एडवांस्ड सर्च

Advertisement

इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय

प्रह्लाद कुमार
10 October 2019
इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय
1/7
बिहार के दरभंगा में मां जालेश्वरी दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन बाकी सभी जगहों से थोड़ा अलग है. इस प्रतिमा विसर्जन में 24 घंटे से भी ज्यादा का वक्त लगता है और वो भी सिर्फ दो से तीन कीलोमीटर की दूरी तय करने में.
इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय
2/7
इस प्रतिमा का विसर्जन 8 अक्टूबर को किया गया था जो अभी भी मात्र आधी दूरी ही तय कर पाई है. इस प्रतिमा विसर्जन की खास बात ये है की इस मूर्ति विसर्जन की शुरुआत तो पुरुष करते हैं लेकिन कुछ घंटों के बाद ये प्रतिमा महिला जुलूस के हाथ में चली जाती है.

इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय
3/7
इस जुलुस का संचालन भी खुद महिलाएं ही करती हैं. प्रतिमा विसर्जन जुलूस में शामिल होते ही महिलाएं रात भर पारंपरिक झिझिया खेलती हैं और तरह-तरह के पारम्परिक नृत्य भी करती हैं.
इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय
4/7
वहीं जुलूस के आगे पुरुष लाठी डंडे और फरसे तलवार के नुमाइशी खेल का प्रदर्शन करते हैं. महिला-पुरुष एक साथ मिलकर इस प्रतिमा का विसर्जन करते हैं.
इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय
5/7
इस अनोखे मूर्ति विसर्जन की वजह से ही यहां के लोगों की मांग है कि इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज किया जाए.
इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय
6/7
इस मूर्ति विसर्जन के साथ एक खास मेले का भी आयोजन होता है जहां खासतौर पर चाट और कुल्फी वाले आते हैं.
इस दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन में लगता है 24 घंटे से ज्यादा का समय
7/7
दरभंगा के जाले में स्थित मां जालेश्वरी दुर्गा पूजा की स्थापना 1960 में की गई थी. यहां के लोगों ने स्थापनाकाल से चली आ रही परंपरा को अब तक बरकरार रखा है.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay