एडवांस्ड सर्च

जानें, सिनेमा हॉल समेत किन 8 मौकों पर राष्ट्रगान है जरूरी, ये है नियम

हम 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी. इसी दिन विश्व के नक्शे पर भारत को अलग पहचान मिली. साथ ही हमें मिली राष्ट्रगान 'जन-गण-मन' गाने की आजादी. साल 2016 में सिनेमाहॉल में भी राष्ट्रगान बजाना अनिवार्य कर दिया गया. आइए जानें किन आठ जगहों पर राष्ट्रगान बजाना जरूरी है. क्या हैं राष्ट्रगान गाने के अन्य नियम.

Advertisement
aajtak.in
मानसी मिश्रा नई दिल्ली, 15 August 2019
जानें, सिनेमा हॉल समेत किन 8 मौकों पर राष्ट्रगान है जरूरी, ये है नियम प्रतीकात्मक फोटो

हमें 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी. इसी दिन विश्व के नक्शे पर भारत को अलग पहचान मिली. साथ ही हमें मिली राष्ट्रगान 'जन-गण-मन' गाने की आजादी. साल 2016 में सिनेमाहॉल में भी राष्ट्रगान बजाना अनिवार्य कर दिया गया. आइए जानते हैं कि किन आठ जगहों पर राष्ट्रगान बजाना जरूरी है और क्या हैं राष्ट्रगान गाने के अन्य नियम.

सुप्रीम कोर्ट ने बताये ये नियम

- सिनेमाघरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाया जाएगा.

-राष्ट्रगान बजते समय स्क्रीन पर राष्ट्र ध्वज दिखाया जाना अनिवार्य है.

- राष्ट्रगान बजते समय हॉल के दरवाजे बंद कर दिए जाएं.

- राष्ट्रगान के समय हॉल में मौजूद लोग इसके सम्मान में खड़े हों.

- राष्ट्रगान को संक्षिप्त करके या काट-छांट कर बजाने की इजाजत नहीं होगी.

- राष्ट्रगान का आर्थिक लाभ के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता.

- किसी भी हाल में राष्ट्रगान के नाट्य रूपांतर की इजाजत नहीं होगी

ये हैं वो आठ मौके जब बजता है राष्ट्रगान

सरकार द्वारा आयोजित या औपचारिक राज्य कार्यक्रमों और अन्य कार्यक्रमों में राष्ट्रपति के आगमन पर.

राष्ट्रपति या संबंधित राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों के अंदर राज्यपाल/लेफ्टिनेंट गवर्नर के आगमन जैसे विशेष अवसरों पर राष्ट्रगान बजाया जाता है.

राज्यपाल/लेफ्टिनेंट गवर्नर के उनके राज्य/संघ राज्य के अंदर औपचारिक राज्य कार्यक्रमों में आगमन पर.

सिनेमा हॉल में फिल्म शुरू होने से पूर्व इसे बजाया जाता है.

ऑल इंडिया रेडियो पर राष्ट्रपति के राष्ट्र को संबोधन से पूर्व और उसके बाद राष्ट्रगान गाया जाता है.

जब राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को परेड में लगाया जाए तो राष्ट्रगान गाया जाता है.

जब रेजिमेंट के रंग प्रस्तुत किए जाते हैं तो राष्ट्रगान गाया जाता है.

भारतीय नौसेना के रंगों को फहराने के लिए राष्ट्रगान गाया जाता है.

पहले ये था नियम

साल 1960 के दौरान भी सिनेमा हॉल में फिल्म खत्म होने के बाद राष्ट्रगान बजाने का नियम था. लेकिन ये फिल्म के बाद में बजने के कारण लोग इससे पहले निकल जाते थे, इसलिए इसे बंद किया गया.

बच्चों को निकाले जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा

1985 में एक अनोखा मामला आया जब तमिलनाडु में एक विशेष संप्रदाय के तीन बच्चों ने स्कूल में राष्ट्रगान गाने से मना कर दिया. प्रबंधन ने उन्हें स्कूल से निकाल दिया तो बच्चों ने कोर्ट का सहारा लिया. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में फैसला दिया कि राष्ट्रगान के समय खड़े होने और इसे गाने की कोई बाध्यता नहीं है. इसमें इंसान की प्रतिबद्धता भी जिम्मेदार है.

तीन साल की हो सकती है सजा

लेकिन नियम ये भी है कि यदि कोई राजकीय कार्यक्रम में राष्ट्रगान के दौरान खड़ा नहीं होता या फिर इसे गाने से मना करता है तो ये दंडनीय नहीं है. अगर कोई स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय कार्यक्रमों में राष्ट्रगान गाते वक्त जान बूझकर व्यवधान पैदा करता है, तो उसे तीन साल की सजा और जुर्माना देना पड़ सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay