग्रेस और शिवसेना का ही दबदबा हमेशा रहा है. सबसे पहले चुनाव में यहां सुरेश चंद्रा कांग्रेस की टिकट पर चुनकर आए थे. उनके बाद 1957 में कांग्रेस के स्वामी रामानंद तीरथ, 1962 में भाउराव देशमुख, 1967 में बी.डी देशमुख, 1971 में मानिकराव पलोड़कर कांग्रेस की टिकट से जीते. इसके बाद 1977 में बापू कालदाते ने जनता पार्टी से जीतकर कांग्रेस के लगातार जीत का सिलसिला तोड़ा. हालांकि, 1980 में काजी सलीम कांग्रेस को वापसी दिलाने में सफल रहे.  इसके बाद 1984 में कांग्रेस (S) से साहेबराव दोंगांवकर चुनाव जीते.  

जब शिवसेना का हुआ उदय...

औरंगाबाद लोकसभा सीट से सबसे पहले 1989 में मोरेश्वर सेव ने शिवसेना को इस सीट से जीत दिलाई. वो 1991 के लोकसभा चुनाव में भी जीतने में सफल रहे. इसके बाद शिवसेना तीसरी बार भी सत्ता में काबिज होने में सफल रही, 1996 में प्रदीप जयसवाल जीते. हालांकि, 1998 के चुनाव में रामकृष्ण पाटिल कांग्रेस को वापस जिताने में सफल रहे. लेकिन यह जीत कांग्रेस के पास ज्यादा समय तक नहीं रही. 1999 में चंद्रकांत खैरे शिवसेना को जीत दिलाने में सफल रहे. फिर वो 2004, 2009, 2014 में लगातार जीते.

क्या है विधानसभा क्षेत्रों की स्थिति...

औरंगाबाद लोकसभा की 6 विधानसभा सीटों पर मराठा समुदाय का अच्छा खासा दबदबा है. हाल ही में हुए मराठा आरक्षण आंदोलन का असर यहां आने वाले चुनाव में भी दिखाई देगा. साथ ही मुस्लिम और दलित समुदाय के लोग भी यहां निर्णायक स्थिति में होते हैं. यहां की कन्नड़, औरंगाबाद पश्चिम विधानसभा सीट पर शिवसेना का कब्जा है. जबकि औरंगाबाद मध्य में ऑल इंडिया मजलिस- ए- इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी (AIMIM) है. औरंगाबाद पूर्व, गंगापुर में बीजेपी है तो वौजापुर में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का कब्जा है.

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay