एडवांस्ड सर्च

Advertisement

बकरीद का त्योहार क्यों मनाया जाता है? ऐसे शुरू हुई कुर्बानी

aajtak.in
11 August 2019
बकरीद का त्योहार क्यों मनाया जाता है? ऐसे शुरू हुई कुर्बानी
1/6
इस्लाम धर्म का पवित्र त्योहार बकरीद या ईद-उल-अजहा 12 अगस्त को है. लेकिन क्या आपको इसके इतिहास और महत्व की जानकारी है. आइए आपको बताते हैं कि आखिर क्यों बकरीद मनाई जाती है.
बकरीद का त्योहार क्यों मनाया जाता है? ऐसे शुरू हुई कुर्बानी
2/6
इस्लाम की पवित्र पुस्तक कुरान में बकरीद का स्पष्ट वर्णन मिलता है. ऐसा बताया जाता है कि अल्लाह ने एक दिन हजरत इब्राहिम से सपने में उनकी सबसे प्रिय चीज की कुर्बानी मांगी. हजरत इब्राहिम अपने बेटे से बहुत प्यार करते थे, लिहाजा उन्होंने अपने बेटे की कुर्बानी देने का फैसला किया.
बकरीद का त्योहार क्यों मनाया जाता है? ऐसे शुरू हुई कुर्बानी
3/6
अल्लाह का हुकुम मानते हुए हजरत इब्राहिम जैसे ही अपने बेटे की गर्दन पर वार करने गए, अल्लाह ने उसे बचाकर एक बकरे की कुर्बानी दिलवा दी. तभी से इस्लाम धर्म में बकरीद मनाने का प्रचलन शुरू हो गया.
बकरीद का त्योहार क्यों मनाया जाता है? ऐसे शुरू हुई कुर्बानी
4/6
ईद-उल-जुहा यानी बकरीद हजरत इब्राहिम की कुर्बानी की याद में ही मनाया जाता है. हजरत इब्राहिम अल्लाह के हुकुम पर अपनी वफादारी दिखाने के लिए बेटे इस्माइल की कुर्बानी देने को तैयार हुए थे.
बकरीद का त्योहार क्यों मनाया जाता है? ऐसे शुरू हुई कुर्बानी
5/6
बकरीद का पर्व इस्लाम के पांचवें सिद्धान्त हज को भी मान्यता देता है. बकरीद के दिन मुस्लिम बकरा, भेड़, ऊंट जैसे किसी जानवर की कुर्बानी देते हैं. बकरीद के दिन कुर्बानी के गोश्त को तीन हिस्सों में बांटा जाता है. एक खुद के लिए, दूसरा सगे-संबंधियों के लिए और तीसरा गरीबों के लिए.
बकरीद का त्योहार क्यों मनाया जाता है? ऐसे शुरू हुई कुर्बानी
6/6
इस पर्व पर इस्लाम धर्म के लोग साफ-पाक होकर नए कपड़े पहनकर नमाज पढ़ते हैं. नमाज पढ़ने के बाद कुर्बानी की प्रक्रिया शुरू होती है.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay