एडवांस्ड सर्च

रेलवे को न बनाएं गठबंधन-राजनीति का मोहरा: भाजपा

रेलवे को गठबंधन और सत्ता की राजनीति का मोहरा नहीं बनाने की नसीहत देते हुए विपक्ष दल भाजपा ने सरकार से जानना चाहा कि जब पूर्व रेल मंत्रियों लालू प्रसाद एवं ममता बनर्जी के कार्यकाल में रेलवे इतना मुनाफा कमा रही थी तो आखिर उसकी माली हालत अचानक खराब कैसे हो गई कि यात्री किराया बढ़ाने की नौबत आ गई.

Advertisement
आजतक ब्यूरो/भाषानई दिल्ली, 20 March 2012
रेलवे को न बनाएं गठबंधन-राजनीति का मोहरा: भाजपा बलबीर पुंज

रेलवे को गठबंधन और सत्ता की राजनीति का मोहरा नहीं बनाने की नसीहत देते हुए विपक्ष दल भाजपा ने सरकार से जानना चाहा कि जब पूर्व रेल मंत्रियों लालू प्रसाद एवं ममता बनर्जी के कार्यकाल में रेलवे इतना मुनाफा कमा रही थी तो आखिर उसकी माली हालत अचानक खराब कैसे हो गई कि यात्री किराया बढ़ाने की नौबत आ गई.

राज्यसभा में रेल बजट पर चर्चा की शुरुआत करते हुए भाजपा नेता बलबीर पुंज ने कहा कि यह कैसी सरकार है जिसमें प्रधानमंत्री पहले रेल मंत्री के बजट की तारीफ करते हैं और किराया बढ़ाने के कदम को जायज ठहराते हैं. बाद में प्रधानमंत्री ही दिनेश त्रिवेदी को मंत्रिमंडल से बाहर कर देते हैं.

पुंज ने कहा कि रेल बजट त्रिवेदी का कोई निजी बजट नहीं था. इसके प्रस्तावों के लिए प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री दोनों से सहमति ली गई होगी. उन्होंने कहा कि यदि बजट में कोई गड़बड़ी है तो उससे प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री कैसे बरी हो सकते हैं.

उन्होंने कहा कि त्रिवेदी की जगह अब एक ऐसे व्यक्ति को रेल मंत्री बनाया गया है जिन्होंने पूर्व में असम में हुई रेल दुर्घटना का जायजा लेने के लिए दिए गए प्रधानमंत्री के निर्देश को मानने से मना कर दिया था.

पुंज ने कहा कि त्रिवेदी के इस्तीफे में कई रहस्य छिपे हुए हैं. क्या तृणमूल कांग्रेस को यह पता नहीं था कि रेल यात्री किरायों में बढ़ोतरी होने वाली है. उन्होंने कहा कि यह एक बेहद जटिल मामला है और त्रिवेदी को स्वयं आ कर इस मामले में अपना पक्ष सदन में रखना चाहिए.

पुंज ने कहा, ‘कोलकाता में बैठ कर रिमोट का बटन दबाया गया और दिल्ली में भूकंप आ गया.’

प्रधानमंत्री पर गठबंधन की राजनीति के आगे सिर झुका देने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा, ‘रिमोट से सरकार चल सकती है, देश नहीं.’

भाजपा नेता ने सरकार से सवाल किया कि जिस अनुपात में रेल बजट में किरायों में बढ़ोत्तरी की गई है, क्या उस अनुपात में यात्रियों को सुविधा प्रदान की जाएगी.

उन्होंने कहा कि यात्रियों को न तो पहले सुविधा मिली थी और न ही आगे ज्यादा सुविधाएं मिलने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि रेल बजट के एक हफ्ते पहले ही माल भाड़ा बढ़ा कर पूरे देश पर बोझ डाल दिया गया.

उन्होंने सरकार से सवाल किया कि पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव और ममता बनर्जी जब बार-बार यह कहते रहे कि रेलवे की स्थिति अच्छी है और रेलवे मुनाफे में है तो आज यह स्थिति कैसे बन गई कि रेल यात्री किराया बढ़ाने की नौबत आ गई.

उन्होंने कहा कि इस बात की सराहना करनी चाहिए कि कम से कम त्रिवेदी ने रेल बजट भाषण में रेलवे की वास्तविक तस्वीर प्रस्तुत की है.

पुंज ने कहा कि सरकार बार बार रेल सुरक्षा की बात करती है लेकिन रेल दुर्घटनाओं में हर साल बड़ी संख्या में लोग मारे जाते हैं. नए रेल मंत्री के शपथ लेने के दिन ही रेल दुर्घटना में 15 लोगों की जान चली गई.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay