एडवांस्ड सर्च

Advertisement

क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?

ज्योतिषाचार्य डॉ. अरुणेश कुमार शर्मा
05 November 2019
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
1/8
टीम इंडिया के कप्तान और दुनिया के नंबर-1 बल्लेबाज विराट कोहली आज अपना 31वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं. कोहली ने अपनी क्रिकेट स्किल्स और करिश्माई बल्लेबाजी के दम पर आज जो मुकाम हासिल किया है, वो साधारण बात नहीं है. कोहली की कामयाबी के पीछे उनके भाग्य की भी बड़ी भूमिका रही है.
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
2/8
विराट कोहली वर्तमान में भारतीय और विश्व क्रिकेट के सबसे प्रभावशाली खिलाड़ी हैं. उनका सितारा अप्रत्याशित रूप से बुलंद बना हुआ है. सिल्वर स्क्रीन हो या हरी दूब का जगमगाता मैदान दोनों में उन्हें हाथों हाथ लिया जा रहा है.
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
3/8
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान को यह मुकाम स्वयं के नक्षत्र शतभिषा में मौजूद राहु ने प्रदान किया है. पराक्रम स्थान में मौजूद राहु उन्हें आक्रामक अत्याधुनिक और आकर्षक बना रहा है.
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
4/8
विराट का जन्म दिल्ली में 5 नवंबर 1988 को सुबह 10 बजकर 28 मिनट पर हुआ. उनकी कुंडली धनु लग्न की है. राशि कन्या है. दोनों राशियां क्रमशः अग्नि और पृथ्वी तत्व की हैं. उनमें उर्जा और बल का अद्भुत समावेश है.
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
5/8
लग्नस्थ शनि उन्हें जनता का चहेता बना रहा है. शत्रु भाव में गुरु उन्हें इतना प्रभावशाली पेशेवर बना रहा है कि विपक्ष इससे उनके समक्ष दबा हुआ अनुभव करता है. भाग्येश सूर्य बुधादित्य योग के साथ लाभ भाव में उन्हें ख्याति और समृद्धि प्रदान कर रहा है.
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
6/8
केतु का भाग्य स्थान में होना उन्हें मेहनतकश और आत्मविश्वासी बना रहा है. इसी कारण वे भाग्य की अपेक्षा मेहनत पर भरोसा अधिक रखते हैं. विराट की कुंडली में बेहद प्रभावकारी राहु की योगकारक महादशा वर्ष 2028 तक रहेगी. ऐसे में अच्छी संभावना है कि वे विश्व क्रिकेट को इस समय तक लगातार बेहतर सेवाएं देते रहें.
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
7/8
राहु-केतु को ज्योतिष विज्ञान में छाया ग्रह माना जाता है. इनका प्रभाव अक्सर अप्रत्याशित रहता है. विराट कोहली को इन ग्रहों की शुभता ने लीक से हटकर सोचने और प्रदर्शन करने वाला स्टार प्लेयर बनाया है.
क्या कहती है कोहली की कुंडली, आगे कितने बुलंद रहेंगे सितारे?
8/8
आधुनिक युग में डिजिटल प्लेटफॉर्म, मीडिया, स्टारडम, स्टाइलिश एटीट्यूड और डिफरेंट थिंकिंग जैसे गुण राहु-केतु के प्रभाव से और असरदार नजर आने लगे हैं. विराट इस मामले में बेहद भाग्यशाली हैं.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay