एडवांस्ड सर्च

15 नियम जो पूजा करने के दौरान याद रखे जाने चाहिए

पूजा करने और पूरे विधि‍-विधान से पूजा करने में बहुत फर्क होता है. पूजा का पूरा फायदा मिले और मन शांत रहे, इसके लिए इन 15 बातों का ध्यान रखा जाना जरूरी है -

Advertisement
aajtak.in
वन्‍दना यादव नई दिल्ली, 22 February 2016
15 नियम जो पूजा करने के दौरान याद रखे जाने चाहिए पूजा करते समय ध्यान रखने वाली कुछ जरूरी बातें

पूजा करने और भगवान को प्रसन्न करने के कुछ नियम-कायदे होते हैं जिनका पालन करने से घर में संपन्नता बनी रहती है. किस भगवान की पूजा में कौन सा फूल चढ़ाना चाहिए या फिर दीपक को किस दिशा में जलाना शुभ होता है,  इन सब बातों की जानकारी ही पूजा काे सफल बनाती है.

किस दिन तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए या रविवार को किस पेड़-पौधे को जल नहीं देना चाहिए जैसी धार्मिक मान्यता वाली बातों का पता होना और ध्यान रखना बहुत जरूरी है. पूजा-पाठ के इन नियमों का वर्णन आपको कथाओं और धार्मिेक पुस्तकों में मिल जाएगा.

अगर आप रोज पूजा करते हैं और आपका मन अशांत रहता है तो इसका मतलब है कि आप कि पूजा-पाठ में कहीं कुछ गलत हो रहा है. मन की शांति और जिस भी मनोकामना से पूजा की जा रही है, उसकी पूर्ति के लिए परे विधान से पूजा का किया जाना जरूरी है.

यहां जानते हैं कि पूजा के दौरान किन बातों का ध्यान रखें और कुछ जरूरी नियमों का पालन कैसे करें...

1. शिवजी , गणेशजी और भैरवजी को तुलसी नहीं चढ़ानी चाहिए.

2. तुलसी का पत्ता बिना स्नान किए नहीं तोड़ना चाहिए. शास्त्रों के अनुसार यदि कोई व्यक्ति बिना नहाए ही तुलसी के पत्तों को तोड़ता है तो पूजन में ऐसे पत्ते भगवान द्वारा स्वीकार नहीं किए जाते हैं.

3. तुलसी के पत्तों को 11 दिनों तक बासी नहीं माना जाता है. इसकी पत्तियों पर हर रोज जल छिड़कर पुन: भगवान को अर्पित किया जा सकता है.

4. रविवार, एकादशी, द्वादशी, संक्रान्ति तथा संध्या काल में तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए.

5. सूर्य देव को शंख के जल से अर्घ्य नहीं देना चाहिए.
6. सूर्य, गणेश, दुर्गा, शिव और विष्णु , ये पंचदेव कहलाते हैं, इनकी पूजा सभी कार्यों में अनिवार्य रूप से की जानी चाहिए. प्रतिदिन पूजन करते समय इन पंचदेव का ध्यान करना चाहिए. इससे लक्ष्मी कृपा और समृद्धि प्राप्त होती है.

7. मां दुर्गा को दूर्वा (एक प्रकार की घास) नहीं चढ़ानी चाहिए. यह गणेशजी को विशेष रूप से अर्पित की जाती है.

8. दूर्वा (एक प्रकार की घास) रविवार को नहीं तोडऩी चाहिए.

9. बुधवार और रविवार को पीपल के वृक्ष में जल अर्पित नहीं करना चाहिए.

10. प्लास्टिक की बोतल में या किसी अपवित्र धातु के बर्तन में गंगाजल नहीं रखना चाहिए. अपवित्र धातु जैसे एल्युमिनियम और लोहे से बने बर्तन. गंगाजल तांबे के बर्तन में रखना शुभ रहता है.

11. केतकी का फूल शिवलिंग पर अर्पित नहीं करना चाहिए.

12. किसी भी पूजा में मनोकामना की सफलता के लिए दक्षिणा अवश्य चढ़ानी चाहिए.

13. मां लक्ष्मी को विशेष रूप से कमल का फूल अर्पित किया जाता है. इस फूल को पांच दिनों तक जल छिड़क कर पुन: चढ़ा सकते हैं.

14. हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी दीपक से दीपक नहीं जलाना चाहिए. शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति दीपक से दीपक जलाते हैं, वे रोगी होते हैं.

15. घर के मंदिर में सुबह एवं शाम को दीपक अवश्य जलाएं. एक दीपक घी का और एक दीपक तेल का जलाना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay