एडवांस्ड सर्च

आयरलैंड की लेखिका एना बर्न्स को मिला 2018 का मैन बुकर पुरस्कार

एना बर्न्स, मैन बुकर प्राइज जीतने वाली पहली नॉर्दन आईरिश लेखिका बन गई हैं. एना को यह प्राइज उनके उपन्यास मिल्कमैन के लिए मिला है.

Advertisement
aajtak.in
मोहित पारीक नई दिल्ली, 17 October 2018
आयरलैंड की लेखिका एना बर्न्स को मिला 2018 का मैन बुकर पुरस्कार एना बर्न्स (फोटो-ट्विटर)

उत्तरी आयरलैंड की लेखिका एना बर्न्स को 2018 का मैन बुकर प्राइज से सम्मानित किया गया है. उन्हें उनकी किताब  'मिल्कमैन' के लिए यह सम्मान दिया गया है. इस ऐलान के साथ ही एना बर्न्स पहली नॉर्दन आईरिश लेखिका बन गई हैं. बता दें कि उनकी यह तीसरी किताब थी.

बर्न्स की लिखी 'मिल्कमैन' किताब एक महिला के शादीशुदा शख्स के साथ अफेयर की कहानी है. साथ ही यह महिला एक ऐसे शख्स का सामना कर रही थी, जो यौन उत्पीड़न के लिए पारिवारिक रिश्तों, सामाजिक दबाव और राजनीतिक निष्ठा जैसे हथियारों का इस्तेमाल कर रहा था.

जार्ज सॉन्डर्स को मिला था 2017 का मैन बुकर पुरस्कार

बर्न्स को इस पुरस्कार के साथ 50 हजार पाउंड भी दिए जाएंगे. बर्न्स की किताब को लेकर जजों ने कहा कि मिल्कमैन अद्भुत किताब है. साथ ही उन्होंने कहा कि इस किताब में उस युवती के दर्द का बखूबी अहसास कराया गया है.

कभी एग्‍जाम में हो गए थे फेल, ऐसे महान लेखक बने नायपॉल

बुकर पुरस्कार कॉमनवेल्थ या आयरलैंड के नागरिकों की ओर से लिखे गए मौलिक अंग्रेजी उपन्यास के लिए हर साल दिया जाता है. 2008 साल का पुरस्कार भारतीय लेखक अरविंद अडिगा को दिया गया था. गौरतलब है कि अडिगा समेत 5 बार यह पुरस्कार भारतीय मूल के लेखकों को मिला है, जिसमें वी एस नायपॉल, अरुंधति राय, सलमान रश्दी और किरण देसाई आदि शामिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay