एडवांस्ड सर्च

राजस्थान चुनाव: झुंझुनू में कांग्रेस का विजय रथ रोक पाएगी बीजेपी?

2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को स्पष्ट बहुमत मिला था और वसुंधरा राजे ने सीएम की कुर्सी संभाली थी. बीजेपी ने इस बार उन्हें सीएम उम्मीदवार घोषित किया है, जबकि उनके सामने कांग्रेस के युवा नेता सचिन पायलट चुनौती पेश कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
जावेद अख़्तर नई दिल्ली, 10 September 2018
राजस्थान चुनाव: झुंझुनू में कांग्रेस का विजय रथ रोक पाएगी बीजेपी? राजस्थान चुनाव 2018

राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हैं. हर बार की तरह यहां इस बार भी मुख्य मुकाबला सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच है. इस चुनाव में जहां मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की साख का सवाल है तो वहीं, कांग्रेस नेता सचिन पायलट की आजमाइश भी है.

विधानसभा का समीकरण

राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं. इनमें 142 सीट सामान्य, 33 सीट अनुसूचित जाति और 25 सीट अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित हैं. 2013 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी और उसने 163 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जबकि कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई थी. बहुजन समाज पार्टी को 3, नेशनल पीपुल्स पार्टी को 4, नेशनल यूनियनिस्ट जमींदारा पार्टी को 2 सीटें मिली थीं. जबकि 7 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते थे.

झुंझुनू जिले का चुनावी समीकरण

झुंझुनू जिला शेखावटी रीजन में आता है और यहां कुल 7 विधानसभा सीट हैं. 2013 के चुनाव में जिले में कुल 14,01,414 वोटर्स थे, जिनमें से 10,36,634 लोगों (74.0%) ने अपने मतों का इस्तेमाल किया था. यहां 6 सीटें सामान्य वर्ग के लिए हैं, जबकि 1 सीट अनुसूचित जाति (SC) के लिए आरक्षित है. जिले में करीब 11 फीसदी मुस्लिम आबादी है.

सामान्य सीटों में सूरजगढ़, झुंझुनू, मंडावा, नवलगढ़, उदयपुरवाटी और खेतड़ी है. जबकि पिलानी सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. कुल 7 सीटों में पिछले चुनाव में बीजेपी को 3, कांग्रेस और बीएसपी को 1-1 और दो सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों को मिली थीं. निर्दलीय उम्मीदवारों को कांग्रेस पार्टी से कहीं ज्यादा वोट मिला था. जिले की सभी सीटों पर बीजेपी को 35, निर्दलीयों को 33 और कांग्रेस को 26 प्रतिशत वोट मिला था.

झुंझुनू सीट

झुंझुनू राजस्थान के सबसे बड़े शहरों में शुमार किया जाता है. ये शहर जुझारसिंह नेहरा के नाम पर सन् 1730 में बसाया गया था. यहां कमरुद्दीन शाह की दरगाह काफी मशहूर है, साथ ही मनसा माता मंदिर का भी बड़ा महत्व है.

2013 चुनाव का रिजल्ट

बृजेंद्र सिंह (कांग्रेस)- 60,929 (43%)

राजीव सिंह (बीजेपी)- 42,517 (30%)

सुमित्रा सिंह (निर्दलीय)- 32,584 (23%)

2008 चुनाव का रिजल्ट

बृजेंद्र सिंह (कांग्रेस)- 38,571 (34%)

मूल सिंह शेखावत (बीजेपी)- 29,255 (26%)

बुद्धराम (बीएसपी)- 16,267 (14.4%)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay