एडवांस्ड सर्च

लंदन में इंफोसिस की सुधा मूर्ति को कहा था 'cattle-class person'

नारायण मूर्ति की पत्नी और इंफोसिस फाउंडेशन की चेयरपर्सन सुधा मूर्ति को लंदन एयरपोर्ट पर 'cattle-class person' कहा था और उन्हें इकोनॉमी क्लास में जाने को कहा था, फिर क्या हुआ आगे... जानिये...

Advertisement
aajtak.in
वंदना भारती नई दिल्ली, 25 July 2017
लंदन में इंफोसिस की सुधा मूर्ति को कहा था 'cattle-class person' नारायण मूर्ति के साथ उनकी पत्नी सुधा मूर्ति

इंफासिस फाउंडेशन की चेयरपर्सन सुधा मूर्ति ने अपनी नई किताब 'थ्री थाउजेंड स्ट‍िचेज' में चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. सुधा मूर्ति ने अपनी किताब में यह खुलासा किया है कि लंदन के इंटरनेशनल हीथ्रो एयरपोर्ट पर उनके साथ बदसलूकी की गई थी और उन्हें 'कैटल क्लास' कहा गया था.

सूधा मूर्ति ने अपनी किताब में बताया है कि एयरपोर्ट पर उनसे एक महिला ने कहा कि जाकर इकोनॉमी क्लास की लाइन में खड़ी हो जाओ, ये लाइन बिजनेस क्लास के यात्रियों के लिए है.

सिर्फ 1% को मिली नौकरी, 4 करोड़ से ज्यादा ने किया था Employment Exchange में रजिस्ट्रेशन

इंफोसिस फाउंडेशन की चेयरपर्सन सुधा ने तब सलवार कमीज पहन रखा था और उनके पहनावे के कारण ही उनके सामने यह सवाल आया था. उनकी सादगी और पहनावे के कारण उन्हें 'cattle-class person' कहकर भी बुलाया गया.

मशहूर उद्योगपति नरायण मूर्ति की 66 साल की पत्नी सुधा मूर्ति ने किताब में लिखा है कि 'class' का अर्थ खूब सारे पैसे कमाना नहीं है. मदर टेरेसा एक क्लासी महिला थीं. उसी तरह भारतीय मूल की गणितज्ञ मंजुला भार्गव भी. यह सोच लेना कि पैसे के साथ अपने आप 'class' मिल जाता है, यह पुरानी और घिसी-पिटी विचारधारा है.

पद्म विभूषण से सम्मानित श‍िक्षाविद और साइंटिस्ट यशपाल का निधन

PTI को दिए गए एक इंटरव्यू में सुधा मूर्ति ने कहा कि मैं पलभर में अपना बोर्डिंग पास दिखाकर उस महिला के सभी संदेह दूर कर सकती थी, लेकिन मैंने इंतजार किया कि मैं कैसे उसे बता सकूं कि वास्तव में वो बिजनेस क्लास के स्टैंडर्ड में फिट नहीं बैठती.

सुधा ने कहा कि मैंने थोड़ी देर में ही यह महसूस किया कि उस महिला ने मेरी ड्रेस के कारण ऐसा सोचा था.

सरकार से मिली हरी झंडी तो कॉलेजों में फ्री WiFi देगा JIO

सुधा मूर्ति दरअसल, इंफोसिस फाउंडेशन की एक बैठक की अध्यक्षता करने जा रही थीं, जिसमें सरकारी स्कूलों के लिए स्पॉन्सर फंड पर बात होनी थी. हैरानी की बात यह है कि वह महिला भी उसी बैठक के लिए आई थी.

महिला ने जब अध्यक्ष की कुर्सी पर सुधा मूर्ति को बैठते हुए देखा तो हैरान रह गई.

सुधा मूर्ति ने अपनी किताब में लिखा कि हमारे कपड़े हमें स्टीरियोटाइप की याद दिलाते हैं, जो आज भी अत्यधिक प्रचलित है. जैसे कि आपसे शादी में उम्मीद की जाती है कि आप सिल्क की साड़ी पहनें, एक सोशल वर्कर अपने आप को प्लेन और सादे कपड़ों में रीप्रजेंट करता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay