एडवांस्ड सर्च

आज सेना का जवान, क‍िसान और नौजवान सब असुरक्ष‍ित हैं: सीताराम येचुरी

Aajtak suraksha sabha पाकिस्तान में घुसकर आतंकी ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के द्वारा की गई एयर स्ट्राइक के बाद से राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा राजनीति के केंद्र में आ गया है. इन बातों का भारतीय राजनीत‍ि पर क्या असर होने वाला है, उन सभी बातों पर चर्चा करने के लिए आजतक ने आज विशेष सुरक्षा सभा का आयोजन किया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई द‍िल्ली, 12 March 2019
आज सेना का जवान, क‍िसान और नौजवान सब असुरक्ष‍ित हैं: सीताराम येचुरी सीताराम येचुरी (Photo: India Today)

पाकिस्तान में घुसकर आतंकी ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के द्वारा की गई एयर स्ट्राइक के बाद से ही राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा राजनीति के केंद्र में आ गया है. इसका लोकसभा चुनावों में क्या असर पड़ेगा इन सभी बातों पर चर्चा करने के लिए आजतक ने आज विशेष ‘सुरक्षा सभा’ का आयोजन किया है. इसमें 'कितने सुरक्षित हैं हम' व‍िषय पर अपनी बात कहते हुए मार्क्सवादी कम्युन‍िस्ट पार्टी (CPM) के महासच‍िव सीताराम येचुरी ने सुरक्षा के बारे में सवाल उठाए.

'कितने सुरक्षित हैं हम' व‍िषय पर येचुरी ने कहा क‍ि, "आतंकवाद और सुरक्षा की बात आज एजेंडे पर क्यों आ रही है? बालाकोट के बाद क्यों आ रही है? आंतरिक सुरक्षा और आतंकवाद को हमेशा से गंभीर मुद्दा है. राष्ट्र की सुरक्षा हमेशा मुद्दा है. सिर्फ चुनाव के लिए नहीं है."

अपनी बात को तथ्यों के माध्यम से पुख्ता करते हुए येचुरी बोले, "2009 से 2014 के 5 सालों से इन 5 सालों की तुलना करें तो इन 5 सालों में 626 आतंकी हमले हुए जबकि उसके पहले 5 सालों में कम थे. उन 5 सालों में 139 जवान शहीद हुए जबकि इन 5 सालों में 483 जवान शहीद हुए. सीजफायर की घटनाएं जो पहले के 5 सालों में 563 हुईं, इन 5 सालों में 5000 से ज्यादा सीजफायर का उल्लंघन हुआ है."

येचुरी ने देश की सुरक्षा के बारे में कहा क‍ि राष्ट्रीय सुरक्षा का मसला पुलवामा और बालाकोट के बाद ही मुद्दा क्यों? उसके बाद हमारे इतने सैनिक शहीद हुए, कितने आतंकी हमले हुए, जम्मू के अंदर आतंकी हमले हुए. हमारी क्या सतर्कता है? सवाल ये होना चाहिए कि हम लोग सुरक्षित हैं कि नहीं?

सेना के अलावा सुरक्षा की बात हो तो ये भी हो कि हमारा अन्नदाता सुरक्षित है कि नहीं? हमारा बेरोजगार लाचार होकर घूम रहा है, क्या वह सुरक्षित है? सुरक्षा के सभी मामलों को एक बालाकोट तक अगर आप सीमित कर देंगे और उसके आधार पर चुनाव लड़ने की बात आप कर रहे हैं तो ये सबसे बड़ा देश के साथ अन्याय है.

इस सुरक्षा सभा में भारत सरकार के वरिष्ठ मंत्री, सत्ताधारी दल और विपक्षी पार्टियों के दिग्गज नेता, सेना से जुड़े दिग्गजों के अलावा अन्य क्षेत्र की बड़ी हस्तियां भी शामिल हो रही हैं. ये दिग्गज एयर स्ट्राइक के बाद की परिस्थितियों पर बात करेंगे. सरकार की ओर से देश की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, बीजेपी अध्यक्ष अम‍ित शह इस कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay