एडवांस्ड सर्च

खुशी में भी महादेव करते हैं तांडव, जानें इसका रहस्य

Mahashivratri 2019 महादेव के टांडव के सिलसिले में कई सारी कथाएं चर्चित है. आज महाशिवरात्रि के दिन जानते है शिव के टांडव का रहस्य

Advertisement
aajtak.in [Edited By: सुधांशु माहेश्वरी]नई दिल्ली, 04 March 2019
खुशी में भी महादेव करते हैं तांडव, जानें इसका रहस्य प्रतीकात्मक तस्वीर

ऐसा कहा जाता है कि महादेव जब क्रोध में होते हैं वे तांडव करना शुरू कर देते हैं. इसके अलावा उनके तांडव के चलते समस्त सृष्टि का भी विनाश हो सकता है. लेकिन बता दें, तांडव सिर्फ क्रोध में नही किया जाता बल्कि खुशी के मौकों पर भी भोलेनाथ तांडव करते हैं. तांडव के कई स्वरूप होते हैं और इससे जुड़ी अनेक कथाएं हैं. चलिए आज आपको बताते हैं शिव के तांडव का अर्थ और इससे जुड़ी कथाएं-

ऐसी मान्यता है कि महादेव के दो स्वरूप प्रमुख होते हैं. एक होता है समाधि और दूसरा होता है तांडव. अब भगवान शिव के तांडव के सिलसिले में दो कहानियां काफी चर्चित है.

एक बार माता सती भगवान शिव के साथ अपने पिता दक्ष द्वारा आयोजित हवन में हिस्सा लेने आई थीं. वहां भोलेनाथ का अपमान होता देख, माता सती ने अग्नि में कूदकर आत्मदाह कर लिया. इस घटना से महादेव इतने क्रोधित हो गए कि उन्होंने रुद्र तांडव शुरू कर दिया. उस तांडव के चलते पूरी सृष्टि पर प्रलय जैसी परिस्थिति उत्पन्न हो गई.

तांडव से जुड़ी एक और कथा है जो बहुत रोचक है. उस कथा में ऐसा दावा किया गया है कि लंकेश्वेर रावण ने शिव तांडव की शुरुआत की थी. एक बार रावण ने भगवान शिव से मिलने के लिए लंका से कैलाश की ओर कूच किया. वे पूरे रास्ते भोलेनाथ को याद करते रहे और उनके गुणगान गाते रहे. परंतु ये वो समय था जब महादेव अपने ध्यान में मग्न थे जिसके चलते उन्हें इस बात का अहसास ही नहीं हुआ कि उनका परमभक्त उनकी प्रतीक्षा कर रहा था. रावण इस बात से आहत हो गया और उसने पूरा कैलाश पर्वत अपने हाथों से उठा लिया. इस हलचल के चलते महादेव का ध्यान भंग हो गया और उन्होंने क्रोध में आकर अपना पंजा कैलाश पर्वत के ऊपर रख दिया. अब रावण का हाथ उस पर्वत के नीचे दब गया और वो दर्द में तड़पने लगा. उसे उसकी गलती का अहसास हुआ और उसका घमंड टूट गया. अब भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए रावण ने शिव तांडव स्त्रोत गाना शुरू कर दिया. बता दें, इस संगीत के माध्यम से महादेव की महानता का बखान किया गया है. अपने लिए इतना खूबसूरत संगीत सुन महादेव रावण से प्रसन्न हो गए और उन्होंने अपना पंजा पहाड़ के ऊपर से हटा लिया. इसलिए लंकेश रावण को शिव तांडव का रचयिता  कहा जाता है.

खुशी में भी तांडव करते हैं भोले

कई लोगों को ये गलतफहमी होती है कि महादेव सिर्फ क्रोध में ही तांडव करते हैं. जब महादेव बेहद प्रसन्न होते हैं, तब भी वे तांडव करते हैं. आपको बता दें, खुशी में शिव आनंद तांडव करते है जिससे पूरा वातावरण मनमोहक हो जाता है. इसके अलावा, त्रिपुरा, संध्या, समारा, काली, उमा भी तांडव के प्रकार है जो महादेव द्वारा विभिन्न अवस्था में किए जाते हैं. तांडव के अंदर पूरी सृष्टि का सारांश समाया हुआ है. ये मृत्यु, जन्म, विनाश, रचना सभी को दर्शाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay