एडवांस्ड सर्च

महाराष्ट्र: अगर दिख रहे हैं कोरोना के लक्षण तो इन सेंटरों पर कराएं टेस्ट

दुनिया भर में कोरोना वायरस का खौफ फैला हुआ है. भारत में भी यह वायरस लोगों को तेजी से बीमार कर रहा है. कोरोना वायरस की वजह से महाराष्ट्र का काफी बुरा हाल है. भारत में जहां मरीजों की संख्या 800 पार कर चुकी है वहीं महाराष्ट्र में 140 से ज्यादा मरीज अब तक सामने आ चुके हैं.

Advertisement
aajtak.in
साहिल जोशी मुंबई, 27 March 2020
महाराष्ट्र: अगर दिख रहे हैं कोरोना के लक्षण तो इन सेंटरों पर कराएं टेस्ट कोरोना के लक्षण दिखने पर घबराने की जरूरत नहीं है (फाइल फोटो: PTI)

  • भारत में केरल और महाराष्ट्र से सामने आए कोरोना के सबसे ज्यादा केस
  • कोरोना को फैलने से रोकने के लिए चल रहा है 21 दिनों का लॉकडाउन

कोरोना वायरस को लेकर भारत में 21 दिनों का लॉकडाउन चल रहा है ताकि इसके संक्रमण को रोका जा सके. महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का कहर काफी ज्यादा है. लोगों में इस बात की चिंता है कि अगर उनके अंदर कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं तो वे जांच कराने के लिए कहां जाएं. ऐसे लोगों की मदद के लिए हम आपको बता रहे हैं कि वे क्या-क्या जरूरी कदम उठा सकते हैं और कहां-कहां टेस्ट करवा सकते हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

आपको बता दें कि फिलहाल मुंबई में कुल 19 जगहों पर कोरोना टेस्ट किए जा रहे हैं. इनमें से 8 सरकारी अस्पतालों और 11 निजी अस्पताल हैं जहां यह टेस्ट किया जा रहा है. निजी लैब में टेस्ट के लिए आपको 4500 रुपये खर्च करने होंगे जबकि सरकारी अस्पतालों में यह टेस्ट मुफ्त किया जा रहा है.

टेस्ट कराने से पहले इस हेल्पलाइन नंबर पर लें सलाह

कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. ऐसे में हमारी सलाह है कि यदि आपको कोरोना संक्रमित होने का संदेह है तो अस्पताल जाने से पहले हेल्पलाइन नंबर पर फोन करें और उचित सलाह ले लें. बता दें कि राज्य सरकार ने एक हेल्पलाइन नंबर 022-470-85085 जारी कर रखा है जिस पर कोरोना से संक्रमित होने के संदेह पर डॉक्टर से सलाह ली जा सकती है.

थारोकेयर के चेयरमैन ने बताईं अहम बातें

थारोकेयर के चेयरमैन अरोकिस्वामी वेलुमणि ने आजतक से हुई खास बातचीत में बताया कि कोरोना टेस्ट थोड़ा खतरनाक है. क्योंकि सभी को बोला जा रहा है कि मरीज से दूर रहें जबकि लैब टेक्निशियन को मरीज के गले और नाक से सैंपल लेना पड़ रहा है. अभी टेक्निशयन भी ऐसे टेस्ट के लिए तैयार नहीं थे क्योंकि किसी को ऐसी समस्या की कोई आशंका नहीं थी. बाहर से किट आने बंद हो चुके हैं. यह बड़ी समस्या है.

वेलुमणि ने आगे कहा कि आम आदमी को इस बीमारी से काफी घबराहट है. उन्हें यह घबराहट दूर भगानी होगी. अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है. हर साल कई लाख लोग टीबी से मर जाते हैं. इसलिए पैनिक नहीं होना चाहिए. कोल्ड-फीवर का लक्षण बहुत सामान्य है. अक्सर लोगों को होता रहता है. आज हो गया तो आप घबरा गए.

इसलिए महंगा होगा शुरुआती दौर में टेस्ट करवाना

कोरोना टेस्ट पर बात करते हुए वेलुमणि ने आगे कहा कि अगर आपको कोरोना के लक्षण लग रहे हैं तो आप टेस्ट के लिए लैब से संपर्क कर सकते हैं. प्राइवेट लैब घर से सैंपल कलेक्ट कर रही है. लेकिन इसके लिए आपको 4500 रुपये खर्च करने होंगे.

इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि अगर आपको लगता है कि कोरोना का टेस्ट कराना है तो फिर आपको यह टेस्ट पूरे परिवार का ही करवाना होगा, जिसकी रकम काफी ज्यादा होगी. इसलिए थोड़ा धैर्य से काम लें. डिस्टेंस बना कर रहें. नियंत्रण के बाहर होता है तो ही टेस्ट के लिए जाएं. क्योंकि टेस्ट आपकी समस्या का समाधान नहीं होगा सिर्फ बीमारी का पता लगेगा.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

कोरोना पर aajtak.in का विशेष वॉट्सऐप बुलेटिन डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay