एडवांस्ड सर्च

यूनिवर्सिटीज में अब मार्क्स नहीं ग्रेड मिलेंगे

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने सभी सेंट्रल,स्टेट और डीम्ड यूनिवर्सिटीज को निर्देश दिया है कि वे सभी यूनिवर्सिटीज में अगले सेशन से चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) लागू करें.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in [Edited By: स्नेहा]नई दिल्ली, 13 November 2014
यूनिवर्सिटीज में अब मार्क्स नहीं ग्रेड मिलेंगे UGC logo

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने सभी सेंट्रल,स्टेट और डीम्ड यूनिवर्सिटी को निर्देश दिया है कि वे यूनिवर्सिटीज में अगले सेशन से चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) लागू करें. इसके तहत किसी भी कोर्स के मार्क्स-शीट की जगह ग्रेड सिस्टम को लागू किया जाएगा.

क्या है सीबीसीएस?
यूजीसी ने ग्रेड काउंट तय करने के लिए सीबीसीएस बनाया है. स्टूडेंट्स के क्लास अटेंडेंस और एग्जाम में किए प्रदर्शन के आधार पर ग्रेड तैयार किया जाएगा. इस सिस्टम में कई ग्रेड्स हैं.
O : आउटस्टैंडिंग
9 : A+ (एक्सीलेंट)
8 : A (वेरी गुड)
7 : B+ (गुड)
6 : B ( अबव एवरेज)
5 : C (एवरेज)
4 : P (पास)
0 : F(फेल)

यह सिस्टम सभी अंडर ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्सेज पर लागू होगा. जिससे स्टूडेंट्स को कहीं भी एडमिशन लेने में आसानी होगी.

फिलहाल भारत में अलग-अलग यूनिवर्सिटीज में अलग एग्जाम पैटर्न और ग्रेडिंग सिस्टम हैं, जिससे स्टूडेंट्स को एक राज्य से दूसरे राज्य और एक देश से दूसरे देश में दाखिला लेने में कठिनाई होती है. यही नहीं उन्हें रोजगार पाने में भी कठिनाई होती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay