एडवांस्ड सर्च

कोरोना: छात्रों को राहत, फीस नहीं मांग सकते हरियाणा के प्राइवेट स्कूल

हरियाणा के प्राइवेट स्कूल लॉकडाउन के दौरान छात्रों के माता- पिता से फीस की मांग नहीं कर सकते हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 04 April 2020
कोरोना: छात्रों को राहत, फीस नहीं मांग सकते हरियाणा के प्राइवेट स्कूल प्रतीकात्मक फोटो

हरियाणा के प्राइवेट स्कूलों से छात्रों राहत मिली है. राज्य सरकार ने प्राइवेट स्कूलों को लॉकडाउन अवधि के दौरान फीस जमा नहीं करने के लिए कहा है. देश में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस महामारी के कारण देश भर में लॉकडाउन है.

सभी स्कूल और कॉलेज इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान किसी भी सामूहिक सभा से बचने और शारीरिक संपर्क को सीमित करने के लिए बंद कर दिए गए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन का लॉकडाउन लगाया है. जो 14 अप्रैल को खत्म होगा.

सरकार ने शुक्रवार को यहां एक आधिकारिक बयान में कहा, "सभी प्रकार के फीस कलेक्शन पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया गया है".

हरियाणा स्कूल शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों और जिला प्राथमिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे राज्य सरकार के निर्देशों के बारे में अपने-अपने क्षेत्रों में प्राइवेट स्कूलों के बारे में जानकारी दें.

राज्य सरकार ने कहा, कोरोना वायरस और लॉकडाउन खत्म होने के बाद जैसे ही स्थिति सामान्य होती और स्कूलों के फिर से खोला जाता है, उसके बाद ही फीस जमा करने के लिए स्कूल बोल सकता है.

कई स्कूलों और विश्वविद्यालयों ने लॉकडाउन के दौरान अपने पाठ्यक्रमों को पूरा करने के लिए ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित की हैं. कुछ स्कूलों ने इस साल वार्षिक परीक्षाओं का आयोजन किए बिना भी छात्रों को पास करने का फैसला किया है.

इस दौरान छात्रों को व्यस्त रखने के लिए स्कूलों और विश्वविद्यालयों द्वारा बहुत सी पहल की जा रही हैं. राज्य बोर्ड छात्रों को नए कौशल और ऑनलाइन पाठ्यक्रम लेने के लिए भी प्रेरित कर रहे हैं ताकि उन्हें अपने ज्ञान का विस्तार करने में मदद मिले.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay