एडवांस्ड सर्च

CBSE बोर्ड एग्जाम के लिए SC/ST छात्रों को देनी होगी दोगुनी फीस

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्र-छात्राओं के लिए 10वीं और 12वीं की बोर्ड फीस बढ़ाए जाने पर सफाई दी है. बोर्ड ने कहा कि फीस पूरे देश के लिए बढ़ाई गई है, सिर्फ दिल्ली के लिए नहीं. सीबीएसई ने कहा कि उसकी ओर से पिछले 5 वर्ष में फीस नहीं बढ़ाई गई. 

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 12 August 2019
CBSE बोर्ड एग्जाम के लिए SC/ST छात्रों को देनी होगी दोगुनी फीस सीबीएसई ने की फीस में बढ़ोतरी

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्र-छात्राओं के लिए 10वीं और 12वीं की बोर्ड फीस बढ़ाए जाने के बाद पैदा हुए कन्फ्यूजन को लेकर सफाई दी है. बोर्ड ने कहा कि फीस पूरे देश के लिए बढ़ाई गई है, सिर्फ दिल्ली के लिए नहीं. सीबीएसई ने कहा कि उसकी ओर से पिछले 5 वर्ष में फीस नहीं बढ़ाई गई.  

बोर्ड ने कहा कि पूरे देश के छात्रों के लिए फीस पहले 750 रुपये थी, जिसे बढ़ाकर 1500 रुपये किया गया है. नेत्रहीन छात्रों के लिए कोई फीस नहीं है. सीबीएसई ने एक बयान में कहा कि दिल्ली के छात्रों को एक खास फायदा मिलता है. दिल्ली में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के छात्र-छात्रों को 350 रुपये फीस ही चुकानी होती थी. इस 350 रुपये में से 50 रुपये इस वर्ग के छात्र-छात्राओं को चुकाने होते थे जबकि बाकी 300 रुपये उनकी ओर से दिल्ली सरकार चुकाती थी. लेकिन दिल्ली के जनरल कैटिगरी के छात्र-छात्राएं पूरे देश की तरह 750 रुपये ही चुका रहे थे. उन्हें अब 1500 रुपये चुकाने होंगे.

cbse_081219121707.jpg

सीबीएसई के इस कदम से उसकी फीस अन्य केंद्रीय बोर्ड जैसे एनआईओएस की फीस के आसपास पहुंच गई है. एनआईओएस 10वीं के छात्रों से 1800 रुपये और छात्राओं से 1450 रुपये लेता है. जबकि एससी/एसटी वर्ग के छात्रों के लिए फीस 1200 रुपये है. वहीं 12वीं के छात्रों से एनआईओएस 2000 रुपये, छात्राओं से 1750 रुपये और एससी/एसटी वर्ग से 1300 रुपये लेता है. जबकि एडिश्नल सब्जेक्ट्स के लिए छात्र-छात्राओं को 720 रुपये देने पड़ते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay