एडवांस्ड सर्च

...मुझ पर संदेह हो तो ओबामा से पूछो

अगर आपको जरा भी खुद पर शक हो तो कभी हठ मत करि‍एगा. अगर जरा सा भी महसूस हो कि आप कमजोर पायदान पर खड़े हैं तो कभी पांव आगे मत बढ़ाइएगा. आप फिसल सकते हैं. आप बाजी हार सकते हैं. आप अपमान का घूंट पीने के लिए मजबूर हो सकते हैं.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
दीपक शर्मानई दिल्ली, 26 September 2014
...मुझ पर संदेह हो तो ओबामा से पूछो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

अगर आपको जरा भी खुद पर शक हो तो कभी हठ मत करि‍एगा. अगर जरा सा भी महसूस हो कि आप कमजोर पायदान पर खड़े हैं तो कभी पांव आगे मत बढ़ाइएगा. आप फिसल सकते हैं. आप बाजी हार सकते हैं. आप अपमान का घूंट पीने के लिए मजबूर हो सकते हैं.

मित्रों, पहले खुद को बुलंद करिए, पायदान खुद मजबूत हो जाएगी. और एक बार पायदान मजबूत हुई नहीं कि सारी परिस्थितियां आपकी मुट्ठी में होंगी. मुट्ठी में दम है तो दुनिया खुद मुट्ठी में आने लगती है.

क्या जिस शख्स के वीजा पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने खुद प्रतिबंध लगाया हो उसी शख्स के सत्कार में राष्ट्रपति को लाल कालीन बिछाने के लिए झुकना पड़ रहा है? क्या अमेरिका के 300 साल पुराने इतिहास में ये पहला मौका है जब व्हाइट हाउस ने अपने दरवाजे उस व्यक्ति के लिए खोले हों जिस पर अमेरिका आने पर ही प्रतिबंध हो? क्या गुरूर से भरे तोहमतदारों को अपना पैरोकार बनाया जा सकता है? मित्रों, गुरूर तोड़ने या अपने सामने किसी को झुकाने का ये पाठ नरेन्द्र दामोदर मोदी से जरूर सीखिएगा.

मोदी ने अमेरिका पर कभी कटाक्ष नहीं किया. वीजा के सवाल पर सवाल नहीं उठाया. वक्त का इंतजार किया और मेहनत की हर सीमा तोड़ दी. पिछले दस सालों में मोदी के इसी मंत्र ने अपनी पार्टी से लेकर विपक्ष के हर बड़े नेता को हर लिया. ये किस्मत नहीं पसीने का खेल था. ये कुछ कर दिखाने का जनून था. ये खुद की ताकत आजमाने का दौर था. ये तोहमतों को मेहनत से भुला देने का संकल्प था. और इसी मंत्र ने मोदी को वो ताकत दी जिसे दुनिया की सबसे बड़ी ताकत भी आज कबूल कर रही है.

मित्रों, मोदी की विचारधारा से कोई सहमत हो या न हो लेकिन एक बात सच है कि इस आदमी ने एक के बाद एक हर बाज़ी पलट दी. उसने बहुत से तोहमतदारों को ही अपना पैरोकार बना लिया है. मोदी ने खुद की हैसियत बदल कर हर रिश्ता, हर समीकरण बदल दिया है. हर बार वो एक नई लकीर खींचते हैं जिसके पीछे कई कारण हो सकते हैं लेकिन मोदी की हर बड़ी लकीर पसीने से सराबोर है.

मित्रों, आप चाहे जिस भी राजनितिक विचारों के हो, आप जिस भी समुदाय से आते हों, एक बात याद रखिएगा पसीना हैसियत बदल देता है. हैसियत रिश्ते बदल देती है. अगर मुझ पर संदेह हो तो ओबामा से पूछ सकते हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay