एडवांस्ड सर्च

जानें, कैसा था प्रथम विश्वयुद्ध, PM मोदी ने फ्रांस में किया जिसका जिक्र

 PM मोदी ने कहा कि पहले विश्वयुद्ध में 9000 भारतीय सैनिकों ने जान दी थी. यहां रहने वाले हर भारतीय को ये आंकड़ा नहीं भूलना चाहिए. जानें, कैसा था पहला विश्वयुद्ध प्रधानमंत्री ने जिसकी याद दिलाई.

Advertisement
aajtak.in
मानसी मिश्रा/ aajtak.in नई दिल्ली, 23 August 2019
जानें, कैसा था प्रथम विश्वयुद्ध, PM मोदी ने फ्रांस में किया जिसका जिक्र फ्रांस के प्रधानमंत्री Edouard Philippe के साथ PM Modi

  • पीएम मोदी के 90 हजार भारतीय सैनिकों की शहादत का आंकड़ा गिनाने के पीछे ये थी वजह
  • साल 1914 से 1918 तक तीन महाद्वीपों यूरोप, एशिया व अफ़्रीका ने लड़ा था प्रथम विश्वयुद्ध
  • फ्रांस के लिए भी लड़े थे भारतीय सैनिक, ब्रिटेन की ओर से दस लाख भारतीय सैनिकों ने संभाला था मोर्चा

तीन देशों की यात्रा पर निकले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सबसे पहले फ्रांस पहुंचे. शुक्रवार को फ्रांस में बोलते हुए यहां पहले विश्व युद्ध का जिक्र किया. PM मोदी ने कहा कि पहले विश्वयुद्ध में 9000 भारतीय सैनिकों ने जान दी थी. यहां रहने वाले हर भारतीय को ये आंकड़ा नहीं भूलना चाहिए. जानें, कैसा था पहला विश्वयुद्ध प्रधानमंत्री ने जिसकी याद दिलाई.

पहला विश्वयुद्ध आज भी मानवता के सामने बड़ी चुनौती है. साल 1914 से 1918 तक तीन महाद्वीपों यूरोप, एशिया व अफ़्रीका ने धरती, आसमान और जल तीनों जगह ये युद्ध लड़ा था. इस पहले विश्वयुद्ध के 101 साल बाद भी विशेषज्ञ इसका पता नहीं लगा पाए हैं कि आखिर ये युद्ध शुरू किसने किया था. हालांकि आज से ठीक सौ साल पहले 1919 में वरसाई की संधि के दौरान जर्मनी को इस युद्ध के लिए जिम्मेदार बताया गया. करीब 52 महीने चले इस युद्ध में करीब आधी दुनिया इसकी चपेट में आ गई थी.

क्या थी भारत की भूमिका

जिस समय पहला विश्वयुद्ध हुआ, भारत में ब्रिटेन का शासन था, जाहिर था कि इंडिया को ब्रिटेन के लिए ही लड़ना था. उस दौर में लिखे गए तथ्यों की मानें तो इस युद्ध में ब्रिटेन ने 10 लाख भारतीय सैनिकों को भेजा था. पीएम मोदी के 90 हजार भारतीय सैनिकों की शहादत का आंकड़ा गिनाने के पीछे ये भी वजह थी कि उस दौर में फ्रांस में आकर भी भारतीय सैनिकों ने मोर्चा संभाला था. ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार भारतीय सिपाही फ्रांस और बेल्जियम के अलावा अरब, पूर्वी अफ्रीका, मिस्र से लेकर फिलिस्तीन तक हर मोर्चे पर अड़े थे. फ्रांस की रक्षा में भी भारतीय सैनिकों ने अपनी जानें गंवाई थीं. बताते हैं कि वो हिंसा का वो दौर था कि पूरी मानव जाति शर्मसार हुई थी. इस युद्ध में तकरीबन 90 हजार भारतीय सैनिकों की शहादत हुई थी.

यह भी पढ़ें: मोदी ने दि‍या ये बयान

ये थी मंशा

अगर पहले विश्वयुद्ध के दौर की बात करें तो ऐतिहासिक तथ्य बताते हैं कि भारत में उस वक्त ब्रिटिश शासन था. यहां के लोग सोचते थे कि शायद ब्रिटेन अपनी तरफ से लड़ने और जीतने पर भारतीयों को स्वतंत्र कर दे. लेकिन अफसोस ऐसा हुआ कुछ भी नहीं.

इंडिया गेट पर दर्ज हैं वो यादें

पहले विश्व युद्ध के बाद ब्रिटिश सरकार ने 9200 भारतीय सैनिकों को वीरता पदकों से सम्मानित किया था. सरकार ने इस विश्वयुद्ध में शहीद हुए 74 हजार भारतीय सैनिकों की याद में दिल्ली में 1921 में इंडिया गेट की आधारशिला रखी थी जहां आज भी करीब 13300 से ज्यादा उन शहीदों के नाम दर्ज हैं, जिन्होंने देश के लिए प्राण दिए थे. कई उदारवादी नेता उस दौर में ब्रिटेन का इस युद्ध में समर्थन दे रहे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay