एडवांस्ड सर्च

गोरखनाथ मंदिर के महंत हैं योगी आदित्यनाथ, जानें कहां है यह मंदिर

यूपी में सीएम पद के लिए कई नाम चर्चा में थे. जिसके बाद अब योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने की अटकलें तेज हो गई हैं. योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर के वर्तमान महंत हैं.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: परमीता शर्मा] 19 March 2017
गोरखनाथ मंदिर के महंत हैं योगी आदित्यनाथ, जानें कहां है यह मंदिर योगी आदित्यनाथ

यूपी में सीएम पद के लिए कई नाम चर्चा में थे. जिसके बाद अब योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने की अटकलें तेज हो गई हैं. योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर के वर्तमान महंत हैं. जानें कहां है यह मंदिर और क्या है इसकी मान्यता.

LIVE: क्या योगी आदित्यनाथ होंगे यूपी के सीएम? थोड़ी देर में फैसला

गोरखनाथ मंदिर, उत्तर प्रदेश के गोरखपुर नगर में है. बाबा गोरखनाथ के नाम पर इस जिले का नाम गोरखपुर पड़ा है. इस मंदिर के वर्तमान महंत बाबा योगी आदित्यनाथ हैं. मकर संक्रान्ति के मौके पर यहां विशाल मेला लगता है जो 'खिचड़ी मेला' के नाम से प्रसिद्ध है.

ऐसे बना गोरखनाथ मंदिर

गोरक्षनाथ मंदिर गोरखपुर में लगातार होने वाली योग साधना का क्रम पुराने समय से चलता रहा है. ज्वालादेवी के स्थान से परिभ्रमण करते हुए 'गोरक्षनाथ जी' ने आ कर भगवती राप्ती के तटवर्ती क्षेत्र में तपस्या की थी और उसी स्थान पर अपनी दिव्य समाधि लगाई थी, जहां अभी गोरखनाथ मंदिर बना हुआ है. यह मंदिर गोरक्षनाथ मंदिर के नाम से भी फेमस है.

योगी आदित्यनाथ को CM बनाने की मांग को लेकर युवक टावर पर चढ़ा

52 एकड़ में बना है यह मंदिर

यह मंदिर करीब 52 एकड़ क्षेत्र में बना हुआ है. इस मंदिर का रूप व आकार-प्रकार परिस्थितियों के अनुसार समय-समय पर बदलता रहा है. गोरक्षनाथ मंदिर की भव्यता और पवित्रता बहुत कीमती है.

15 फरवरी 1994 को मंदिर के महंत बने योगी आदित्यनाथ

गुरु गोरखनाथ जी के प्रतिनिधि के रूप में सम्मानित संत को महंत की उपाधि से विभूषित किया जाता है. इस मंदिर के प्रथम महंत श्री वरद्नाथ जी महाराज कहे जाते हैं, जो गुरु गोरखनाथ जी के शिष्य थे. तत्पश्चात परमेश्वर नाथ और गोरखनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार करने वालों में प्रमुख बुद्ध नाथ जी (1708-1723 ई) मंदिर के महंत बने. 15 फरवरी 1994 गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवैद्य नाथ जी महाराज द्वारा मांगलिक वैदिक मंत्रोच्चारपूर्वक योगी आदित्यनाथ का दीक्षाभिषेक संपन्न हुआ.

मंदिर में जलती है अखंड ज्योति

मुस्लिम शासन काल में हिंदुओं और बौद्धों के अन्य सांस्कृतिक केंद्रों की तरह इस पीठ को भी कई बार बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. इसकी प्रसिद्धि की वजह से शत्रुओं का ध्यान इसकी तरफ गया. चौदहवीं सदी में भारत के मुस्लिम सम्राट अलाउद्दीन खिलजी के शासन काल में यह मठ नष्ट किया गया और साधक योगी बलपूर्वक निष्कासित किए गए थे. मठ का पुनर्निर्माण किया गया. सत्रहवीं और अठारहवीं सदी में अपनी धार्मिक कट्टरता के कारण मुगल शासक औरंगजेब ने इसे दो बार नष्ट किया लेकिन शिव गोरक्ष द्वारा त्रेता युग में जलाई गई अखंड ज्योति आज तक अखंड रूप से जल रही है. यह अखंड ज्योति श्री गोरखनाथ मंदिर के अंतरवर्ती भाग में स्थित है.

मकर संक्रान्ति के मौके पर लगता है विशाल 'खिचड़ी मेला'

हर रोज मंदिर में असंख्य पर्यटकों और यात्री दर्शन के लिए आते हैं. मंगलवार को यहां दर्शनार्थियों की संख्या ज्यादा होती है. मकर संक्रान्ति के मौके पर यहां विशाल मेला लगता है जो खिचड़ी मेला के नाम से प्रसिद्ध है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay