एडवांस्ड सर्च

हरियाणा-महाराष्ट्र में फंसी BJP झारखंड में उठाएगी राष्ट्रीय मुद्दे या होगी लोकल?

राज्य के सीएम रघुवर दास के नेतृत्व में बीजेपी लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी को बेताब है. बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के नतीजे को देखते हुए विधानसभा चुनाव में मिशन-65 प्लस का टारगेट तय किया है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 02 November 2019
हरियाणा-महाराष्ट्र में फंसी BJP झारखंड में उठाएगी राष्ट्रीय मुद्दे या होगी लोकल? सीएम रघुवर दास

  • झारखंड विधानसभा चुनाव का हो चुका है ऐलान
  • 5 चरणों में होंगे चुनाव, 23 दिसंबर को आएंगे नतीजे

झारखंड में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. 81 सीटों वाली विधानसभा के लिए 5 चरणों में चुनाव होंगे. पहले चरण का मतदान 30 नवंबर को होगा. 7 दिसंबर को दूसरे, 12 दिसंबर को तीसरे चरण के तहत वोटिंग होगी. वहीं, चौथे चरण की वोटिंग 16 दिसंबर को जबकि 20 दिसंबर को पांचवें चरण की वोटिंग होगी. वहीं, नतीजे 23 दिसंबर को घोषित होंगे.

राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में बीजेपी लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी को बेताब है. बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के नतीजे को देखते हुए विधानसभा चुनाव में मिशन-65 प्लस का टारगेट तय किया है. बीजेपी-एजेएसयू ने मिलकर चुनावी मैदान में उतरने का फैसला किया है, लेकिन बीजेपी के लिए झारखंड में राह आसान होगी या नहीं, ये सस्पेंस नतीजा आने तक बना रहेगा.

हाल में संपन्न हुए महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने राष्ट्रीय मुद्दों (धारा-370, ट्रिपल तलाक, अयोध्या मामला इत्यादि) पर खासा जोर दिया था, लेकिन परिणाम उतने उत्साहजनक नहीं रहे और बीजेपी अपने टारगेट से काफी दूर रह गई. ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी के लिए झारखंड में लोकल मुद्दे काफी अहम होंगे.

दो राज्यों में नहीं मिला बहुमत

महाराष्ट्र और हरियाणा में हुए चुनाव में बीजेपी ने जो अपना टारगेट सेट किया था उससे वो काफी दूर रह गई थी. दोनों राज्यों में उसे बहुमत नहीं मिला. हरियाणा में 40 सीटों पर जीत दर्ज करने वाली बीजेपी को जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के समर्थन की जरूरत पड़ी. वहीं,  महाराष्ट्र में अभी तक स्थिति साफ नहीं हो पाई है. शिवसेना-बीजेपी के बीच समझौता नहीं हो पाया है. यहां शिवसेना और बीजेपी के बीच सीएम की कुर्सी को लेकर बवाल मचा हुआ है. दोनों अपनी-अपनी मांग पर अड़े हैं.   

अति आत्मविश्वास नहीं, तैयारी पर जोर

पिछले विधानसभा चुनाव में मुख्य विपक्षी दल झारखंड विकास मोर्चा के 6 विधायकों को तोड़कर बीजेपी किसी तरह सरकार बनाने में सफल रही. भाजपा इस बार किसी भी हाल में बहुमत के आंकड़े को छूना चाहती है. भाजपा ने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और राज्य के विधानसभा चुनाव प्रभारी ओम माथुर को इस मोर्चे पर बीते अगस्त से ही लगा रखा है.  झारखंड में इस साल हुए लोकसभा चुनाव में भले ही 14 में से 12 सीटें एनडीए को मिलीं, मगर पार्टी विधानसभा चुनाव को लेकर किसी तरह के मुगालते में नहीं है. पार्टी का मानना है कि हरियाणा की सभी 10 लोकसभा सीटों पर स्वीप करने के बाद भी जब विधानसभा चुनाव में बहुमत नहीं मिल पाया तो फिर झारखंड को लेकर भी 'अति आत्मविश्वास' का शिकार होना ठीक नहीं.

पिछली बार 81 में 37 सीटें मिलीं

दरअसल, झारखंड को लेकर भाजपा की चिंता इसलिए है, क्योंकि पिछली बार 81 में से उसे सिर्फ 37 सीटें मिलीं थीं. तब बहुमत के लिए भाजपा को मुख्य विपक्षी दल झाविमो के छह विधायकों को तोड़ना पड़ा था. इसके बाद बहुमत के लिए जरूरी 41 के मुकाबले भाजपा के पास 43 विधायक हुए थे. पार्टी सूत्रों का कहना है कि अगर 2014 की तरह फिर भाजपा की गाड़ी बहुमत से दूर खड़ी हो गई तो पिछली बार की तरह जोड़-तोड़ की राजनीति के लिए मजबूर होना पड़ेगा, ऐसे में पार्टी इस बार के विधानसभा चुनाव में पूरी ताकत झोंककर बहुमत लाने की कोशिश में है.

टिकट वितरण को लेकर नहीं लेंगे रिस्क

बीजेपी हरियाणा की तरह झारखंड में टिकट वितरण में किसी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहती. हरियाणा में टिकट कटने से नाराज हुए कई नेताओं ने जिस तरह से बागी के रूप में चुनाव लड़कर जीत दर्ज की, उससे भाजपा झारखंड में जनाधार वाले नेताओं को नाराज करने का जोखिम बिल्कुल मोल लेना नहीं चाहती.

झारखंड के ये मुद्दे अहम हैं

स्वास्थ, शिक्षा, कृषि के क्षेत्र और रोजगार का मुद्दा.

लॉ एंड ऑर्डर की समस्याऐं पूरे प्रदेश में है.

शिक्षकों का मामला भी इस चुनाव में उठेगा.

सीएनटी और एसपीटी एक्ट को लेकर आदिवासी नाराज हैं.

भूमि अधिग्रहण बिल को लेकर भी राज्य में विरोध हुआ था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay