एडवांस्ड सर्च

मणिपुर में पुनर्मतदान के लिए सुरक्षा प्रबंध

निर्वाचन आयोग ने मणिपुर के पांच पहाड़ी जिलों में उन स्थानों पर स्वतंत्र एवं निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित कराने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा उपाय किये हैं, जहां शनिवार को दोबारा वोट डाले जाने हैं.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आईएएनएसइम्फाल, 03 February 2012
मणिपुर में पुनर्मतदान के लिए सुरक्षा प्रबंध मणिपुर

निर्वाचन आयोग ने मणिपुर के पांच पहाड़ी जिलों में उन स्थानों पर स्वतंत्र एवं निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित कराने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा उपाय किये हैं, जहां शनिवार को दोबारा वोट डाले जाने हैं. राज्य में 28 जनवरी के मतदान के दौरान इन इलाकों में हुई हिंसा के कारण पांचों जिलों के 34 मतदान केंद्रों पर पुनर्मतदान के आदेश दिए गए थे.

इन पांचों जिलों में उखरुल, तामेंगलांग, सेनापति, चंदेल और चूड़ाचांदपुर शामिल हैं. इन जिलों में हुई हिंसा में सात लोगों की मौत हो गई थी. नागालैंड के आतंकवादी संगठन एनएससीएन-आईएम को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था.

विभिन्न वर्गों ने आरोप लगाया था कि नागा आतंकवादियों ने नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के उम्मीदवारों को मदद पहुंचाने के लिए मतदान केंद्रों पर हमले किए थे. एनपीएफ ने नागा बाहुल्य इलाकों में 12 उम्मीदवार खड़े किए थे.

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के एक सूत्र ने कहा, 'शनिवार के मतदान के लिए सभी 34 मतदान केंद्रों पर सुरक्षा चुस्त कर दी गई है. 28 जनवरी को हमने प्रत्येक मतदान केंद्र पर 10 से 20 सुरक्षाकर्मी तैनात किए थे. इस बार हमने प्रत्येक मतदान केंद्र पर 75 से 100 सुरक्षाकर्मी तैनात करने के निर्देश दिए हैं.'

सूत्र ने कहा, 'चूड़ाचांदपुर में स्थित मतदान केंद्रों के लिए मतदानकर्मी गुरुवार को राज्य की राजधानी से रवाना हो गए, जबकि अन्य चार जिलों के लिए मतदान अधिकारियों ने आज (शुक्रवार) प्रस्थान किया है.'

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay