एडवांस्ड सर्च

नरसिंहा राव नहीं चाहते थें सोनिया बने कांग्रेस अध्यक्ष: अर्जुन सिंह

राजीव गांधी की मई, 1991 में हत्या के बाद दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंहा राव ने सोनिया गांधी को कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनाये जाने के सुझाव पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि कांग्रेस पार्टी को क्यों नेहरू गांधी परिवार के साथ उसी तरह अटके रहने की जरूरत है जैसे कि ट्रेन के डिब्बे इंजन से जुड़े होते हैं.

Advertisement
aajtak.in
आजतक ब्यूरो/भाषानई दिल्ली, 03 July 2012
नरसिंहा राव नहीं चाहते थें सोनिया बने कांग्रेस अध्यक्ष: अर्जुन सिंह सोनिया गांधी

राजीव गांधी की मई, 1991 में हत्या के बाद दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंहा राव ने सोनिया गांधी को कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनाये जाने के सुझाव पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि कांग्रेस पार्टी को क्यों नेहरू गांधी परिवार के साथ उसी तरह अटके रहने की जरूरत है जैसे कि ट्रेन के डिब्बे इंजन से जुड़े होते हैं.

दिवंगत कांग्रेस नेता अर्जुन सिंह की जल्द ही जारी होने जा रही आत्मकथा ‘ए ग्रेन ऑफ सैंड इन द हावरग्लास ऑफ टाइम’ में यह बात कही है.

सिंह ने कहा कि सोनिया गांधी को अध्यक्ष बनाये जाने के सुझाव पर राव की प्रतिक्रिया सुनकर उनका ‘राजनीति के वीभत्स’ चेहरे से सामना हुआ.

383 पन्नों वाली इस किताब का प्रकाशन हे हाउस इंडिया ने किया है और इसके सह लेखक अशोक चोपड़ा है. चोपड़ा ने कहा कि सिंह का चार मार्च को निधन हो गया था और उस समय वह अपनी आत्मकथा को लिख ही रहे थे.

चोपड़ा ने कहा कि उन्होंने सिंह के परिवार के सदस्यों, अन्य मित्रों और सहयोगियों के साथ बातचीत करके जो चीजें वे नहीं लिख पाये थे उन्हें पूरी विश्वसनीयता के साथ लिखने का प्रयास किया है.

सिंह ने कहा कि हमारे सुझाव को सुनकर राव कुछ देर के लिये चुप रहे, इस दौरान उनका चेहरा काफी गंभीर लग रहा था.

उन्होंने कहा, ‘अचानक वह क्रोध के साथ बरस पड़े और लगभग चिल्लाकर कहा क्या यह आवश्यक है कि कांग्रेस को एक ट्रेन के रूप में लिया जाना चाहिये जहां डिब्बों को नेहरू गांधी परिवार के एक इंजन से जुड़े रहना होगा या अन्य विकल्प भी हैं? मैं राव की प्रतिक्रिया सुनकर हक्का बक्का रह गया लेकिन चुप रहा.’

सिंह ने कहा कि उस समय के एआईसीसी के कोषाध्यक्ष सीता राम केसरी ने इस मामले को आगे बढ़ाया और जोर देकर कहा कि यदि ‘हम कांग्रेस अध्यक्ष का यह पद सोनिया को देने का प्रस्ताव देते हैं तो यह ठीक होगा.’

किताब में दावा किया गया है कि राव ने यह महसूस किया कि उन्होंने बहुत जल्द बहुत ज्यादा बोल दिया है और अपनी नेहरू विरोधी भावना स्पष्ट रूप से उजागर कर दी है.

उसके बाद उन्होंने विचारमग्न ढंग से सवाल किया, ‘इस सुझाव को देने में कोई नुकसान नहीं है लेकिन क्या वह स्वीकार करेंगी? हमारे पास उनके सवाल का जवाब नहीं था क्योंकि हमें सोनिया गांधी से अध्यक्ष बनने के लिये कहना होगा और उनकी प्रतिक्रिया लेना होगा.’

इस संबंध में सिंह ने कहा कि सबसे पहले कांग्रेस नेता विसेंट जार्ज, एम एल फोतेदार और स्वयं उन्होंने केसरी से कहा. अर्जुन ने कहा कि केसरी उनके उम्मीदवार के विकल्प से आश्चर्यचकित नहीं थे और सोनिया को समर्थन देने पर सहमति जताई.

अर्जुन ने अपनी किताब के ‘अयोध्या में विवादास्पद ढांचा गिराये जाने और उसके असर’ खंड में कहा कि बाबरी मस्जिद गिराये जाने की खबर आने के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री ने खुद को अपने कमरे में बंद कर लिया और यह दृश्य कुछ ऐसे लग रहा था जैसे जब रोम जल रहा था तब नीरो बांसुरी बजा रहा था.

सिंह ने अपनी किताब में कहा कि उन्होंने ढांचा गिराये जाने पर बात करने के लिये छह दिसंबर, 1992 को दोपहर में प्रधानमंत्री आवास पर फोन किया तो ‘मुझे कहा गया कि वह किसी से बात नहीं करेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘मैंने जवाब देने वाले व्यक्ति से पूछा कि क्या वह दिल्ली से बाहर हैं? इस पर उसने कहा कि वह दिल्ली में हैं लेकिन उन्होंने खुद को कमरे में बंद कर लिया है और कहा गया है कि उन्हें किसी भी परिस्थिति में परेशान नहीं किया जाये.’

अर्जुन सिंह उस समय पंजाब के मुक्तसर में थे.

अर्जुन सिंह ने कहा, ‘मेरे विचार से यह दृश्य कुछ उसी तरह से था जैसे कि रोम के जलने के दौरान नीरो बांसुरी बजा रहा था. मैंने अपने मेजबान से अनुमति ली और तत्काल दिल्ली के लिये रवाना हो गया.’

उन्होंने कहा कि जैसे ही खबर मुझे मिली मेरे मस्तिष्क में ढांचा गिराये जाने की तस्वीरे बनने लगी. अर्जुन ने कहा, ‘मैंने महसूस किया कि इस घटना के दुखद परिणाम की देश के इतिहास में गणना नहीं की जा सकती.’

सिंह ने कहा, ‘भारत की धर्मनिरपेक्ष छवि को गंभीर नुकसान पहुंचा.’

सिंह ने कहा कि छह दिसंबर 1992 को ढांचा गिराये जाने के एक दिन पहले उन्होंने राव से कहा था कि मस्जिद को गिराया जा सकता है लेकिन उनके रवैये से ऐसा लगा कि जैसे ‘वह पूरे मामले को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay