एडवांस्ड सर्च

अखिलेश बोले-दिल्ली में गठबंधन नहीं करने के लिए केजरीवाल नहीं कांग्रेस दोषी

लोकसभा चुनावों के बीच अखिलेश यादव ने कहा है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं बन पाने के लिए कांग्रेस दोषी है. उन्होंने रविवार को कहा कि पुराने अनुभव बताते हैं कि कांग्रेस ने ही अरविंद केजरीवाल को धोखा दिया होगा.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in लखनऊ, 06 May 2019
अखिलेश बोले-दिल्ली में गठबंधन नहीं करने के लिए केजरीवाल नहीं कांग्रेस दोषी  अखिलेश यादव

लोकसभा चुनावों के बीच अखिलेश यादव ने कहा है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी (AAP) के साथ गठबंधन नहीं बन पाने के लिए कांग्रेस दोषी है. उन्होंने रविवार को कहा कि पुराने अनुभव बताते हैं कि कांग्रेस ने ही अरविंद केजरीवाल को धोखा दिया होगा. 'आजतक' के साथ सुपर एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में अखिलेश यादव ने ये बातें कहीं.

इस सवाल पर कि सपा ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के साथ गठबंधन किया था, जो बाद में टूट गया. इसी तरह लोकसभा चुनाव के लिए दिल्ली में कांग्रेस का आम आदमी पार्टी से गठबंधन नहीं हो पाया, दोनों दल इसके लिए एक दूसरे को जिम्मेदारा बताते रहे हैं? इस पर आप क्या कहेंगे क्योंकि आपके कांग्रेस के साथ पुराने अनुभव हैं. इस सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि इसमें अरविंद केजरीवाल की गलती नहीं होगी. इसमें कांग्रेस की गलती होगी, कांग्रेस ने ही धोखा दिया होगा. उन्होंने कहा कि पुराने नेता बताते हैं कि कांग्रेस इसी तरह काम करती है, उन पर भरोसा करना मुमकिन नहीं है. अखिलेश यादव ने कांग्रेस की तरफ इशारा करते हुए कहा कि उन्होंने दो बार मुझसे गठबंधन किया था. लेकिन इसके बावजूद उन्होंने गठबंधन तोड़ा था. इसलिए मुझे लगता है कि अरविंद केजरीवाल ने लचीलापन दिखाया होगा, मैं समझता हूं कि कांग्रेस ने धोखा दिया होगा.

इससे पहले, अखिलेश यादव से सवाल किया गया कि आपने जितना बड़ा दिल बसपा के लिए दिखाया वह कांग्रेस के लिए नहीं दिखा पाए. भारतीय राजनीति में जो भाषा की मर्यादा है वह अखिलेश यादव की भाषा में नहीं दिख रहा है. आपने कहा कि चायवाला कैसा चायवाला है जो जहर मिला रहा है. लोगों पर जादू कर रहा है. आपसे कभी ऐसी भाषा की उम्मीद नहीं थी.

इसका जवाब देते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि सवाल ये है कि कांग्रेस के लिए भी उतना बड़ा दिल था, 100 से ज्यादा सीटें साथ में लड़े थे. केवल चाय वाला बोल दूं, सिर्फ चाय बोल दूं तो जनता खुश नहीं होती. जब तक ये न कहो कि चाय में नशा था. तो जनता कहती है कि हां 5 साल पहले कुछ नशा तो था. जिसको अब सब भूल गए. जब तक आप अपने भाषण में और चाय कैसे अच्छी होगी जब दूध अच्छा नहीं होगा.  

बसपा के साथ गठबंधन के लिए विचार कैसे आया, इस पर अखिलेश यादव ने कहा कि जब हम गोरखपुर और फूलपुर उप चुनाव जीत गए, तो लगा कि हम दोनों (बसपा-सपा) मिलकर यूपी में गठबंधन बनाएंगे तो ज्यादा सीटें जीतेंगे. देश को बचाने की कोशिश करेंगे. क्योंकि देश को बचाने वाला चुनाव था. अभी जो चीजें हम देख रहे हैं, ऐसा पहले कभी नहीं देखा होगा. सोचिए...सुप्रीम कोर्ट के जज आकर कहते हैं कि देश के लोकतंत्र को. मैंने एक मैगजीन में लेख पढ़ा, जिसमें लिखा है कि ये सरकार सबसे बड़ा खतरा है डेमोक्रेसी को. जो लोग हम पर जातिवादी होने का आरोप लगाते थे, वही आज यूपी में क्या कर रहे हैं. मैं डिंपल का चुनाव देख रहा था कि लोगों को रेड कार्ड जारी हो गए थे.

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़ लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay