एडवांस्ड सर्च

Advertisement

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान

aajtak.in
08 November 2019
देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
1/8
श्रीहरि की उपासना की सबसे अद्भुत एकादशी कार्तिक महीने की एकादशी होती है जब श्रीहरि जागते हैं. इस दिन को देवउठनी या देव प्रबोधिनी एकादशी कहते हैं. माना जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु चार माह की लंबी निद्रा के बाद जागते हैं. हिंदू परंपराओं के मुताबिक, इस दिन भगवान विष्णु के स्वरूप शालिग्राम की शादी तुलसी से होती है. 8 नवंबर को यानी आज देवउठनी एकादशी मनाई जा रही है.

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
2/8
देवउठनी एकादशी को तुलसी विवाह की तरह भी पूजा जाता है. इस तिथि पर भगवान विष्णु और महालक्ष्मी के साथ ही तुलसी की भी विशेष पूजा की जाती है. जो लोग पूरी विधि से तुलसी विवाह संपन्न कराते हैं, उनको वैवाहिक सुख मिलता है. आइए जानते आज के दिन कैसे की जाती है तुलसी जी की पूजा.

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
3/8
एकादशी तिथि पर सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और सूर्य को जल चढ़ाएं. जल के लोटे में में लाल फूल और चावल भी डालें. इस दौरान सूर्य मंत्र ऊँ सूर्याय नम: ऊँ भास्कराय नम: मंत्र का जाप करना चाहिए.

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
4/8
भगवान विष्णु के साथ ही लक्ष्मी की भी पूजा करें. पूजा में सामान्य पूजन सामग्री के अतिरिक्त दक्षिणावर्ती शंख, कमल गट्टे, गोमती चक्र, पीली कौड़ी भी रखना चाहिए. सुबह स्नान के बाद तुलसी को जल जरूर चढ़ाना चाहिए.

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
5/8
सूर्यास्त के बाद तुलसी के पास दीपक जलाएं और उन्हें ओढ़नी यानी चुनरी पहनाएं. सुहाग का पूरा सामान तुलसी को चढ़ाएं. अगले दिन तुलसी को चढ़ाई सारी चीजें किसी गरीब सुहागिन को दान करें.

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
6/8
सूर्यास्त के बाद तुलसी के पत्ते ना तोड़ें. अमावस्या, चतुर्दशी तिथि पर भी तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए.

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
7/8
अगर तुलसी के पत्तों की बहुत जरूरत है तो वर्जित की गई तिथियों से एक दिन पहले ही तुलसी के पत्ते तोड़कर रख सकते हैं.

देवउठनी एकादशी पर ऐसे करें तुलसी पूजा, प्रसन्न होंगे भगवान
8/8
पूजा में चढ़े हुए तुलसी के पत्ते धोकर फिर से पूजा में उपयोग किए जा सकते हैं.

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay