एडवांस्ड सर्च

खानाखराब: ध्वनिमत नहीं है, एक एक का मत है

शुक्र है कि पत्रकार लोग सर्जन नहीं हैं. नहीं तो ये लोग आदमी मे मस्तिष्क में घुस के तंत्रियां गिन लेते और नतीजा निकाल देते कि पब्लिक का मिजाज क्या है, जो इसके मन में है वो राज क्या है. सर्जन नहीं हैं पर सृजन तो कर सकते हैं.

Advertisement
कमलेश सिंहनई दिल्‍ली, 15 April 2015
खानाखराब: ध्वनिमत नहीं है, एक एक का मत है

शुक्र है कि पत्रकार लोग सर्जन नहीं हैं. नहीं तो ये लोग आदमी मे मस्तिष्क में घुस के तंत्रियां गिन लेते और नतीजा निकाल देते कि पब्लिक का मिजाज क्या है, जो इसके मन में है वो राज क्या है. सर्जन नहीं हैं पर सृजन तो कर सकते हैं. आंकड़े उपलब्ध हुए तो विश्लेषण भी कर डालते हैं. चुनावी विश्लेषणों से हम आजिज आ गए हैं. महबूबा की लंबी जुल्फों से भी लंबा-लंबा लेख जुल्फों जैसे ही उलझे-उलझे. सुलझाने का वादा कर और ज्यादा उलझाते हैं. उधर जुल्फों में कंघी लग रही है, खम निकलता है. इधर रग-रग से खिंच-खिंच कर हमारा दम निकलता है.

परिणाम तो 16 मई को आएगा पर हुजूर लगे हुए हैं ये सुलझाने में कि कौन जात का वोट किस पात में गिरा. और मुसलमान होना तो इस मुल्क में गुनाह हो गया है. हम सेकुलर ताकतों की तरह डरा नहीं रहे. सांप्रदायिक ताकतों की तरह भी नहीं. हम तो खाली ये सोच के घबरा रहे हैं कि पंडित लोग चुनाव पूरा होने तक सबको पगला देंगे ये बता कर मुसलमानों का वोट किसको मिलेगा. इस बात पर सहमति है कि बीजेपी को नहीं मिलेगा. इस बात पर भी कि एकमुश्त मिलेगा.

खैर, विश्लेषक बिरादरी के विश्लेषण ने हमको ये सोचने पर मजबूर कर दिया कि अल्पसंख्यक कौन है. अल्पसंख्यक मतलब जिसकी संख्या कम हो. संख्या में सबसे कम एक है. शून्‍य से एक ज्यादा और दो से एक कम. अल्पतमसंख्यक. भारत के भीतर राज्य हैं, राज्यों के भीतर जिले, जिले में प्रखण्ड, प्रखण्डों में पंचायत, पंचायत में गांव, गांव में परिवार, परिवार में सदस्य. वह सदस्य अगर 18 या ज्यादा की उम्र का हो तो एक वोट. हिंदू में अगड़ा, पिछड़ा, अगड़े-पिछड़े में जाति, जाति में गोत्र, गोत्र में खानदान, खानदान में परिवार, परिवार में सदस्य. मुसलमानों में भी अगड़ा-पिछड़ा, जात-पात, सैयद-अंसारी, शिया, सुन्नी, अहमदी-कादियानी, और फिर परिवार और परिवार में सदस्य. एक आदमी ही मजबूत और कमजोर होता है.

आदमी से छोटा अल्पसंख्यक कोई नहीं. पर नेताओं के लिए हम एक नहीं हैं, एक समूह हैं, एक जाति हैं, ब्राह्मण हैं, बनिया हैं, शिया हैं, सुन्नी हैं, आदिवासी और दिकू हैं. भीड़ को बरगलाना आसान है. भीड़ को भगदड़ बनाना भी उतना ही आसान. इसीलिए हमसे अकेले में बात नहीं करते. रैली में बुलाते हैं. भीड़ का दिमाग नहीं होता. सब भेड़ हो जाते हैं. एक ने बोला राहुल गांधी जिंदाबाद, तो सब कह उठते हैं राहुल गांधी जिंदाबाद. सोचने का मौका नहीं मिलता. हर हर मोदी. घर घर मोदी. भीड़ से जो करवाना है करवा लो.

बोल बम की यात्रा अगर कोई अकेले करता है तो वह अपने अंदर की यात्रा करता है. मौन, बाबा के प्रेम में लीन, कभी प्रकृति में विलीन. अकेला बम नारे नहीं लगाता. भीड़ में जवाब देने लगता है. जोर से बोलो… बोल बम. जो जमीनी बाबा हैं उनके समागम पर नजर डालिए. भक्त झूमते हैं, हंसते हैं, आंसू बहाते हैं. बाबा जय हो बोलते हैं तो पंडाल में जय हो गूंज उठता है. कई ढोंगी बाबा भी हजारों भक्त जुटा लेते हैं. उनसे अकेले में मिलने वाले उनका ढोंग जानते हैं. कभी-कभार पुलिस जान जाती है तो बाबा जेलयात्रा तक कर आते हैं. रोना-पीटना, हाल पर आ जाना. वाह-वाह करना. आह-आह करना. भावनाएं संक्रामक हो जाती हैं भीड़ में. घटिया से घटिया शायर मंच लूट लेता है क्योंकि तालियों में तालियां मिलती हैं. एक ने बजाई, दो ने बजाई, सब ने बजाई. वैसे ही हूट हो जाते हैं. एक ने टमाटर फेंका, दो ने फिर सब ने.

गालियों से गालियां मिलती हैं. मंगल को मंदिर में, जुम्मे को मस्जिद में, इतवार को चर्च में. जब भक्ति का माहौल होता है तो भक्त. आशक्ति का माहौल में आशक्त. निर्गुण में विरक्त. राजनीतिक प्राणी भी मनुष्य की इस भावना को समझते हैं. एक कहता है अल्पसंख्यकों का तुष्टिकरण हुआ तो हां में सर हिला दिया. दूसरा बोलता है कि उनको इंसाफ नहीं मिला तो वहां भी भीड़ इकरार में. जाति की तरह देखते हैं तो जाति के लिए योजनाएं बनाते हैं. आपको नहीं मिलता क्योंकि आपके लिए बना नहीं. आपकी जाति को दिया ना. मुस्लिम तुष्टिकरण हुआ तो किस मुस्लिम को मिला. कोई एक पूछ ले तो वह यही समझाते हैं कि हमने किया. आपको नहीं मिल पाया पर बाकी को मिल गया है. सब साधै सब जाय. सब सोचते हैं कि हम सबको मिला है. किसको मिला है पता नहीं.

शायद इसीलिए संसद में ध्वनिमत प्रस्ताव होता है. जो जितना शोर मचाए, वही पास हो जाए. और शायद इसीलिए चुनाव में हम अकेले वोट करते हैं. आप और वोटिंग मशीन. एक कोने में गुफ्तगू करते हैं. वो मशीन आपसे पूछता है बता तेरी रजा क्या है. और हम जवाब में बटन दबाते हैं. अपना इरादा बताते हैं. क्योंकि लोकतंत्र समूह को नहीं, संख्या को नहीं, बहुसंख्यक या अल्पसंख्यक को नहीं. हर आदमी को अपना फैसला लेना पड़ता है. क्योंकि हर आदमी अल्पसंख्यक है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay