एडवांस्ड सर्च

EXCLUSIVE: यूपी बोर्ड में सब्जीवाले के बेटे ने किया हाईस्कूल टॉप

बस्ती के हरैया का रहने वाले सर्वेश वर्मा ने यूपी बोर्ड में हाईस्कूल टॉप किया है. वह बहुत ही गरीब परिवार से है. घर पर खेती कम है, इसलिए पिता गांव में सब्जी बेचते हैं.

Advertisement
aajtak.in
मुकेश के गजेंद्रलखनऊ/गाजियाबाद, 18 May 2015
EXCLUSIVE: यूपी बोर्ड में सब्जीवाले के बेटे ने किया हाईस्कूल टॉप यूपी बोर्ड में हाइस्कूल टॉप करने वाले सर्वेश वर्मा

अंधेरे के खिलाफ संघर्ष में हमें हिम्मत नहीं खोनी है!
क्योंकि- जीत तो आखिर, उजाले की ही होनी है!!


कवि जितेन्द्र 'जौहर' की कविता की ये पंक्तियां यूपी बोर्ड के 10वीं के टॉपर सर्वेश वर्मा पर सटीक बैठती हैं. बस्ती के हरैया के सहसरांव गांव का रहने वाला सर्वेश गरीब परिवार से है. घर पर खेती कम है, इसलिए पिता स्वामीनाथ गांव में सब्जी बेचते हैं. परिवार को दो जून की रोटी बमुश्किल से नसीब होती है. आंखों में आईएएस अफसर बनने का सपना संजोए सर्वेश पूरे देश की गरीबी दूर करना चाहते हैं.

aajtak.in से एक्सक्लूसिव बातचीत में सर्वेश ने बताया, 'मुझे पूरा विश्वास था कि मैं बोर्ड परीक्षा टॉप करूंगा. मैंने बहुत मेहनत किया था. हालांकि मेरे लक्ष्य से मुझे अंक कम हासिल हुआ है. मैंने 98 फीसदी नंबर पाने का लक्ष्य बनाया था, जबकि 96.8 फीसदी ही नंबर हासिल कर सका. मैं गरीबी में जी रहा हूं. मुझे अफसर बनकर समाज की सेवा करनी है.'

हरैया के जीएसए एकेडमी में पढ़ने वाले सर्वेश को 600 में से 581 अंक हासिल हुए हैं. वह बताते हैं कि उनके स्कूल के सभी शि‍क्षकों ने पढ़ाई में बहुत मदद की, लेकिन वह अपने अलगू सर को खास सम्मान देते हैं. उनका कहना है, 'सभी टीचरों ने मेरी बहुत मदद की, लेकिन अलगू सर मुझ पर विशेष ध्यान देते थे. गलती होने पर उसे तुरंत सुधारने के लिए कहते थे.'

स्कूल के लिए 10 किमी. चलाते थे साइकिल
बोर्ड परीक्षा देने के बाद सर्वेश इन दिनों अपने मामा के घर गाजियाबाद में हैं. वह बताते हैं, 'मैं रोज 10 किमी. साइकिल चलाकर स्कूल पढ़ने जाता था. सुबह 4 बजे उठ जाता था, क्योंकि सुबह के समय रिवीजन अच्छा हो जाता है. एक दिन में कम से कम चार घंटे पढ़ाई करता था. मैंने कभी ट्यूशन नहीं पढ़ा. मेरे हिसाब से स्कूल की पढ़ाई के बाद कोर्स रिवीजन सबसे अधिक जरूरी है.'

मां ने रखा खास ख्याल
अपने मां-बाप का शुक्रिया अदा करते हुए सर्वेश कहते हैं कि उनकी मां ने भी बहुत मेहनत किया है. वह उनके साथ ही सुबह उठ जाती थीं. कई बार वह जग नहीं पाते तो वह उन्हें उठा देती. उनके खाने-पीने और कपड़े के साथ पढ़ाई पर खास नजर रखती थीं. घर पर कोई काम नहीं करने देती ताकि पढ़ाई के लिए अधिक से अधिक समय निकल सके.

बहन भी है पढ़ने में तेज
सर्वेश के चचेरे भाई विकास चौधरी के मुताबिक, सर्वेश बचपन से पढ़ने में तेज है. बड़ा होकर आईएएस अफसर बनना चाहता है, ताकि समाज की सेवा कर सके. उसकी बड़ी बहन अंजली वर्मा भी पढ़ने में बहुत तेज है. उसने भी 12वीं में 90 फीसदी से अधिक अंक हासिल किया है. इस समय वह साइंस से ग्रेजुएशन कर रही है.

मंत्री राजकिशोर ने फोन पर दी बधाई
सर्वेश वर्मा यूपी के कैबिनेट मंत्री राजकिशोर सिंह के विधानसभा क्षेत्र का है. aajtak.in से राजेकिशोर ने कहा, 'सर्वेश ने मेरे विधानसभा क्षेत्र का नाम रौशन किया है. मैंने उसे और उसके स्कूल के प्रधानाचार्य को फोन पर बधाई दी है. वह इस समय गाजियाबाद में है. गांव वापस आने पर उसे और उसके स्कूल को सम्मानित किया जाएगा.'

बताते चलें कि यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा का रिजल्ट रविवार को 12.30 बजे जारी किया गया. 10वीं में 83.74 फीसदी और 12वीं में 88.83 फीसदी रिजल्ट आया है. 12वीं में लखनऊ की ज्योति राठौर ने टॉप किया और 10वीं में बस्ती के सर्वेश वर्मा ने टॉपर रहे हैं. इस बार भी लड़कों के मुकाबले लड़कियों ने बाजी मारी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay