एडवांस्ड सर्च

हिंदू धर्म में क्या है मूर्ति पूजा का महत्व? इस वजह से पड़ती है जरूरत

वैदिक काल और बाद में मूर्ति पूजा का कोई साक्ष्य नहीं मिलता. हालांकि महाभारत में इंद्र का उल्लेख जरूर आता है.सबसे पहले हड़प्पा की खुदाई में पशुपति की मूर्ति के प्रमाण मिलते हैं.

Advertisement
aajtak.inनई दिल्ली, 24 July 2019
हिंदू धर्म में क्या है मूर्ति पूजा का महत्व? इस वजह से पड़ती है जरूरत बिना मूर्ति या प्रतीक के साकार ब्रह्म की उपासना नहीं हो सकती.

हिन्दू धर्म में पूजा उपासना की तमाम पद्धतियां प्रचलित हैं. इसमें साकार की उपासना भी की जाती हैं और निराकार की भी

साकार ईश्वर की उपासना में मूर्ति पूजा का विशेष महत्व है. बिना मूर्ति या प्रतीक के साकार ब्रह्म की उपासना नहीं हो सकती.

हिन्दू धर्म में कबसे यह प्रचलन में है-

वैदिक काल और बाद में मूर्ति पूजा का कोई साक्ष्य नहीं मिलता. हालांकि महाभारत में इंद्र का उल्लेख जरूर आता है

सबसे पहले हड़प्पा की खुदाई में पशुपति की मूर्ति के प्रमाण मिलते हैं. इसके बाद सुविधा और समर्थन के कारण , मूर्ति पूजा तेजी से प्रचलित होती गई.

मूर्ति पूजा की जरूरत क्या है-

व्यक्ति का मन अत्यधिक चंचल और नकारात्मक होता है. मन को एकाग्र करने के लिए किसी आधार का प्रयोग किया जाता है. और अपने आपको जोड़ने  तथा एकाग्रता के लिए मूर्ति का प्रयोग होता है. मूर्ति पूजा से चीज़ें थोड़ी आसन और भावात्मक हो जाती हैं.

किस प्रकार करें मूर्ति का चुनाव?-

- घर में पूजा के लिए छोटी मूर्ति का प्रयोग करें

- यह छह इंच तक की हो तो बेहतर होगा

- देवी देवता की मूर्ति अगर आशीर्वाद की मुद्रा में हो तो उत्तम होगा

- मूर्ति ठीक से बनी हुई हो और सुंदर हो

- युद्ध की मुद्रा या निद्रा की मुद्रा की मूर्तियों का प्रयोग न करें

मूर्तियों के प्रयोग की सावधानियां?-

- मूर्तियां मिट्टी की ही हों तो उत्तम होगा

-जब मूर्तियां पुरानी हो जाएं या रूप खराब हो जाय तो उनका विसर्जन करें

- नदियों में विसर्जन के बजाय इसे मिटटी में भी दबा सकते हैं

- मूर्ति पूजा को अंतिम पूजा न मानें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay