एडवांस्ड सर्च

चुनाव तारीखों का ऐलान होते ही BJP बोली- झारखंड में जीतेंगे 65 से ज्यादा सीटें

झारखंड विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी ) ने राज्य में 65 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा किया है. झारखंड बीजेपी के प्रभारी ओम माथुर ने कहा कि बीजेपी राज्य इकाई एक साल से चुनाव के लिए तैयारी कर रही है. मैंने खुद बूथ स्तर की सभी गतिविधियों और तैयारियों का विश्लेषण किया है. हम निश्चित रूप से 65 प्लस के लक्ष्य को पार करेंगे.  

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in रांची, 01 November 2019
चुनाव तारीखों का ऐलान होते ही BJP बोली- झारखंड में जीतेंगे 65 से ज्यादा सीटें झारखंड बीजेपी प्रभारी ओम माथुर (Photo- ANI)

  • झारखंड में बीजेपी का दावा, जीतेंगे 56 से ज्यादा सीटें
  • ओम माथुर बोले- एक साल से तैयारी में जुटी है पार्टी

झारखंड विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी ) ने राज्य में 65 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा किया है. झारखंड बीजेपी के प्रभारी ओम माथुर ने कहा कि बीजेपी राज्य इकाई एक साल से चुनाव के लिए तैयारी कर रही है. मैंने खुद बूथ स्तर की सभी गतिविधियों और तैयारियों का विश्लेषण किया है. हम निश्चित रूप से 65+ के लक्ष्य को पार करेंगे.

झारखंड विधानसभा चुनाव  पांच चरणों में संपन्न होंगे. 81 विधानसभा सीटों वाले सूबे में 30 नवंबर से चुनाव की शुरुआत होगी. वहीं चुनाव के नतीजे 23 दिसंबर को आएंगे.

पांच चरणों मे होंगे चुनाव-

पहला चरण में 13 सीटों पर मतदान-  30 नवंबर

दूसरे चरण में 20 सीटों पर मतदान- 7 दिसंबर

तीसरे चरण में 17 सीटों पर मतदान- 12 दिसंबर

चौथे चरण में 15 सीटों पर मतदान- 16 दिसंबर

पांचवें चरण में 16 सीटों पर मतदान- 20 दिसंबर

बता दें कि 2009 और 2014 में भी पांच चरणों में चुनाव हुए थे. मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि झारखंड विधानसभा का कार्यकाल 5 जनवरी 2020 को खत्म होगा. उपायुक्तों ने 17-18 अक्टूबर को ही  झारखंड का दौरा किया था.  झारखंड के 19 जिले नक्सल प्रभावित हैं.  67 सीटें नक्सल प्रभावित हैं.

बीजेपी-आजसू गठबंधन को मिली थीं 41 सीटें

झारखंड में कुल 81 विधानसभा सीटें हैं. पिछली बार बीजेपी-आजसू गठबंधन ने 41 सीटें जीती थीं. बीजेपी ने 72 सीटों पर चुनाव लड़ा था और 37 सीटें जीती थीं. उसके सहयोगी आजसू ने 9 सीटें लड़ी थीं और 5 सीटें जीती थीं.

पिछले झारखंड विधानसभा में सभी पार्टियों के कई बड़े नेता चुनाव हार गए थे, जिनमें सीएम उम्मीदवार अर्जुन मुंडा, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी, पूर्व सीएम मधु कोड़ा, आजसू अध्यक्ष और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो चुनाव हार गए थे. चुनाव नतीजों के तुरंत बाद झारखंड विकास मोर्चा प्रजातांत्रिक के 6 विधायक बाद में बीजेपी में शामिल हो गए थे.

इस बार 65 प्लस का टारगेट

मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में बीजेपी लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी की कोशिश में है. बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के नतीजे को देखते हुए विधानसभा चुनाव में मिशन-65 प्लस का टारगेट फिक्स किया है. बीजेपी-एजेएसयू मिलकर चुनावी मैदान में उतरने का फैसला किया है. मुख्यमंत्री रघुवर दास जन आशीर्वाद यात्रा के जरिए बीजेपी के पक्ष में माहौल बनाने में जुटे हैं.

वहीं, बीजेपी को सत्ता में आने से रोकने के लिए तमाम विपक्ष दल से एकजुट होने की कवायद में है. झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष हेमंत सोरेन सत्ता में एक बार फिर वापसी के लिए बदलाव यात्रा पर निकले हैं और बीजेपी के खिलाफ माहौल बनाने में जुटे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay