एडवांस्ड सर्च

महाराष्ट्र में होंगे MLC चुनाव, जानें- कैसे चुने जाते हैं सदस्य

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के लिए राहत भरी खबर आई है. चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र में विधान परिषद (MLC) की 9 सीटों पर चुनाव कराने का फैसला किया है. जानें- कैसे चुने जाते हैं इसके सदस्य.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 01 May 2020
महाराष्ट्र में होंगे MLC चुनाव, जानें- कैसे चुने जाते हैं सदस्य प्रतीकात्मक फोटो

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर 2019 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, लेकिन अभी तक विधानमंडल के किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं. ऐसे में चुनाव आयोग ने राज्य में विधान परिषद चुनाव (MLC) कराने का फैसला ले लिया है. आयोग की ओर से जारी नोटिफिकेशन में ये जानकारी दी गई है. इसके मुताबिक, राज्य की 9 सीटों पर अब 21 मई को चुनाव होगा. आइए पहले जानते हैं आखिर कैसे होता है विधान परिषद चुनाव (MLC) और कैसे चुने जाते हैं इसके सदस्य.

आसान भाषा में समझते हैं कि भारत में एक सरकार केंद्र में होती है और एक सरकार राज्य में होती है. जिस प्रकार केंद्र में संसद होती है, उसी प्रकार से राज्यों में विधानमंडल होता है. अनुच्छेद 168 के अनुसार विधानमंडल में दो सदन होते हैं. एक का नाम 'विधान परिषद' और दूसरे का नाम 'विधान सभा' .

ये विधान परिषद चुनाव छह राज्यों में आयोजित किए जाते हैं. बिहार, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश. इन सभी राज्यों में विधान मंडल के दो सदन होते हैं. जिसमें उच्च सदन को विधान परिषद और निम्न सदन को विधान सभा कहते हैं. वहीं भारत के शेष राज्यों में केवल एक सदन होते हैं, जिसका नाम होगा विधान सभा.

किसे कहते हैं विधान मंडल

जिस तरह केंद्र सरकार का कानून संसद में बनाता है, ठीक उसी प्रकाप राज्यों में कानून विधानमंडल में तैयार किया जाता है. जिन राज्यों में विधान परिषद है, उसमें इसके सदस्यों का कार्यकाल छह वर्षों का होता है लेकिन प्रत्येक दो साल पर एक तिहाई सदस्यों को रिटायर कर दिया जाता है.

कैसी होती है चुनाव की प्रक्रिया

विधान परिषद के सदस्यों को को जनता नहीं चुनती है. इस चार प्रकार की संस्थाओं का अहम रोल होता है. यानी चार प्रकार से विधान परिषद का सदस्य चुना जाता है.

1. राज्य के MLA चुनते हैं. वह केवले एक तिहाई सदस्यों को चुन सकते हैं. आपको बता दें, नियम ये है कि विधान परिषद के सदस्यों की संख्या, विधान सभा के सदस्यों की संख्या से एक तिहाई से ज्यादा नहीं हो सकती है. इसी के साथ ये भी नियम है कि विधान परिषद में 40 से कम सदस्य भी नहीं होने चाहिए.

2. एक तिहाई राज्य की स्थानीय सरकारें यानी नगर पालिका और जिला बोर्ड के सदस्यों द्वारा चुने जाते हैं.

3. 1/12 वह छात्र चुनेगें जिन्हें ग्रेजुएशन किए हुए तीन साल पूरे हो चुके हैं.

4. जिसके बाद 1/12 सदस्यों का चुनाव राज्य के शिक्षक करते हैं. इसमें प्राइमरी में पढ़ाने वाले शिक्षक शामिल नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay