एडवांस्ड सर्च

12 दिन बाद वोटिंग, पार्टियों को समर्थन पर चुप्पी साधे हैं हरियाणा के डेरे

हरियाणा की जमीन धार्मिक संतों के लिए काफी उपजाऊ मानी जाती है. इसीलिए यहां एक दो नहीं बल्कि छोटे-बड़े दर्जनों की संख्या में डेरे हैं. प्रदेश में मतदान में महज चंद दिन बचे हैं, इसके बावजूद अभी तक यहां के डेरों, संतों और धार्मिक गुरुओं के संगठनों ने खामोशी अख्तियार कर रखी है.

Advertisement
aajtak.in
कुबूल अहमद नई दिल्ली, 10 October 2019
12 दिन बाद वोटिंग, पार्टियों को समर्थन पर चुप्पी साधे हैं हरियाणा के डेरे राम रहीम के साथ हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज (फाइल-फोटो)

  • हरियाणा के डेरे और संतों की राजनीति
  • डेरा राजनीतिक समर्थन पर खामोश

हरियाणा की जमीन धार्मिक संतों के लिए काफी उपजाऊ मानी जाती है. इसीलिए यहां एक दो नहीं बल्कि छोटे-बड़े दर्जनों की संख्या में डेरे हैं.  हरियाणा की सियासत में संतों और डेरा बाबाओं की अच्छी खासी दखल है. यही वजह है कि चुनाव के आगाज के साथ प्रदेश में बाबाओं के डेरों ने सबका ध्यान अपनी ओर खींचना शुरू कर दिया है. हालांकि प्रदेश में मतदान में महज चंद दिन बचे हैं, इसके बावजूद अभी तक यहां के डेरों, संतों और धार्मिक गुरुओं के संगठनों ने खामोशी अख्तियार कर रखी है.

डेरा सच्चा सौदा

हरियाणा के सिरसा स्थित गुरमीत राम रहीम के डेरा सच्चा सौदा के भक्तों की तादाद देश भर करीब छह करोड़ मानी जाती है. हरियाणा की सियासत में इस कदर इनकी तूती बोलती है कि बीजेपी से लेकर कांग्रेस के दिग्गज तक डेरा सच्चा सौदा के दरबार में जाकर समर्थन की गुहार लगाते रहे हैं. मौजूदा समय में गुरमीत राम रहीम इन दिनों जेल में बंद हैं.

इस बार के हरियाणा विधानसभा चुनाव में डेरा सच्चा सौदा ने अभी तक किसी भी पार्टी के लिए अपने समर्थन का ऐलान नहीं किया है. डेरा सच्चा सौदा ने सियासी मामलों को देखने के लिए एक 15 सदस्यों की समिति गठित कर रखी है,  विधानसभा चुनाव में किस राजनीतिक पार्टी को समर्थन देना है, इसका फैसला यह कमिटी ही करती है.

संत रामपाल

इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर धर्मगुरु की राह अपनाने वाले संत रामपाल सतलोक आश्रम नाम से डेरा चलाते हैं. रामपाल खुद को कबीरपंथी संप्रदाय का बताते हैं और फिलहाल नवंबर 2014 से जेल में बंद हैं. रामपाल के समर्थकों में जाट समुदाय की अच्छी खासी भागीदारी है. 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान गुरु रामपाल ने कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान किया था. लेकिन इस बार के विधानसभा चुनाव में अभी तक कोई फैसला नहीं किया है.

रोहतक के आस-पास की सीटों पर रामपाल के अनुयायियों का अच्छा-खासा प्रभाव है. इसके अलावा हर विधानसभा सीट में 5 से 6 हजार मतदाता हैं, जो रामपाल के कहने पर वोट कर सकते हैं. रामपाल के कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा से अच्छे रिश्ते हैं, ऐसे में कांग्रेस की तरफ एक बार उनका झुकाव हो सकता है.

गौकरण धाम

रोहतक में गौकरण धाम नाम का एक और डेरा है, जिसका रोहतक, गोहना और इसके सटे इलाकों में रहने वाले पंजाबी समुदाय पर अच्छा प्रभाव माना जाता है. डेरे के मुखिया बाबा कपिल पुरी को कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा का समर्थक माना जाता है, कहा जाता है कि वे स्वाभाविक रूप से कांग्रेस के प्रति झुकाव रखते हैं. इसके बावजूद इस चुनाव में गौकरण धाम का झुकाव बीजेपी की तरफ है और समर्थन देने का संकेत भी दिया है.

डेरा बालक पुरी

डेरा बाबा श्री बालक पुरी का आश्रम रोहतक के डबल फाटक के करीब स्थित है. बाबा बालक पुरी अपने अनुयायियों को किसी खास पार्टी के पक्ष में वोट देने के लिए नहीं कहते हैं. जबकि इस डेरा का पंजाबी समुदाय में अच्छा प्रभाव माना जाता है और यहां ज्यादातर बीजेपी के नेता आते रहते हैं. मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर खुद भी पंजाबी समुदाय से आते हैं, ऐसे में डेरा बालक पुरी का झुकाव उनकी तरफ साफ देखा जा सकता है. करन पुरी भी अक्सर बीजेपी के कार्यक्रमों में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाते रहते हैं . ऐसे में वो अपने समर्थकों को बीजेपी के पक्ष में कर सकते हैं.

महंत सतीश दास

महंत सतीश दास का आश्रम रोहतक जिले के महम इलाके में है. सतीश दास डेरा की ताहत महम गांवों के आस-पास के इलाके में अच्छी खासी है. लंबे समय तक महंत सतीश दास की इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के साथ गहरे रिश्ते रहे हैं और 2014 के विधानसभा चुनाव में इनेलो उम्मीदवार के तौर पर अपनी किस्मत आजमाया था, लेकिन जीत नहीं सके थे. इसके बाद उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया है.

काली दास महाराज

हरियाणा में काली दास महाराज का डेरा रोहतक जिले के सांपला इलाके में आता है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 2017 में अपने तीन दिन के रोहतक दौरे के दौरान काली दास महाराज के डेरे पर भी गए थे. मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से लेकर पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा तक डेरा का दौरा कर चुके हैं. काली दास को अक्सर बीजेपी के बैनर तले आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में देखा जाता है. हालांकि अभी तक उन्होंने विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी के पक्ष में अपना फरमान जारी नहीं किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay