एडवांस्ड सर्च

हरियाणा: क्या बंसीलाल के गढ़ पर कब्जा बरकरार रख पाएंगी किरण चौधरी?

बंसीलाल की राजनीति का केंद्र रहा है भिवानी जिले का तोशाम विधानसभा क्षेत्र. तोशाम सीट से चुनाव जीतकर ही बंसीलाल ने मुख्यमंत्री पद तक का सफर तय किया. यह वही विधानसभा क्षेत्र है, जो हरियाणा की सियासत के दो दिग्गजों चौधरी बंसीलाल और देवीलाल की चुनावी भिड़ंत का भी गवाह रहा.

Advertisement
aajtak.in
बिकेश तिवारी नई दिल्ली, 20 October 2019
हरियाणा: क्या बंसीलाल के गढ़ पर कब्जा बरकरार रख पाएंगी किरण चौधरी? कांग्रेस की नेता किरण चौधरी (फाइल फोटोः ट्विटर)

  • बंसीलाल ने देवीलाल को दी थी पटखनी
  • पुत्रवधु किरण चौधरी हैं वर्तमान विधायक

हरियाणा की सियासत में बड़ा नाम चौधरी बंसीलाल. बंसीलाल का नाम आए और तोशाम विधानसभा सीट का जिक्र न हो, ऐसा हो ही नहीं सकता. बंसीलाल की राजनीति का केंद्र रहा है भिवानी जिले का तोशाम विधानसभा क्षेत्र. तोशाम सीट से चुनाव जीतकर ही बंसीलाल ने मुख्यमंत्री पद तक का सफर तय किया. यह वही विधानसभा क्षेत्र है, जो हरियाणा की सियासत के दो दिग्गजों चौधरी बंसीलाल और देवीलाल की चुनावी भिड़ंत का भी गवाह रहा.

तोशाम विधानसभा क्षेत्र से 11 बार बंसीलाल और उनके परिवार के सदस्यों ने चुनाव जीता है. इस क्षेत्र को चौधरी बंसीलाल के परिवार का अभेद्य दुर्ग भी कहा जाता है. यहां से वर्तमान में चौधरी बंसीलाल की पुत्रवधु और कांग्रेस की मैनिफेस्टो कमेटी की चेयरपर्सन किरण चौधरी विधायक हैं. वह हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मारे गए बंसीलाल के बड़े पुत्र सुरेंद्र सिंह चौधरी की पत्नी हैं. बंसीलाल के बाद चौधरी सुरेंद्र तोशाम सीट का प्रतिनिधित्व करते थे. सुरेंद्र सिंह के निधन के बाद हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने उनकी पत्नी किरण चौधरी को मैदान में उतारा था.

उपचुनाव के बाद किरण चौधरी ने 2009 के चुनाव में भी जीत दर्ज की. 2014 में भारतीय जनता पार्टी की लहर के बावजूद किरण तोशाम का दुर्ग बचाने में सफल रही थीं. किरण ने 2014 के चुनाव में अपनी निकटतम प्रतिद्वंदी इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) की कमला रानी को मात दी थी. इस बार बंसीलाल के गढ़ में कमल खिलाने की जुगत में जुटी भाजपा ने किरण के खिलाफ शशि रंजन परमार को उतारा है, तो वहीं पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला की पार्टी इनेलो ने चौटाला के पूर्व ओएसडी की धर्मपत्नी कमला पर ही भरोसा जताया है.

दो लाल की भिड़ंत में बंसीलाल ने मारी थी बाजी

तोशाम सीट पर सन् 1972 के चुनाव में चौधरी बंसीलाल और चौधरी देवीलाल आमने-सामने आए. 1967 में तोशाम सीट से बड़े जाट नेता के तौर पर उभरे बंसीलाल ने तब चौधरी देवीलाल को शिकस्त दी थी. हालांकि, इस सीट से बंसीलाल को एक चुनाव में हार का भी सामना करना पड़ा था. 1987 के विधानसभा चुनाव में प्रदेश में देवीलाल की लहर थी. इस लहर में बंसीलाल भी हार गए थे. इस सीट से बंसीलाल पांच बार विधायक रहे. बंसीलाल के बाद तोशाम सीट से तीन बार उनके बड़े पुत्र सुरेंद्र सिंह निर्वाचित हुए. उपचुनाव में मिली जीत को भी जोड़ लें तो किरण चौधरी भी इस सीट से तीन बार विधानसभा पहुंचने में सफल रहीं हैं.

शुरुआती चुनावों में रहा निर्दलीय उम्मीदवारों का दबदबा

तोशाम सीट पर आजादी के बाद हुए शुरुआती चुनावों में निर्दलीय उम्मीदवारों का दबदबा रहा. सन् 1957 के चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार चंद्रभान ने विजय हासिल की थी. चंद्रभान बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए. 1962 में भी जनता ने निर्दलीय उम्मीदवार जगन्नाथ को विधानसभा भेजा. इसके बाद शुरू हुआ तोशाम का बंसीलाल युग. तोशाम और बंसीलाल, दोनों ही एक-दूसरे के पूरक बन गए. अब बंसीलाल की सीट से विधायक उनकी पुत्रवधु किरण क्या विरोधियों की तगड़ी खेमेबंदी से पार पाकर इस सीट पर अपना कब्जा बरकरार रख पाएंगी, यह 24 अक्टूबर को साफ हो पाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay