एडवांस्ड सर्च

कोरोना के चलते इस साल गोवर्धन में नहीं लगेगा करोड़ी मेला, हजारों साल पुरानी परंपरा टूटी

सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए इस बार गुरु पूर्णिमा मेला रद्द करने का फैसला किया गया है. ये फैसला पुलिस प्रशासन के अधिकारियों, स्थानीय लोगों और साधु-संतों की एक बैठक में लिया गया.

Advertisement
aajtak.in
मदन गोपाल शर्मा मथुरा, 18 June 2020
कोरोना के चलते इस साल गोवर्धन में नहीं लगेगा करोड़ी मेला, हजारों साल पुरानी परंपरा टूटी इस साल नहीं होगा गुरु पूर्णिमा मेले का आयोजन

कोरोना वायरस के चलते इस बार मथुरा के प्रमुख तीर्थ स्थल गोवर्धन में हजारों वर्ष प्राचीन परंपरा टूट जाएगी. महामारी के चलते गोवर्धन में लगने वाला करोड़ी मेले का आयोजन इस बार नहीं किया जाएगा. आपको बता दें कि हर वर्ष आषाढ़ शुक्ल पक्ष माह की पूर्णिमा को गोवर्धन में गुरु पूर्णिमा मेले का आयोजन किया जाता है.

उत्तर प्रदेश सरकार का यह राजकीय मेला पुलिस व प्रशासन की चाक-चौबंद व्यवस्थाओं के बीच लगता है, जिसमें 5 दिन के अंदर करीब एक करोड़ श्रद्धालु गोवर्धन महाराज की परिक्रमा लगाने आते हैं. कोरोना वायरस को देखते हुए इस बार गुरु पूर्णिमा मेला रद्द करने का फैसला किया गया है क्योंकि इस परिक्रमा में ना तो सोशल डिस्टेंसिंग हो पाएगी और श्रद्धालुओं की भीड़ की वजह से संक्रमण फैलने का खतरा भी अधिक रहेगा.

ये भी पढ़ें: मंगला गौरी व्रत का क्या है महत्व? जानें कथा और पूजन विधि

हजारों वर्ष प्राचीन गोवर्धन गुरु पूर्णिमा परिक्रमा के चलते पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने स्थानीय लोगों एवं साधु-संतों के साथ एक बैठक की जिसमें गोवर्धन मेले पर लगने वाली परिक्रमा को रोकने पर विचार विमर्श किया गया. साथ ही सभी लोगों ने कोरोना के चलते परिक्रमा शुरू न करने की अपील की. पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने भी अपनी स्वीकृति देते हुए इसे कोरोना संक्रमण से बचने के लिए जरूरी कदम बताया. आपको बता दें कि गोवर्धन की परिक्रमा द्वापर युग से चली आ रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay