एडवांस्ड सर्च

सरकारी स्‍कूलों में 10 लाख टीचर पद खाली: HRD

देश भर के सरकारी प्राइमरी स्‍कूलों में 18 प्रतिशित और सेकेंडरी स्‍कूलों में 15 प्रतिशत टीचर्स के पद खाली पड़े हैं. यह बात प्रकाश जावड़ेकर ने कही है.

Advertisement
aajtak.in
मेधा चावला नई दिल्‍ली, 14 December 2016
सरकारी स्‍कूलों में 10 लाख टीचर पद खाली: HRD सरकारी स्‍कूल

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने लोकसभा में कहा है कि देश भर में सरकारी प्राइमरी स्‍कूलों और सेकेंडरी स्‍कूलों में कई लाख पद खाली पड़े हैं.

उन्‍होंने कहा कि प्राइमरी स्‍कूलों में 18 प्रतिशित और सेकेंडरी स्‍कूलों में 15 प्रतिशत टीचर्स के पद खाली हैं. इसे ऐसे भी समझाया जा सकता है कि सरकारी स्‍कूलों में हर 6 में से 1 पद खाली है. कुल मिलाकर पूरे देश में 10 लाख अध्‍यापक कम हैं.

एजेंडा आजतक में प्रकाश जावड़ेकर की 15 बड़ी बातें

आपको ये जानकर भी हैरानी होगी कि जिन राज्‍यों में लिट्रेसी रेट कम है, वहां ज्‍यादातर अध्‍यापकों के पद रिक्‍त हैं. जावड़ेकर ने कहा कि सबसे ज्‍यादा रिक्‍त पद झारखंड में हैं जहां 70 फीसदी पद रिक्‍त हैं. वहीं सेकेंडरी स्‍कूलों में अध्‍यापकों के पदों में से आधे रिक्‍त पद उत्‍तर प्रदेश में हैं. तसीरे नंबर पर बिहार और गुजरात है.

स्‍कूली बच्‍चों का ड्रग्‍स लेना चिंता का विषय, जल्‍द रिपोर्ट दे केंद्र: सुप्रीम कोर्ट

साथ ही यह भी जान लीजिए कि गोवा, ओडिशा और सिक्किम में एक भी एलिमेंटरी टीचिंग पद खाली नहीं है.अकेला सिक्किम ही ऐसा है जहां ना तो एलिमेंटरी और ना ही सेकेंडरी स्‍कूल में टीचर का कोई पद खाली है.

गौरतलब है कि 2015-16 के एजुकेशन डाटा की मानें तो भारत में 55 प्रतिशत बच्‍चे सरकारी स्‍कूलों में पढ़ते हैं.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay