एडवांस्ड सर्च

पूजा-पाठ के साथ मंदिर का रंग होगा ऐसा तभी मिलेगा पूजा का पूरा फल

अक्सर पूजा अर्चना करते समय आपके मन में भी यह विचार आता होगा कि पूजा की किस विधि को अपनाए ताकि आपकी पूजा का आपको पूरा फल मिल सके. मंदिर का रंग कैसा हो ताकि प्रभू की अराधना करते समय आपका मन एकाग्रचित्त होकर उसकी भक्ति में लगा रहे.

Advertisement
aajtak.inनई दिल्ली, 07 August 2019
पूजा-पाठ के साथ मंदिर का रंग होगा ऐसा तभी मिलेगा पूजा का पूरा फल प्रतीकात्मक फोटो

अक्सर पूजा अर्चना करते समय आपके मन में भी यह विचार आता होगा कि पूजा की किस विधि को अपनाए ताकि आपकी पूजा का आपको पूरा फल मिल सके. मंदिर का रंग कैसा हो ताकि प्रभू की अराधना करते समय आपका मन एकाग्रचित्त होकर उसकी भक्ति में लगा रहे.

आइए आज आपके इन सभी सवालों का जवाब देते हुए बताते हैं ईश्वर को प्रसन्न करने के लिए आपको मंदिर में कैसे रंग का चुनाव करना चाहिए और मंदिर में क्या रखने से आपके घर में सुख संपदा बनी रहेगी.        

घर के मन्दिर का रंग कैसा हो-

- घर में हमेशा पूर्व या उत्तर दिशा में मंदिर हो तो उत्तम फल की प्राप्ति होगी.

- घर का मंदिर हमेशा लकड़ी का हो तो बहुत अच्छा है.

- ध्यान रखें कि घर के मंदिर के आसपास कोई गंदगी ना हो.

- मंदिर में हमेशा हल्का पीला या नारंगी रंग करवाए तो अच्छा होता है.

- घर के मंदिर में हमेशा हल्की पीली लाइट का प्रयोग करना चाहिए.

- मंदिर में गहरे नीले रंग का प्रयोग ना करें.

-घर के मंदिर में क्या-क्या रखना चाहिए-

- घर के मंदिर में हलके पीले रंग का या लाल रंग का वस्त्र बिछाएं.

- भगवान गणपति और महालक्ष्मी की फोटो या चित्र रखें.

- अपने इष्ट और अपने कुल गुरु का चित्र अवश्य रखें.

- एक तांबे के लोटे में गंगाजल भरकर हमेशा रखें.

-घर का मंदिर बनाते समय क्या क्या सावधानी बरतें और कौन सी दिशा में भजन पूजा पाठ करें-

- घर का मंदिर बनाते समय हमेशा ध्यान रखें कि मंदिर का मुख दक्षिण पश्चिम दिशा में ना हो.

- मंदिर के आसपास कोई गंदगी ना हो.

- मन्दिर शौचालय के पास बिल्कुल ना बनवाएं.

- मंदिर के आसपास जूते चप्पल ना रखें.

- हमेशा भजन कीर्तन पूर्व या उत्तर दिशा में मुंह करके किया जाए तो सर्वोत्तम रहता है अन्य किसी दिशा में किया गया भजन कीर्तन मन में उत्साह नहीं ला पाता.

- भजन कीर्तन करने से पहले भगवान मंगल मूर्ति के चित्र को हमेशा स्थापित करें उसके बाद ही भजन कीर्तन शुरू करें.

- जिस देवी देवता का भजन किया जा रहा है उसके चित्र के सामने गाय के घी का दीपक और धूप अवश्य जलाएं. जल का पात्र भी भरकर रखें.

-भजन कीर्तन में किन सावधानियों को बरतें ताकि घर मे पूजा पाठ का पूर्ण फल मिले-

- भजन कीर्तन करते समय इधर-उधर की बातों में ध्यान ना दें.

- हमेशा शुद्ध और साफ वस्त्र पहनकर ही भजन कीर्तन करें.

- भजन कीर्तन में शुद्ध मिठाई और साफ-सुथरे फलों का प्रयोग करें.

- हमेशा भजन कीर्तन में गाय के घी का दीपक और कलावे की बाती का प्रयोग करें

- घर में पूजा पाठ करते समय श्वेत गुलाबी या हल्के पीले वस्त्र पहनकर ही पूजा करें.

- हमेशा लाल या पीले आसन पर बैठकर ही मंत्र जाप करें.

- जाप हमेशा लाल चंदन की माला या रुद्राक्ष की माला से करें.

- जाप शुरू करने से पहले भगवान गणपति व गुरु और अपने इष्ट का ध्यान करना चाहिए

उसके बाद ही जाप शुरू करें.

-सभी परेशानियों को दूर करने के महाउपाय-

- घर में अकारण कलह रहता हो तो प्रतिदिन सुबह गायत्री मंत्र का 108 बार जाप करें.

- घर में यदि कोई बीमार रहता हो तो महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें और शिवलिंग पर कच्चा दूध चढ़ाएं.

- घर में धन की कमी हो तो श्री नारायण भगवान को पीले पुष्प चढ़ाएं.

- घर में आपस में पति पत्नी में विवाद हो तो संयुक्त रूप से शिव पार्वती का पूजन करें.

- घर में नकारात्मक ऊर्जा के प्रवेश को रोकने के लिए घर के मुख्य द्वार पर आम के पत्तों की बंदनवार लगाएं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay