एडवांस्ड सर्च

ह्यूस्टन यूनिवार्सिटी में तमिल भाषा के लिए मिलेंगे 14 करोड़

ह्यूस्टन विश्वविद्यालय में तमिल अध्ययन पीठ स्थापित करना और अमेरिका में बढ़ रही तमिल-अमेरिकियों की 250,000 की आबादी के लिए एक मंच उपलब्ध कराना है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 04 October 2019
 ह्यूस्टन यूनिवार्सिटी में तमिल भाषा के लिए मिलेंगे 14 करोड़ ह्यूस्टन विश्वविद्यालय

ह्यूस्टन तमिल स्टडीज चेयर (HTSC) ने तमिल भाषा (Tamil language) के अध्ययन में मदद करने के लिए ह्यूस्टन विश्वविद्यालय (University of Houston) को 20 लाख डॉलर (1,41,88,50,000) की आर्थिक मदद देने का वादा किया है.

भाषा विवाद पर शाह की सफाई- कभी नहीं कही हिंदी थोपने की बात

आपको  बता दें, एचसीटीएस एक नॉन प्रोफिट ऑर्गेनाइजेशन है जो 2018 में स्थापित हुई थी. वहीं इस ऑर्गेनाइजेशन का मकसद ह्यूस्टन विश्वविद्यालय में तमिल अध्ययन पीठ स्थापित करना और अमेरिका में बढ़ रही तमिल-अमेरिकियों की 250,000 की आबादी के लिए एक मंच उपलब्ध कराना है. ऑर्गेनाइजेशन का मिशन सबसे पुरानी भाषा, तमिल को बढ़ावा देना है, जो विश्व स्तर पर 7 करोड़ से ज्यादा लोग बोलते हैं.

एचटीएससी के संस्थापक सदस्य सॉकालिंगम सैम कन्नप्पन, डॉ. एस जी अप्पन, सॉकालिंगम नारायणन, पेरुमल अन्नामलई, नागमणिकम गणेशन, ट्यूलिप वी नरसिमन और डॉ. तिरुवेंगडम अरुमुगम ग्रेटर ह्यूस्टन इलाके में फंड जुटाने का  नेतृत्व कर रहे हैं.

एचटीएससी के बोर्ड अध्यक्ष सैम कन्नप्पन का कहना  है कि तमिल-अमेरिकी परिवार इस महान देश के बहु सांस्कृतिक समाज के तानेबाने में बुना हुआ है. वहीं हमारे सभी बच्चे अमेरिकी विश्वविद्यालयों में शिक्षा ले रहे हैं तो एचटीएससी समृद्ध तमिल संस्कृति, भाषा और साहित्य के बारे में जागरूकता फैलाने की पहल को आगे बढ़ा रहा है.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay