एडवांस्ड सर्च

World Economic Forum क्या है, दुनिया के लिए कैसे तय करता है दिशा?

What is World Economic Forum? विश्व आर्थिक मंच निजी और सार्वजनिक सहयोग के लिए काम करने वाली एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है. इस मंच पर प्रसिद्ध नेता, उद्योगपति और समाज को आकार देने वाले सांस्कृतिक नेताओं को जगह दी जाती है. इसके अलावा मंच पर क्षेत्रीय और उद्योग से जुड़े मुद्दों को भी उठाया जाता है.

Advertisement
aajtak.in
दीपक सिंह स्वरोची नई दिल्ली, 20 January 2020
World Economic Forum क्या है, दुनिया के लिए कैसे तय करता है दिशा? What is World Economic Forum

  • दावोस में दुनियाभर के 3,000 से अधिक प्रतिनिधि भाग लेंगे
  • दीपिका पादुकोण और सद्गुरू भी WEF में लेंगे हिस्सा

आज से स्विट्जरलैंड के दावोस में विश्व आर्थिक मंच (वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम-WEF) की 50वीं बैठक शुरू हो रही है. इसमें सभी ताकतवर देशों के बड़े नेता, उद्योगपति और बड़ी हस्तियां शामिल होती हैं. इस बार अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल, अफगानिस्तान के अशरफ गनी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान इस वार्षिक बैठक में हिस्सा लेंगे. वहीं भारत की तरफ से कैबिनेट मंत्री पीयूष गोयल, राज्यमंत्री मनसुख लाल मंडाविया, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, पंजाब के वित्त मंत्री और तेलंगाना के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री भी हिस्सा लेंगे.

मंत्रियों के अलावा कुछ प्रमुख उद्योगपति, फिल्म अभिनेत्री दीपिका पादुकोण और सद्गुरू के भी इस बैठक में भाग लेने की बात कही गई है. दावोस में दुनियाभर के 3,000 से अधिक प्रतिनिधि भाग लेंगे.

क्या है विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum)?

विश्व आर्थिक मंच निजी और सार्वजनिक सहयोग के लिए काम करने वाली एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है. इस मंच पर प्रसिद्ध नेता, उद्योगपति और समाज को आकार देने वाले सांस्कृतिक नेताओं को जगह दी जाती है. इसके अलावा मंच पर क्षेत्रीय और उद्योग से जुड़े मुद्दों को भी उठाया जाता है.  

कब बना विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum)

विश्व आर्थिक मंच की शुरुआत एक गैर लाभकारी संस्था के तौर पर साल 1971 में हुई. इसका मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जेनेवा में है. यह एक स्वतंत्र संस्था है जो निष्पक्ष होकर दुनिया के विशेष हितों के लिए कार्य करती है. यह मंच दुनिया की सभी सरकारों के मानकों पर खड़े उतरते हुए उद्योग लाने के लिए प्रयास करता है लेकिन इसमें आम लोगों के हितों का भी ख़्याल रखा जाता है.

फोरम का एकमात्र उद्देश्य विश्व के व्यवसाय, राजनीति, शैक्षिक और अन्य क्षेत्रों के प्रमुखों को एक साथ लाकर औद्योगिक दिशा तय करना है. मंच की कोशिश रहती है कि सभी तरह के प्रयास में नैतिक और बौद्धिक अखंडता का पूरा सम्मान हो.

WEF ने अपने साइट पर संस्था के मिशन का जिक्र करते हुए लिखा है कि हमारे कामकाज का मुख्य उद्देश्य स्टेक होल्डर कल्चर पर अलग तरीके की संस्थागत संस्कृति स्थापित करना है. जिसमें समाज के सभी वर्गों का खास ख्याल रखा जाए. यह संस्था निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के अलग अलग संस्थानों के बीच सामंजस्य स्थापित करने में भी मदद करता है.

संस्था का उद्देशय समाज के उन सभी लोगों को साथ लेकर चलने और उनकी बातों पर चर्चा के लिए है जो समाज और दुनिया के बदलाव में सकारात्मक भूमिका निभा सकते हैं.

क्यों जरूरी है WEF?

दुनिया के सभी देश अपने हितों को ध्यान में रखते हुए काम करते हैं. कई बार एक देश के हित की वजह से अन्य देशों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है. युद्ध के बाद उपजे हालात में देश कैसे काम करेगा और विश्व की उसमें क्या सहभागिता हो सकती है. इन सभी विषयों पर WEF में सामूहिक चर्चा होती है.

इस दौरान दुनियाभर के राजनेता, बड़े उद्योगपति, ताकतवर शख्सियत, समाजिक कार्यकर्ता, पर्यावरण एक्टिविस्ट, क्षेत्रीय नेता, किसी खास विषय पर काम कर रहे लोग, चिंतक और विचारक उपस्थित होतें हैं. सभी अपनी चिंता रखते हैं और उसपर सामूहिक समाधान के लिए चर्चा होती है.

पिछले 50 सालों में देश टैक्नोलॉजी के क्षेत्र में काफी आगे बढ़ा है. इतना ही नहीं आने वाले समय में दुनिया और भी आधुनिक हो जाएगा. ऐसे में सभी देशों के सामने पर्यावरण को बचाए रखने की चुनौती है. इस फोरम में इसी तरह के महत्वपूर्ण विषयों पर बात होती है. अगर किसी देश में या उसके किसी छोटे से हिस्से में किसी वर्ग विशेष या किसी समुदाय से जुड़ा कोई महत्वपूर्ण मसला होता है तो उसपर भी चर्चा कर समाधान ढूंढ़ा जाता है.

WEF अन्य मंचों से अलग कैसे?  

फोरम का दावा है कि वो सार्वजनिक और निजी सेक्टर्स के बीच एंकर की भूमिका निभाता है. यानी विचारों के आदान प्रदान का कार्य करता है. इस मंच पर बड़ी कंपनियों के CEO (मुख्य कार्यकारी अधिकारी), राष्ट्राध्यक्ष, मंत्री और नीति निर्माता, एक्सपर्ट्स, शैक्षणिक लोग, अंतरराष्ट्रीय संस्थान, युवा, तकनीक अन्वेषक (खोजने वाले) और सिविल सोसाइटी के प्रतिनिधियों को जगह दी जाती है.

WEF अपने अलग होने का दावा करते हुए कहता है कि वो अलग है क्योंकि वो विश्व की तरक्की के लिए निष्पक्ष होकर सोचता है. यानी कि किसी खास देश को लाभ या किसी को हानी पहुंचाने की नीयत से काम नहीं करता.

वो दुनिया का ध्यान सभी तरह के वैश्विक मुद्दों की तरफ आकर्षित करता है. इसके साथ ही फोरम समाज के सभी वर्गों की बात इस सोच के साथ उठाता है कि भविष्य में इसका समुचित समाधान निकल सके.

WEF कैसे करता है काम?

विश्व आर्थिक मंच चार वार्षिक बैठकें करता है.

1. विश्व आर्थिक मंच वार्षिक महोत्सव: इस बैठक  का आयोजन हर साल स्विट्जरलैंड के दावोस में होता है. इसे शीतकालीन बैठक भी कहते हैं जो जनवरी महीने में होता है. इस बार यह बैठक 20 जनवरी से 24 जनवरी के बीच आयोजित किया गया है. इसमें पूरे साल दुनिया किस दिशा में आगे बढ़ेगी इस नीती पर चर्चा होती है.

2. न्यू चैंपिंयस वार्षिक महोत्सव: यह बैठक चीन में होता है. इसमें नए अविष्कारों, विज्ञान और तकनीक पर चर्चा होती है. गर्मी के महीने में होने वाली इस बैठक को समर वार्षिक महोत्सव के नाम से भी जाना जाता है.

3. ग्लोबल फ्यूचर काउंसिल्स वार्षिक महोत्सव: इस बैठक के दौरान विश्व के ज्ञानी समुदायों को बुलाया जाता है जो बड़े मुद्दों पर अपनी राय रखते हैं और विश्व की दिशा तय करने के लिए महत्वपूर्ण नीतियां तय होती हैं. इसके लिए जगह निर्धारित की जाती है.

4. इंडस्ट्री स्ट्रेटजी मीटिंग: इस बैठक में उद्योग जगत से जुड़े मुद्दों पर बात होती है और भविष्य की दिशा तय की जाती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay