एडवांस्ड सर्च

वेस्ट बंगाल से हैं JNUSU की नई प्रेसीडेंट आइशी, नेशनल पॉलिटिक्स है सपना

पश्चिम बंगाल के छोटे से शहर दुर्गापुर से पढ़ने दिल्ली आई आइशी घोष अब जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ की नई अध्यक्ष हैं. आइए, जानें उनका सफर व अन्य पदाधिकारियों के बारे में.

Advertisement
aajtak.in
मानसी मिश्रा नई दिल्ली, 18 September 2019
वेस्ट बंगाल से हैं JNUSU की नई प्रेसीडेंट आइशी, नेशनल पॉलिटिक्स है सपना आइश घोष (Photo: facebook)

पश्चिम बंगाल के छोटे से शहर दुर्गापुर से पढ़ने दिल्ली आई आइशीघोष अब जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ की नई अध्यक्ष हैं. दौलतराम कॉलेज से पॉलिटिक्स की पढ़ाई करने के बाद फिलहाल वो जेएनयू के स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज से एमफिल की छात्रा हैं. यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से छात्र हितों को लेकर लिए गए किसी भी निर्णय में खामी पाए जाने पर वो विरोध के सुर उठाती रही हैं. बीते दिनों एमबीए की 12 लाख रुपये तक बढ़ी फीस को लेकर वो भूख हड़ताल पर भी बैठी थीं.

aajtak.in से बातचीत में आइशी ने कहा कि जेएनयू ऐसा कैंपस है जो बराबरी के लिए जाना जाता है. यहां एक संगठन जहां पूरी तरह स्त्रीविरोधी मानसिकता वाला है तो वहीं कैंपस का मूल स्वभाव बराबरी है. यहां मुझे पूरे कैंपस ने सपोर्ट किया है. स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया संगठन से जुड़ी आइशी घोष की इस जीत को बहुत ऐतिहासिक माना जा रहा है. कैंपस में पूरे 13 साल बाद इस संगठन से कोई अध्यक्ष चुना गया है.

आइश कहती हैं कि ये जीत स्टूडेंट कम्युनिटी की है. आइशीने कहा कि वो यहां भविष्य में हॉस्टल और रीडिंग रूम का मुद्दा उठाएंगी. वो कहती हैं कि जेएनयू की अपनी संस्कृति है, आज जेएनयू में मेरे जैसी छोटे शहर से आई लड़की प्रेसीडेंट बनी है तो जरूर कुछ तो बात है इस कैंपस में. यहां हर तबके से आकर लोग पढ़ सकते हैं, साथ ही पहचान भी बना सकते हैं. लेकिन कुछ दिनों से कैंपस को प्राइवेटाइजेशन की ओर ले जाने की तैयारी चल रही है. हमारा अगला मुकाबला इसी व्यवस्था से होगा. अपने आगे के भविष्य के बारे में वो कहती हैं कि मैं जेएनयू के बाहर देश की राजनीति में भी जाना पसंद करूंगी. मुझे लगता है कि महिलाएं राजनीति के जरिये ही समाज में अपने लिए पल रही सोच को बदल सकती हैं.

जीत गया जज्बा, जनरल सेक्रेटरी बने सतीश

उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले के एक गांव महुआ के किसान के बेटे सतीश यादव भी जेएनयू से राजनीति का पाठ सीख रहे हैं. आइसा (All India Student Association) से जुड़े सतीश यादव चुनाव परिणाम आने के बाद जेएनयूएसयू के नये जनरल सेक्रेटरी बन गए हैं. सतीश ने Aajtak से बातचीत में बताया कि जब वो बचपन में दूध का काम या खेती करते थे, तभी से उनका सपना था कि वो राजनीति में जाकर अपने जैसे लोगों का पक्ष रखें. बता दें कि सतीश के पिता त्रिवेणी यादव दो एकड़ जमीन के किसान हैं. इसी जमीन से उन्होंने परिवार की तीन बेटियां, पत्नी मेवाती देवी और सतीश का पालन पोषण किया है. सतीश ने बताया कि वो अपने पूरे परिवार में अपनी पीढ़ी के अकेले ऐसे शख्स है जिन्होंने यूनिवर्सिटी स्तर की पढ़ाई की है. उनके घर में न पिता और न मां, दोनों ही पढ़े लिखे नहीं हैं. सतीश ने कहा कि वो पहली पीढ़ी हैं जो पढ़ लिख रहे हैं, वरना ज्यादातर ने किसानी या दूध का काम किया है.

सतीश ने बताया कि एमए (भूगोल) करने के बाद जेएनयू में एंट्रेंस क्वालीफाइ किया. ये साल 2016 का वक्त था, तब जेएनयू की छवि पर कई तरह के सवाल उठे थे, इस दौर में मैंने जेएनयू के बारे में चल रहीं सभी खबरों और तथ्यों को अध्ययन किया. तब भी मुझे लगा था कि ये इस यूनिवर्सिटी की छवि को बिगाड़ने की साजिश है. लोग मुझसे यहां एडमिशन लेने को लेकर भी तमाम तरह की बातें कह रहे थे लेकिन मैंने समझा बूझा फिर जेएनयू के सपोर्ट में आया. यहां आकर मेरा हौसला और भी बढ़ा है. लेफ्ट पैनल से जनरल सेक्रेटरी का चुनाव जीतकर भी मैं यहां की छवि और जेएनयू की संस्कृति को बचाने के लिए संघर्ष करता रहूंगा.

साकेत को उपाध्यक्ष पद पर सबसे बड़ी जीत

जेएनयू छात्रसंघ चुनाव में सबसे बड़ी जीत उपाध्यक्ष पद प्रत्याशी साकेत मून को मिली. साकेत ने अपनी प्रतिद्वंदी श्रुति को 2030 वोटों से हराया. मूल रूप से नागपुर के रहने वाले साकेत जेएनयू से एमफिल कर रहे हैं. वहीं संयुक्त सचिव पर मो दानिश की जीत हुई है. दानिश मूलत: गया बिहार के रहने वाले हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay