एडवांस्ड सर्च

भारत में जन्मे डॉ रोनाल्ड रॉस ने खोजा था मलेरिया, रोचक है उनका सफर

जुलाई से सितंबर तक मलेरिया का खतरा सबसे ज्यादा रहता है. आज लोगों के लिए इसका इलाज आसान है. लेकिन क्या आपको उस स्कॉटिश मूल के डॉक्टर के बारे में पता है जो पैदा इंडिया में पैदा हुआ और पूरी दुनिया के लिए ये खोज कर डाली कि मलेरिया बीमारी मादा एनाफि‍लीज मच्छर से होती है. फितरत से भावुक और संजीदा लेखक इस डॉक्टर की कहानी यहां जानिए.

Advertisement
aajtak.in
मानसी मिश्रा नई दिल्ली, 11 July 2019
भारत में जन्मे डॉ रोनाल्ड रॉस ने खोजा था मलेरिया, रोचक है उनका सफर डॉ रोनाल्ड रॉस (फाइल फोटो)

दुनिया भर में हर साल लाखों मौतें मादा मच्छर एनाफिलीज के काटने से हुए मलेरिया रोग से होती हैं. आज हम दवाओं के जरिये आसानी से इस बीमारी से निजात पा लेते हैं. इसका पूरा क्रेडिट जानता है डॉ रोनाल्ड रॉस को, जो भारत में जन्मे थे. आइए, उनसे जुड़ी खास बातें यहां जानें.

भारतीय सेना में अफसर थे उनके पिता

डॉ. रोनाल्ड रॉस का जन्म भारत के अल्मोड़ा जिले में हुआ था. वो अंग्रेजी राज की भारतीय सेना के स्कॉटिश अफसर सर कैम्पबेल रॉस की दस संतानों में सबसे बड़े थे. उनका बचपन का महत्वपूर्ण हिस्सा भारत में ही बीता था. फिर इंग्लैंड में स्कूली शिक्षा खत्म करने के बाद उन्होंने पिता के दबाव में आकर लंदन के सेंट बर्थेलोम्यू मेडिकल स्कूल में प्रवेश ले लिया.

दिल से पसंद था लेखन

रॉस गजब के लेखक भी थे. उन्होंने अपने जिंदगी के अहम पड़ावों पर कई कविताएं भी लिखी. उन्हें बचपन से ही लिखना बहुत पसंद था. अपनी भावनाओं और संवेदनाओं को शब्द देना उन्हें बखूबी आता था.

इंडियन मेडिकल सर्विस से चुने गए डॉक्टर

अपनी मेडिकल शिक्षा पूरी होने के बाद वे इंडियन मेडिकल सर्विस की प्रवेश परीक्षा में बैठे लेकिन नाकाम रहे. उन्होंने हार ना मानते हुए फिर अगले साल परीक्षा दी जिसमें वे 24 छात्रों में से 17 वें नम्बर पर आए. फिर आर्मी मेडिकल स्कूल में चार महीने की ट्रेंनिग के बाद उन्होंने इंडियन मेडिकल सर्विस में एडमिशन लेकर अपने पिता का सपना पूरा किया. जहां उन्हें कलकत्ता या बॉम्बे के बजाय मद्रास प्रेसिडेंसी में काम करने का मौका मिला.

मलेरिया पीड़ित सैनिकों के इलाज ने दिखाई राह

डॉ रॉस की ज्यादातर जिम्मेदारी मलेरिया पीड़ित सैनिकों का इलाज करने की थी. इसी दौरान उन्होंने देखा कि इलाज के बाद रोगी ठीक तो हो जाते थे लेकिन मलेरिया इतना घातक था कि उसकी वजह से लोगों की ज्यादा मौतें होना शुरू हो गई. फिर भारत से सात साल काम करके वापस 1888 में इंग्लैंड लौट गए. यहां उन्होंने पब्लिक हेल्थ में डिप्लोमा किया. डिप्लोमा के बाद वो प्रयोगशाला की तकनीकों और माइक्रोस्कोप का इस्तेमाल करने में माहिर हो गए.

भारत लौटकर बनाई मलेरिया पर थ्योरी

साल 1889 में वो दोबारा भारत लौटे और मलेरिया पर थ्योरी बनाई. उनके पास बुखार का कोई भी रोगी आता था तो वो उसका खून का सैंपल रख लेते थे. फिर उसी सैंपल का घंटों माइक्रोस्कोप के नीचे रखकर अध्ययन करते. यहीं से उन्हें मलेरिया की खोज की तरफ उत्सुकता बढ़ती जा रही थी. वो इसका एक पुख्ता हल निकालने को आतुर हो गए थे.

खुद हो गए बीमार, लेकिन जीत लिया नोबल 

हुआ यूं कि वो खुद एक बार मलेरिया जैसी बीमारी का शिकार हो गए, इसके बावजूद वो नहीं रुके और एक हज़ार मच्छरों का डिसेक्शन किया. यहां से मिले तथ्यों को लेकर वापस लंदन लौटे और वहां के मशहूर डॉ पेट्रिक मैंसन से मिले. उन्होंने उनसे कहा कि लगता है कि मच्छर मलेरिया के रोगाणु फैलाते है. बस आगे चलकर उन्होंने अपनी इसी थ्योरी को सिद्ध कर दिया. अपनी इसी खोज के लिए और मलेरिया जैसी घातक बीमारी पर काम करने के लिए डॉ. रोनाल्ड रॉस को 1902 में शरीर क्रिया विज्ञान और चिकित्सा के लिए नोबल प्राइज अवार्ड दिया गया. साल 1932 को 16 सिंतबर के दिन वो महान व्यक्ति इस दुनिया से विदा हो गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay