एडवांस्ड सर्च

लॉकडाउन: दिल्ली में फंसे छात्र बोले, कॉलेज प्रशासन ने हमें मुसीबत में झोंका

JNU ने सर्कुलर जारी करते हुए कहा था कि कैंपस के हॉस्टल में फंसे हुए सभी छात्रों को हॉस्टल खाली करने और 25 जून को शैक्षणिक गतिविधि शुरू होने के बाद वापस लौटने की सलाह दी गई थी.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 27 May 2020
लॉकडाउन: दिल्ली में फंसे छात्र बोले, कॉलेज प्रशासन ने हमें मुसीबत में झोंका प्रतीकात्मक फोटो

दिल्ली में फंसे छात्रों ने आरोप लगाया कि कॉलेज प्रशासन जान-बूझकर छात्रों की सुरक्षा और जान को खतरे में डालने की कोशिश कर रहा है. उन्हें ऐसे कठिन समय में हॉस्टल छोड़ने के लिए कह रहा है. दूसरी ओर, छात्र किराया चुकाने की चुनौती का भी सामना कर रहे हैं.

छात्रों ने आरोप लगा कि मकान मालिक उन्हें लॉकडाउन के दौरान के वक्त का किराये का भुगतान करने के लिए कह रहा है. इसी कड़ी में JNU ने सर्कुलर जारी करते हुए कहा गया था कि कैंपस के हॉस्टल में फंसे हुए सभी छात्रों को हॉस्टल छोड़ने और 25 जून को शैक्षणिक गतिविधि शुरू होने पर लौटने की सलाह दी जाती है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को ही नहीं छात्रों को भी कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि लॉकडाउन से पहले कॉलेजों और स्कूलों को बंद कर दिया गया था और कई छात्र अपने गृहनगर के लिए रवाना हो गए थे. लेकिन कुछ इस सोच के साथ वापस आ गए कि लॉकडाउन लंबे समय तक नहीं रहेगा.

अब जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के फंसे हुए छात्रों को डीन द्वारा एक सर्कुलर के जरिए हॉस्टल खाली करने की सलाह दी गई है और शैक्षणिक गतिविधि फिर से शुरू होने पर 25 जून को वापस आने को कहा गया है. सर्कुलर में आगे कहा गया है कि चूंकि ट्रेन और फ्लाइट का संचालन शुरू हो चुका है, इसलिए छात्रों को कैंपस छोड़ने में कोई परेशानी नहीं होगी.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

लॉकडाउन के दौरान हॉस्टल में रहने वाले JNU के छात्रों ने इस सर्कुलर का विरोध जताया है. कुछ छात्रों के अनुसार ये सब जीवन और सुरक्षा को खतरे में डाल सकता है. aajtak.in से बातचीत में एक छात्र ने कहा कि हम अपने हॉस्टल में सुरक्षित महसूस करते हैं. लॉकडाउन के दौरान हमें दरबदर करना कहां की बुद्ध‍िमानी है.

छात्र दीपक जन्नू विद्यार्थी ने कहा कि यात्रा में लोग तमाम तरह के जोख‍िम उठा रहे हैं. कई ट्रेनें कहीं के बजाय कहीं पहुंच गई. जब कैंपस 25 जून को फिर से खुल रहे हैं तो महीने में दो बार यात्रा क्यों करनी चाहिए. JNU के अलावा शहर के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले छात्रों को भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

दिल्ली सरकार ने एक सर्कुलर में छात्र या प्रवासी मजदूरों के मकान मालिकों से किरायेदार से किराया नहीं मांगने का आग्रह किया था. सर्कुलर की अवधि एक महीना थी जो पिछले महीने के ही समाप्त हो गई थी. अब कई मकान मालिकों ने छात्रों से फिर से पूछना शुरू कर दिया है. मकान मालिकों ने धमकी भी दी है कि अगर उन्हें किराया नहीं मिला तो उन्हें पीजी या फ्लैट से बाहर निकाल दिया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay