एडवांस्ड सर्च

IAS अफसर की पत्नी जो अरुणाचल में बच्चों को पढ़ाकर सुधार रही हैं रिजल्ट

रुही दानिश अशरफ पहली बार 2016 में इस जिले में आई थीं. उसी दौरान उनके पति दानिश अशरफ एक IAS अधिकारी के तौर पर यहां तैनात हुए थे. वह जब इलाके में घूमने निकलीं तो देखा कि जिले में पहले से तीन स्कूल तो चल रहे थे लेकिन वहां स्टाफ कम था.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: मानसी मिश्रा ]नई दिल्ली, 21 May 2019
IAS अफसर की पत्नी जो अरुणाचल में बच्चों को पढ़ाकर सुधार रही हैं रिजल्ट अपनी स्टूडेंट को पुरस्कार देते हुए रूही दानिश

ईटानगर से लगभग 100 किमी दूर, एक दुर्गम पहाड़ी रास्ते पर अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी हिस्से में एक अपर सुबनसिरी जिला है. यहां चारों तरफ बर्फ से ढके पहाड़ पूरे जिले को खूबसूरती की मिसाल बनाते हैं. इस जिले में हजारों परिवार रहते हैं, जिनमें कई आदिवासी परिवार भी शामिल हैं.

रुही दानिश अशरफ पहली बार 2016 में इस जिले में आई थीं. उसी दौरान उनके पति दानिश अशरफ एक IAS अधिकारी के तौर पर यहां तैनात हुए थे. वह जब इलाके में घूमने निकलीं तो देखा कि जिले में पहले से तीन स्कूल तो चल रहे थे लेकिन वहां स्टाफ कम था. इससे यहां पढ़ने  वाले बच्चों के रिजल्ट पर असर पड़ रहा था. Your story  में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक रूही को यहां के स्कूलों को देख‍कर ख्याल आया कि उन्हें अब इंजीनियरिंग की एजुकेशन का सही इस्तेमाल करना चाहिए. रुही कहती हैं कि मैंने तभी उन बच्चों को पढ़ाने की सोची.

Your story से रूही ने कहा कि उन्होंने Daporijo स्थि‍त Government Higher Secondary School में 12वीं में Physics पढ़ाने का निर्णय लिया. Daporijo यहां का जिला मुख्यालय है जहां पांच साल से Physics का टीचर न होने से बच्चों को काफी मुश्‍किल हो रही थी.

इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर हैं रूही

इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाली रूही ने बच्चों को बिना किसी फीस के फीजिक्स पढ़ानी शुरू की. इसका असर यह हुआ कि मार्च 2019 में फीजिक्स में 80 फीसद छात्र पास हो गए. वहीं पहले इसी स्कूल में फीजिक्स में महज 21 प्रतिशत पास हुए थे. Digital India में प्रकाशित demographic report के मुताबिक भी Upper Subansiri साक्षरता में 64 फीसदी नीचे है. इसके पीछे मुख्य वजह यहां के स्कूलों में संसाधनों और खासकर टीचिंग स्टाफ की कमी है. रूही ऐसे वक्त में इन छात्रों की जिम्मेदारी लेकर सामने आईं.

पहले थोड़ा नर्वस थी

रूही बताती हैं कि जब उन्होंने पढ़ाने की शुरुआत की, तब शुरू में वह नर्वस थीं. उन्हें पढ़ाने का भी कोई अनुभव नहीं था. यही नहीं उन्हें स्टेज पर बोलने से भी हिचक थी. यहीं से मैंने अपने सभी डरों पर जीत हासिल करने की ठानी और बच्चों को किसी भी तरह पढ़ाने की सोची. यहां के बच्चे लंबे समय से फीजिक्स टीचर न होने से इस विषय में काफी कमजोर थे, इसके लिए बच्चों ने अपनी तरफ से प्रयास किए, साथ ही रूही ने भी एक्स्ट्रा क्लास लेकर बच्चों को पढ़ाया.

दिल्ली आकर करती थीं वीडियो डाउनलोड

इन बच्चों में हमेशा कुछ न कुछ नया कॉन्सेप्ट सीखने की ललक रहती थी. इस‍के लिए रूही ने एकदम आगे बढ़कर बच्चों पर टीचिंग का न्यू मेथड अपनाया. अब वह बच्चों को प्रोजेक्टर से पढ़ाने लगीं, साथ ही वह पढ़ाई के तरीके को हल्का करने के लिए fun element भी जोड़ दिया. मसलन gravitation और momentum समझाने के लिए वह सुपरहीरो की फिल्में दिखाकर समझाती थीं. रूही के लिए यह काफी आसान नहीं था. वह बताती हैं कि वहां पहाड़ी इलाके में नेटवर्क की प्रॉब्लम रहती थी. इसके लिए वह अपने होमटाउन दिल्ली आती थीं और यहां वीडियो डाउनलोड करके बच्चों को दिखाती थीं.

कैसे हुई शुरुआत

रूही के पति दानिश अशरफ की तैनाती Upper Subansiri जिले में डिप्टी कमिश्नर के तौर पर 2016 में हुई थी. उन्होंने बताया कि कुछ छात्रों ने उनसे अपने स्कूल में फीजिक्स टीचर की मांग की थी. वह कहते हैं कि जब पहली बार बच्चे उनके पास आए तो मेरे मन में आया कि मैं रूही से पूछूंगा कि क्या वह पढ़ाने को तैयार होगी. मैंने जैसे ही रूही से पूछा वह तुरंत तैयार हो गई. दानिश कहते हैं कि मुझे मेरी पत्नी पर गर्व है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay